महिला

मैंने लोगों को अपने से दूर कर दिया क्योंकि सबका यह कहना था कि दुर्व्यवहार मेरी गलती थी

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

यह घटना पैंतीस साल पहले हुई थी, लेकिन उस बारे में मुझे अब भी याद है। मैं नौ साल का एक छात्र था। एक दोपहर, जब मैं अपना लंच बॉक्स लेकर स्कूल की सीढ़ियों से नीचे उतर रहा था, तो वह नीचे गिर गया। हेडमास्टर, जिसे एक अनुशासनप्रिय व्यक्ति के रूप में जाना जाता था, मुझे देखकर बहुत गुस्सा हुए। उसने कहा कि मुझे सजा मिलने की जरूरत है, क्योंकि मैं भोजन का सम्मान नहीं करता। यह कहकर वह मुझे अपने कार्यालय में ले गया। और वहां ले जाकर मुझसे छेड़छाड़ की। 

यह यौन उत्पीड़न, अलग-अलग घटनाओं को लेकर छह वर्षों तक जारी रहा। हाँ, छह वर्षों तक।

मुझे सब कुछ याद है - डेस्क की सामग्री जिस पर वह मुझे नीचे लिटाता, उसका पेन स्टैंड, और कमरे की व्यवस्था। मुझे यह भी याद है जब मैं साहस इकट्ठा कर अपने साथ हो रही घटना को बताने एक शिक्षिका के पास गया था। उसकी प्रतिक्रिया? "मुझे यकीन है कि तुम यह सब मनगढ़ंत बना रहे हो। वह बहुत अच्छे, देखभाल करने वाले व्यक्ति हैं, वह ये सब नहीं कर सकते।"

अगले कुछ सालों में, जब-जब भी मैंने अपने साथ हो रही घटना के बारे में किसी को बताने की कोशिश की, मुझे यही शब्द या इसी तरह की बातें सुनने को मिलीं। मैं अपने माता-पिता को बताने से डरता था क्योंकि हेडमास्टर, परिवार का दोस्त और एक सम्मानित आदमी था। मेरा भाई, जो मेरे ही स्कूल में था, उसने मेरी इन परेशानियों के बारे में अफवाहें सुनीं, और स्कूल में मुझसे अलग-थलग रहने लगा। वह मुझे देखने या मेरी उपस्थिति से भी कतराता था - व्यावहारिक रूप से मैं पूरी तरह अकेला पड़ गया था।

जो कुछ मेरे साथ हो रहा था, मैंने धीरे-धीरे उस बारे में लोगों को बताना छोड़ दिया, क्योंकि लोग अज्ञानता या अनोखेपन की वजह से इसे समझने में असमर्थ थे। मैंने सोचा कि मेरे साथ जो कुछ हो रहा था इसे दूसरों को न बताने से मुझे और मेरे विचारों को इससे दूर करने में मददगार साबित होगा, जब तक कि यह यादें पूरी तरह से मन से बाहर निकल नहीं जातीं। जैसा मैंने सोचा कि मुझे भूलने में मदद मिलेगी, वैसा कभी हुआ नहीं।

इस बीच, हेडमास्टर ने मेरे माता-पिता को सुनाने के लिए एक कहानी गढ़ ली थी कि मैं एक परेशानी पैदा करने वाला छात्र हूं, सीखने की क्षमता कम है और मुझे अलग से शिक्षण की जरूरत है, जो वह मेरे लिए खुशी से प्रदान करने को तैयार हैं। मेरे माता-पिता ने उस पर विश्वास कर लिया, बिना यह समझे कि मुझे स्कूल जाना क्यों पसंद नहीं था और जब भी हेडमास्टर का नाम सुनता था तो डर से क्यों सिकुड़ जाता था।

