महिला

आप कैसे दिखते हैं, इसकी परवाह किए बिना हर कोई अपना निर्णय लेता है

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

यह लेख मेरे लिए बहुत भ्रमित कर देने वाला है, क्योंकि अपने शरीर की छवि के मुद्दे के बारे में मेरी भावनाएं बहुत ही डावांडोल हैं। यह कहते हुए, मैं इसे संभव बनाने के लिए अपनी ओर से पूरी कोशिश करूंगा। एक बच्चे के रूप में, मैं कभी भी अति वजनी नहीं था और अपने शरीर के बारे में असुरक्षित नहीं था, अधिकांश बच्चे वैसे भी अपने शरीर के बारे में शर्मीले नहीं होते। लेकिन जब मैं बड़ा हुआ, तेरह साल की उम्र के आसपास, मैं थुलथुल होना शुरू हो गया। जैसे सभी मोटे बच्चों को तंग किया जाता है, वैसे ही मुझे भी स्कूल में बहुत तंग किया जाने लगा था। मैं अपने शरीर से नफरत करता था। मुझे नफरत थी उस अतिरिक्त लटकन से, जो मुझे लगता है कि अन्य 'सामान्य' बच्चों का एक हिस्सा नहीं थी। 16 साल का होते-होते,  मेरे शरीर के बारे में मेरे विचार चरम हो गए थे।

यौवन ने मुझे घने बालों वाले हाथ दे दिए। मैं अपने मोटापे से ज्यादा इन बालों से नफरत करता था। मैं इन्हें झेल नहीं सका। मैंने उन्हें मुंडा दिया, और ऐसा लग रहा था कि इसने उन्हें ज्यादा खराब कर दिया था। मेरे दोस्त और परिवार दोनों लगातार मेरे पैरों के बालों को लक्ष्य बनाए रहते थे। मैंने कभी शॉर्ट्स नहीं पहने, क्योंकि मैं उस ध्यान से डर गया था, जो इसके कारण मुझे मिलता। मैं घंटों खुद को आईने में देखकर नफरत से भर जाता था कि मैं कैसा दिखता था और मैं अपने रूप को कैसे बेहतर बना सकता था। मैंने अपने बालों को दर्दनाक तरीके से खींचकर उखाड़ दिया, जिससे त्वचा पर फोड़े हो गए, कई बार मैंने इन बालों को जलाया भी। मैं थुलथुल भी था, जिससे मेरे बड़े लटके स्तन थे, जिस कारण मुझे अपनी शर्ट उतारने में असुरक्षित महसूस होता था। हर बार जब भी मैं एक पूल या समुद्र तट पर जाता, तो शर्ट के बिना पानी का आनंद लेने के बजाय एक असुविधाजनक टी-शर्ट पहनता था। मुझे बहुत असहज लगता, अगर कोई मेरे धड़ पर छूने की कोशिश करता, क्योंकि मैं इससे नफरत करता था कि लोग मेरी कमर या मेरी छाती पर ज्यादा चर्बी की ओर इंगित करेंगे।

आखिरकार, मैं उस अद्भुत लड़की के साथ रिश्ते में आया, जिसने मेरी शारीरिक छवि की समस्याओं से निपटने में मेरी सहायता की। उसने बालों, चर्बी या किसी अन्य चीज पर ध्यान नहीं दिया। वह मुझे उसी रूप में प्यार करती थी, जैसा मैं था और उसने मुझे दिखाया कि मैं प्यार के काबिल हूं। यह बहुत मायने रखता है। मुझे गलत न समझें, उसने मुझसे कभी झूठ नहीं बोला। उसने स्वीकार किया कि मेरे घने बाल थे, लेकिन उसके लिए यह कोई मायने नहीं रखते थे। उसने कभी नहीं कहा कि मैं थुलथुल था, क्योंकि उसकी आँखों में, मैं सिर्फ गोलमटोल था और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। शायद मैं स्थूलकाय नहीं था, लेकिन मेरी नजरों में, मेरा नग्न शरीर वास्तव में बदसूरत था। उसने मुझमें क्या देखा, मैं समझ नहीं सका।

