मनोवैज्ञानिक अक्षमता क्या है?
कानूनी मुद्दे

मनोवैज्ञानिक अक्षमता क्या है?

अम्बा सालेलकर

पिछली शताब्दी में विकलांगता की धारणा और समझ नाटकीय रूप से बदल गई है। परंपरागत रूप से, अक्षमता का केंद्र व्यक्ति विशेष पर रहा है - और इसका मतलब है कि ध्यान दुर्बलता पर रहा है।

तो आइए शुरू करें - दुर्बलता क्या है? मानसिक स्वास्थ्य के संदर्भ में, हम दुर्बलता को किसी प्रकार के 'मानसिक विकार' की पहचान देंगे - जो किसी सामान्य निदान तक सीमित नहीं है, पर वह भी जो मानसिक विकार की परिभाषा के अंतर्गत आता है - एक परिभाषा जो किसी भी तरह से तय नहीं है। नैदानिक और सांख्यिकीय नियमावली के पांचवें संस्करण में दी गयी परिभाषा के अनुसार:

"मानसिक विकार एक लक्षण होता है जो किसी व्यक्ति की संज्ञान, भावनात्मक विनियमन, या व्यवहार में चिकित्सीय रूप से एक महत्वपूर्ण उत्तेजना है जो मानसिक कार्यप्रणाली के तहत मनोवैज्ञानिक, जैविक या विकास प्रक्रियाओं में एक असफलता को दर्शाता है। मानसिक विकार आमतौर पर सामाजिक, व्यावसायिक, या अन्य अहम गतिविधियों में अर्थपूर्ण संकट से सम्बंधित होते हैं। एक सामान्य तनाव या हानि, जैसे की किसी प्रियजन की मौत, के परिणामस्वरूप अपेक्षाकृत या सांस्कृतिक रूप से अनुमोदित प्रतिक्रिया मानसिक विकार नहीं है। सामाजिक रूप से विचलित व्यवहार (उदाहरण के लिए, राजनीतिक, धार्मिक, या यौन सम्बन्धी) और विवाद जो मुख्य रूप से व्यक्ति और समाज के बीच होते हैं, मानसिक विकार नहीं होते हैं जब तक की ऐसा व्यवहार ऊपर वर्णित अक्षमता या विवाद का परिणाम न हो।"

यदि हम इसे किसी मानसिक विकार या किसी दुर्बलता के रूप में स्वीकार करते हैं, तो यह स्वयं में विकलांगता नहीं है। विकलांगता एक अंतर्निहित स्थिति नहीं है, लेकिन यह दो चीजों की पारस्परिक क्रियाओं का परिणाम है - दुर्बलता, और इसके आसपास मौजूद बाधाएं। ये बाधाएं क्या है? जाहिर है, हर व्यक्ति को अपने दैनिक जीवन में विभिन्न बाधाओं का सामना करना पड़ता है, अन्यथा दावा करने के लिए पर्याप्त विशेषाधिकार वाले व्यक्ति को ढूंढना दुर्लभ होता है। तो क्या हर व्यक्ति विकलांग है?

यहां प्रासंगिक बाधाएं वे हैं जो सबसे पहले, व्यक्ति की दुर्बलता को प्रभावित करती हैं। मानसिक विकार वाले व्यक्ति को क्या बाधाएं आ सकती हैं? देखभाल की प्राप्ति उनमें से एक हो सकती है। परिवार के सदस्यों और नियोक्ताओं की समझ की कमी एक और बाधा हो सकती है। भीड़ वाले सार्वजनिक परिवहन भी एक बाधा हो सकती है। ये किसी भी व्यक्ति की दुर्बलता से सीधे संबंधित होता है।

दूसरा, इन बाधाओं के परिणामस्वरूप एक ऐसी स्थिति विकसित हो जाती है जिसमे पीड़ित व्यक्ति समाज में पूर्ण और प्रभावी रूप से भागीदारी का आनंद लेने में असमर्थ हो जाता है। देखभाल की कमी का मतलब है कि, अन्य लोगों के विपरीत जिन्हे अन्य स्थितियों में देखभाल की आवश्यकता होती है, एक व्यक्ति संतुष्टिपूर्ण काम करने के लिए अपनी स्थिति को सँभालने में असमर्थ है। समझ की कमी का मतलब है कि एक व्यक्ति को वह सहायता और स्थान नहीं दिया जा रहा है जो उसे अपने परिवार के सदस्यों और सहयोगियों के समान काम करने में आवश्यक हो सकता है। भीड़ वाले सार्वजनिक परिवहन का मतलब है कि उन्हें निजी परिवहन के लिए, अन्य लोगों के विपरीत, अतिरिक्त लागत का भुगतान करना पड़ता है।

यह अक्षमता का सामाजिक आदर्श है, जो की ध्यान को एक दुर्बल व्यक्ति के बजाय उन सामाजिक और अन्य बाधाओं पर केंद्रित करता है जो एक व्यक्ति को अन्य लोगों के समान जीवन व्यतीत करने से रोकता है। इसलिए, मुद्दा एक व्यक्ति की दुर्बलता को ठीक करना नहीं है, बल्कि इसे मानव विविधता के एक हिस्से के रूप में स्वीकार करना है, और एक व्यक्ति की जरूरतों को समायोजित करने के तरीकों पर काम करना है, जिसके निर्णय में उनकी भी हिस्सेदारी हो।

अम्बा सालेलकर चेन्नई में स्थित एक वकील है। विकलांगता सम्बंधित कानून और नीति में ये विशेष रुचि रखती हैं। 

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org