महिला

मुझे पीसीओएस है और मैं बहुत बदमिजाज महसूस करती हूँ। क्या मैं इस बारे में कुछ कर सकती हूँ?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) महिलाओं में प्रजनन काल के समय सबसे आम हार्मोनल विकारों में से एक है। पीसीओएस को एक सिंड्रोम के रूप में वर्गीकृत किया गया है क्योंकि यह एक विजातीय विकार हैः पीसीओएस से ग्रसित सभी महिलाओं में विकार से जुडे लक्षण नजर नहीं आ पाते हैं।

पीसीओएस के बेहतर ज्ञात और स्वीकार किए गए शारीरिक लक्षणों में अनियमित मासिक धर्म, बालों का झड़ना (अत्यधिक बाल बढना), मोटापा, मुँहासे और गंजापन शामिल है। लेकिन जिस ओर अक्सर न तो किसी का ध्यान जाता है और न ही बताया जाता है, वह यह है कि पीसीओएस से ग्रसित महिलाओं को मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का भी बड़ा खतरा रहता है।

पीसीओएस और मनोदशा का मसला

अध्ययनों से पता चलता है कि पीसीओएस से ग्रसित महिलाओं में चिंता और अवसाद जैसी मनोवैज्ञानिक बीमारियां अक्सर पता नहीं चल पाती हैं। इसका अनुभव उनके जीवन की गुणवत्ता पर एक नकारात्मक प्रभाव पैदा कर सकता है। चूंकि मन और शरीर परस्पर जुड़े होते हैं, एक में परिवर्तन दूसरे को प्रभावित कर सकता है। उदाहरण के लिए, हार्मोनल उतार-चढ़ाव जो कि पीसीओएस अनुभवी महिला में मूड बदलना या भावनात्मक अस्थिरता के बारे में भी बताता है, यह अवसाद के लक्षणों में से एक हो सकता है।

जैविक परिणामों के अलावा, पीसीओएस के मनोवैज्ञानिक और सामाजिक संबंध भी हैं, जिसके प्रबंधन में महिला को समग्र रूप से विकार से सामना करने में मदद मिल सकती है।

पीसीओएस का इलाज एक महिला से दूसरी के लिए अलग है उपचार का लक्ष्य व्यक्ति के लक्षणों का प्रबंधन करना या कम करना है। लक्षणों और उनकी गंभीरता के अनुसार उपचारों के विभिन्न विकल्प सुझाए जा सकते हैं। प्रबंधन का उद्देश्य व्यक्ति को शिक्षित करना और सहायता करना है, यद्यपि स्वस्थ जीवन शैली के महत्व पर बल देना ही इसका उद्देश्य है। औषधीय उपचार के अलावा, जीवनशैली में परिवर्तन, जिसमें स्वयं के व्यायाम एवं नियमित आहार पर ध्यान देना शामिल है, इनके द्वारा पीसीओएस के कई पहलुओं को काफी हद तक सुधारा सकता है। पीसीओएस से ग्रसित महिलाओं में उपचार की शुरूआत जीवनशैली में परिवर्तन से होती है, क्योंकि पीसीओएस के लक्षणों में सुधार और बेहतर गुणवत्तायुक्त जीवन के लिए वजन को घटाना और वजन बढ़ने से रोकना आवश्यक है।

जीवन शैली में परिवर्तन

पीसीओएस से निपटने में व्यायाम और आहार बहुत प्रभावकारी तरीके हैं, यहां तक कि वजन में 5-10% की कमी ही चयापचय, प्रजनन और मनोवैज्ञानिक लक्षणों में सकारात्मक परिवर्तन पैदा कर सकती है।

आहार में प्रतिबंधों के अतिरिक्त, व्यायाम महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे दक्षता बढ़ जाती है, जिसके कारण शरीर ग्लूकोज को पचा पाता है, इंसुलिन की कोशिकाओं की संवेदनशीलता बढ़ जाती है, और यह हाइपर एण्ड्रोजेनिज्म को कम करता है। व्यायाम छोडने के बाद भी व्यायाम का लाभ मिलता रहता है। नियमित आधार पर प्रतिरोधक प्रशिक्षण और एरोबिक अभ्यास दोनों को व्यायाम में शामिल करना चाहिए।