जैसे-जैसे मैं बड़ा हुआ, मेरी लंबाई बढ़ी, और मुझे दौड़ने के दौरान अच्छा लगने लगा। इस समय तक, मैंने बालों पर ध्यान करना छोड़ दिया था और ज्यादा से ज्यादा कोशिश की, कि मैं कैसे इसका सामना कर सकता हूँ। मैंने वजन कम करने के लिए 10k का प्रशिक्षण लेते हुए इस प्रक्रिया में बहुत वजन घटाया। इससे मुझे कुछ और दौड़ने के लिए प्रेरणा मिली। इन वर्षों में,  मैं धीरे-धीरे कर अपना बहुत वजन घटा चुका था और मेरी बाहें पतली हो गई थीं, लेकिन मेरे धड़ पर अब भी चर्बी की एक परत थी, जिससे मुझे प्रतिशोधात्मक घृणा थी। मैं बिना शर्ट के दर्पण के सामने खड़ा रहता और जो दिखता उससे नफरत करता और चाहता था कि यह सच न होता।

इस बीच, मेरे आसपास के लोगों ने कहना शुरू कर दिया, कि मैं कितना पतला हो गया था, और व्यंग्य !....अब मुझे कुछ वज़न बढ़ाने की जरूरत थी। ना तो मैं कम वजनी था, ना ही कुछ और। दौड़ने से मेरा चेहरा, हाथ और पैर पतले हो गए थे, जो उससे बिल्कुल अलग थे, जैसा मैं कुछ साल पहले दिखता था। अचानक, मुझे एहसास हुआ कि हर कोई अपनी निर्णयात्मक टिप्पणी देता है इसकी परवाह किए बिना कि आप किस श्रेणी पर हैं, और यह कि मुझे बाहरी धारणा के बारे में चिंता किए बिना खुद को बेहतर बनाने पर काम करना चाहिए। मैंने जिम की सदस्यता ली, हाफ मैराथन दौड़ा और अब मैं "तंदुरुस्त" हूं। एक वर्ष बाद, मुझे लगा कि वजन उठाने के बारे में मेरी कोई दिलचस्पी नहीं है और मैंने जिम छोड़ दी। मैं अक्सर दौड़ता हूं और कुछ शारीरिक व्यायाम करता हूं, इससे मैं, एक आदर्श शरीर के अपने विचार की तरफ बढ़ रहा हूं। मैं यह नहीं कहूंगा कि मैं अपने शरीर को लेकर अपने मुद्दों पर हूं ... मुझे एक लंबा रास्ता तय करना है। मैं अभी भी शर्ट उतारने से पहले संकोच करता हूं। कभी-कभी जब मैं, चर्बी बढ़ने की शिकायत करता हूं, तो लोग मुझे देखते हैं, जैसे मैं पागल हो गया हूं और मान लेते हूँ कि शायद मैं उनका ध्यान खींचने की कोशिश कर रहा हूं। लेकिन मेरी वास्तविकता बहुत भिन्न है।

यह सब कहते हुए, मैंने एक लंबा सफर तय किया है। मैं और अधिक आत्मविश्वास से भरा हुआ हूं और अपने शरीर को कुछ साल पहले की तुलना में ज्यादा अंगीकार करता हूं। शुक्र है, मैंने भोजन संबंधी किसी भी विकार को विकसित नहीं किया है। मैं अभी भी परिणाम की चिंता किए बिना अपने स्वादानुसार खाता हूं। मैं अक्सर शर्ट के बिना तैरने के लिए जाता हूं और बिना इस चिंता के कि लोग क्या सोचेंगे। मैं समुद्र तट पर एक अच्छे दिन का आनंद ले सकता हूं और अगर चाहता हूं, तो तौलिया पहने अपने घर में घूमता हूं। मुझे अपने शरीर को लेकर अपनी राय पर काम करने की जरूरत है और मैं इस पर काम कर रहा हूं। मैं मानता हूं कि मेरे अपने मुद्दों के कारण मैं उन अन्य लोगों के प्रति संवेदनशील बन गया हूं जो मोटे, घने रोएंदार या किसी अन्य विशेषता के कारण उपहास का पात्र होते हैं। मेरे शरीर को कैसा दिखना चाहिए, इसे लेकर मुझे बहुत सी आशाएं हैं, और मैं धीरे-धीरे उस ओर बढ़ रहा हूं।

कौशिक रवि कुमार बैंगलोर स्थित एक आईटी पेशेवर है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org