छह साल तक प्रताड़ना का सामना करने के बाद, आखिर में, मैंने एक बार फिर किसी अन्य पर विश्वास करने का साहस इकट्ठा किया - इस बार, मैंने भरोसा किया अपने माता-पिता के एक परिवारिक दोस्त पर। यह व्यक्ति किसी हद तक प्रभावशाली थे, उन्होंने इस घटना के बारे में खुद कार्रवाई करना सुनिश्चित किया। हेडमास्टर को निकाल दिया गया था, और मुझे फिर कभी वह नजर नहीं आया। हालांकि, मुझे यह जानकर राहत मिली कि अब मुझे उस अग्नि परीक्षा का सामना नहीं करना पड़ेगा, तब भी कुछ ऐसा था जो मैं भुला नहीं पा रहा था। भावनात्मक रूप से इसने मुझे बिल्कुल भी मदद नहीं की थी। नई प्रधानाध्यापिका को बताया गया था कि मेरे साथ क्या हुआ है। वह मुझे एक तरफ ले गई और एक कागज पर लिखकर अपनी भावनाओं को व्यक्त  करने के लिए मुझसे कहा। इसके बाद वह मुझे खेल के मैदान में ले गईं और इस कागज को जला देने को कहा, ताकि पुरानी बातें भुलाकर मैं आगे बढ़ सकूं। मुझसे उम्मीद की गई थी कि ऐसा करने से वह यादें खत्म हो जाएंगी। आखिरकार, मैं सोच ही रहा था कि कोई मुझे सारे भ्रमों, क्रोध, हताशा और खीझ से निपटने में मदद करेगा - और इस तरह यह समाप्त हो गया था।

मैंने खुद को अलग कर लिया

मैं इस सबसे इतना निराश था कि मैं सिमटता गया। मैंने विश्वास करना बंद कर दिया कि अन्य कोई इस बारे में मुझसे किसी तरह की बात करने के लिए समय दे सकता है, या मेरे अनुभव पर संदेह किए बिना मुझे सुन सकता है। इस घटना का प्रभाव मेरे साथ ही रहा।

मैं जैसे-जैसे बड़ा होता गया, लगातार उदास होता गया। मुझे एहसास हुआ कि दूसरों का मुझे छूना, मुझे पसंद नहीं आता था - इससे मुझे डर लगता था। भावनात्मक रूप से मैं परिवार और दोस्तों से अलग होने लगा। मुझे एक नौकरी पाकर खुशी मिली, जो मुझे महीने में तीन हफ्तों से ज्यादा अपने घर से बाहर रखती थी। मैं बस सामान खोलने, पैक करने और वापस छोड़ने के लिए ही घर आता था। धीरे-धीरे, मैंने शराब का सेवन शुरू कर दिया। मेरे माता-पिता मेरे बारे में चिंतित होने लगे। उस समय मैं अपने अवसाद को पहचान नहीं पाया। मैंने कई बार आत्महत्या करने का प्रयास किया, और हर बार विफल हुआ।

कुछ सालों बाद, मेरे जीवन में एक और उदासी ने मुझे आ घेरा, जो काफी हद तक अकेलेपन से उपजी थी, मैंने आत्महत्या का प्रयास किया। मुझे पुलिस ने बचाया और एक परामर्शदाता के पास भेज दिया। जब मैंने अपने परामर्शदाता को गुप्त बातें बताईं, तो उन्होंने कहा, "लेकिन यह इसलिए हुआ क्योंकि आपने उसे रोका नहीं।" और अधिक पीड़ादायक कि, "ऐसा हुआ, और आपने इसे बार-बार होने दिया" दोबारा, अपमानित होते रहे। मैंने फैसला किया कि यदि यह वही परामर्श था जो उस बारे में है, तो यह मेरे लिए नहीं था। यह उन प्रतिक्रियाओं के समान था, जिनके बारे में मैंने उन लोगों से सुन लिया था, जिनके साथ मैंने अपनी कहानी साझा करने के लिए काफी भरोसा किया था - और एक सलाहकार से भी वही सब बाते सुनने से मेरी आशाएं टूट गईं।

23 साल की उम्र में, मुझे एक अप्रत्याशित व्यक्ति का समर्थन मिला - कॉलेज के एक संरक्षक, जिनसे मिलने का मुझे मौका मिला। उन्होंने हर दिन मुझसे मिलने के लिए समय निकाला और सिर्फ मेरी अपनी चिंताएं, शराब पीने और प्रताड़ना के बारे में बात करने दी। मेरे साथ क्या हुआ है उसकी गंभीरता को स्वीकार करने वाले वह पहले व्यक्ति  थे। मुझे याद है जब उन्होंने कहा था, "हाँ, तुम्हारा बलात्कार किया गया," मैं टूट चुका था। मेरे जीवन में पहली बार, मैं उस अग्नि परीक्षा को किसी ऐसे व्यक्ति  के साथ साझा कर रहा था, जिस पर मैं भरोसा कर सकता हूं, जो इस बात को समझता था कि उस घटना ने मुझे कैसे प्रभावित किया था। यह मेरे लिए बहुत ज्यादा लाभकारी था। 