पारिवारिक समर्थन महत्वपूर्ण है

निराशाजनक लक्षण, चिंता, अस्वस्थ दिखते शरीर की समस्या, और नकारात्मक आत्मसम्मान सहरूग्णता की परिस्थितियों से संबंधित है जो पीसीओएस को केवल एक शारीरिक विकार से बहुत अधिक बनाते हैं। वास्तव में, जैसी कि ऊपर चर्चा की गई है, पीसीओएस में बहुत मनोसामाजिक संकेत होते हैं इसलिए, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक क्षेत्रों में दिखने वाले लक्षणों का प्रबंधन करने के लिए, उनके आसपास के लोगों की सहायता की जरूरत होती है।

  • अधिकांश महिलाओं ने बताया कि कई बार लोग अपने पीसीओएस के लक्षणों को बहुत गंभीरता से नहीं लेते हैं दूसरी ओर कुछ महिलाएं भी बांझपन के आसपास केंद्रित लक्षणों या गर्भ धारण करने में असमर्थता से जुड़े कलंक का अनुभव करती हैं। यही कारण है कि, यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि महिला और उसके सहायक सदस्य इस स्थिति के बारे में पढ़ें और उन समस्याओं के बारे में एक चिकित्सक या परामर्शदाता से बात करें, जो वे अनुभव करती हैं और इससे वह पीसीओएस के बारे में किसी मिथक को भी दूर कर सकती हैं।
  • पीसीओएस के प्रबंधन में परिवार के सदस्य और दोस्तों का सहयोगी नेटवर्क उसी तरह महत्वपूर्ण है जिस तरह यह किसी भी अन्य परिस्थिति में होता है, और अधिक इसलिए क्योंकि पीसीओएस के साथ महिला मानसिक रूप से परेशान रहती है। किसी से बात करना, कि वे कैसा महसूस कर रहे हैं (जैसे मूड में परिवर्तन या उदास होना संबंधित लक्षण हैं) या भविष्य में होने वाले पीसीओएस के प्रभाव के बारे में बात करना (जैसे, प्रजनन क्षमता और गर्भाधान से संबंधित समस्या) आदि से उन्हें पीसीओएस के विभिन्न चरणों को समझने में मदद मिलेगी, जो बदले में उन्हें स्वयं की समस्याओं से बेहतर ढंग से निपटने में मदद करेगा।
  • पीसीओएस के प्रबंधन में पेशेवर चिकित्सक और स्त्री रोग विशेषज्ञों की भूमिका का बडा महत्व है। उन्हें एक संवेदनशील तरीके से निदान के बारे में सूचित करने की जरूरत है, केवल पीसीओएस से ग्रसित व्यक्ति को ही नहीं बल्कि परिवार को भी इस बारे में जानकारी दें, और उपचार के विभिन्न चरणों के दौरान उनकी सहायता करें।
  • हालिया अध्ययनों से पता चला है कि पीसीओएस के प्रबंधन में मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों जैसे कि परामर्शदाता एवं मनोवैज्ञानिकों की जरूरत है।
  • पीसीओएस के लक्षणों के प्रबंधन में स्वयं की देखभाल को भी प्रभावी माना गया है। जीवनशैली में संशोधन के अलावा, यह आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की अच्छी देखभाल करने में भी बेहद मददगार होगा। वर्तमान शोध से पता चलता है कि भारत सहित लगभग सभी देशों में अब ऑनलाइन सहयोगी समूह हैं जो पीसीओएस से ग्रसित महिलाओं से उनकी समस्या के बारे में चर्चा करते हैं और अपने मुद्दों को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने के लिए एक-दूसरे को प्रोत्साहित करते हैं।

संदर्भः

1. विलियम्स शेफील्ड एंड निब, 2015

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org