दुर्भाग्य से, मेरे विश्वसनीय सलाहकार को स्वास्थ्य समस्याओं ने घेर लिया। हमारा मिलना-जुलना रुक गया। समर्थन का मेरा एकमात्र स्रोत समाप्त हो गया था। बाद में, मैं अपने कार्यस्थल पर एक परामर्शदाता तक पहुंच गया और धीरे-धीरे, बेहतर महसूस करना शुरू कर दिया, हालांकि यादें अभी भी पीड़ादायक थीं।

मदद और इसके बाद का जीवन 

मेरी शादी हुई और दो बच्चे हो गए। कई बार मैंने ठोकरें खाईं- परामर्श लेना बंद कर दिया, जीवन में कुछ असफलताओं का सामना करना पड़ा, जिसने मेरे अवसाद को बदतर कर दिया, यहां तक कि खुदकुशी का प्रयास भी किया। मैंने यह समझा कि जीवन आगे की ओर ही बढ़ता है, लेकिन मैं उस मल्लाह की तरह था, जो पीछे की तरफ मुंह कर नाव आगे चला रहा था। मैं देख सकता था कि मैं कहां था, लेकिन यह नहीं, कि मैं कहां जा रहा था। और मेरी नाव मेरे ही छोटे संस्करण द्वारा संचालित की जा रही थी। मुझे उस कल्पना की उम्मीद थी कि दूसरी तरफ का सामना करने पर जीवन कैसा होगा।

पिछली बार जनवरी 2016 में मैंने खुद को मारने की कोशिश की थी, और मैं बच गया। मैं फिर बैंगलुरू के सेंट जॉन्स हॉस्पिटल के बेहतरीन परामर्शदाताओं और मनोचिकित्सकों के एक दल के पास गया। यहां कुछ अलग महसूस किया। मैं 43 वर्ष का था, और मैं फिर से भय और असुरक्षाओं को लेकर अपने बारे में सब कुछ सीख रहा था। इसमें जादुई बिंदु यह था, जब उन्होंने मुझे यह महसूस कराने में मदद की, कि मैंने हमेशा उम्मीद बनाए रखी थी। मुझे समझ में आ गया कि परिवार के प्रति मेरी जिम्मेदारियां हैं और उनकी मदद से, फिर से रास्ते पर लौट आया।

शादी के 14 साल बाद, मैंने अपनी कहानी अपनी पत्नी के साथ साझा की, बहुत रोया। मैंने खुलकर उसे सबकुछ बताकर दुख और राहत दोनों ही महसूस की, क्योंकि मैं जानता था कि बिना किसी निर्णय के मुझे सुनेगी और स्वीकार करेगी।

हालांकि अभी भी कुछ पीड़ा और खालीपन है, लेकिन कोई क्रोध नहीं है। मैं जिस तरह की जिंदगी जी रहा हूं, उससे खुश हूं। मुझे यह समझने में लंबा समय लगा कि गलती मेरी नहीं थी। मैंने कई सारे लोगों से सुना है कि बाल यौन उत्पीड़न की घटनाएं लड़कों के साथ नहीं होती।  यह सच नहीं है। काश, मैं जान पाता कि मेरी जैसी कहानियां मौजूद हैं, और इनके बारे में बात करने की अनुमति है।

मैं चाहता था कि कोई होता जो मेरी बात सुनता, मुझे सहारा देता और कहता कि इसमें मेरी गलती नहीं है। अपनी समस्या लेकर किसके पास जाऊं, इसकी जानकारी न होने का अकेलापन मुझे याद है। मुझे लगता है कि मैं अपनी कहानी को किसी ऐसे व्यक्ति के साथ साझा कर सकता था जो भरोसेमंद हो, माता या पिता, एक शिक्षक, एक समझदार व्यक्ति जो मेरी सहायता कर सकता था। अगर केवल वे ही लोग, जिन पर मैंने भरोसा किया, वे अलग तरह, मददगार तरीके से प्रतिक्रिया व्यक्त करते तो मुझे कम अकेलापन महसूस होता। 

------------------------

जैसा कि व्हाइट स्वान फाउंडेशन को बताया गया। अनुरोध पर नामों को गोपनीय रखा गया है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org