किशोरावस्था

उधेड़बुन से भरी किशोरावस्था

डॉ श्यामला वत्स

'अचानक, दुनिया बहुत बड़ी हो गई; उस खगोलीय अर्थ में नहीं, जिसके बारे में पिछले कई वर्षों से मैं जागरूक और विस्मित होता रहा हूं; बल्कि मुझे ऐसा महसूस हुआ कि अचानक वह बुलबुला फट गया है, जिसने मुझे घेरा हुआ था। इसने मुझे मर्मस्पर्शी, मादक हवा में छोड़ दिया था।'

यह पंक्तियां उस किशोर द्वारा लिखी गई थीं, जिसे मैं अच्छी तरह से जानती हूं। बच्चे से किशोर बन जाने को खूबसूरती से प्रतिबिंबित करती इन पंक्तियों में सभी प्रकार की अमूर्त, रोमांचक भावनाओं के अहसास को दर्शाया गया है। विचारों और भावनाओं, लोगों और प्रौद्योगिकी और इस दुनिया की विशालता में जो कुछ भी होता है, उसके बारे में जागृत होना। एक ऐसी दुनिया जो सिर्फ भौतिक सीमा से बंधी नहीं है।

पहली बार, चीजें काले या सफेद नहीं हैं; जीवन के हर क्षेत्र में विकल्प चुनते समय धुंधलके की एक पूरी श्रृंखला का सामना करना पड़ता है। अपनी मान्यताओं, दोस्तों, यहां तक कि जिन कपड़ों को अभिव्यक्ति के लिए चुनते हैं, वे अब दोहरे मापदंड वाले नहीं हैं। आपके मौजूदा मानदंडों पर सवाल उठाए जाते हैं, क्योंकि पहचान बनाने के लिए आपकी अपनी मान्यताएं बनाना महत्वपूर्ण हो जाता है। 

यहां तक कि सबसे आत्मविश्वासी किशोर में भी खुद के बारे में संदेह छिपा होता है। हालांकि अपने साथियों के साथ प्रतिस्पर्धा और तुलना करना ऊपरी तौर पर दिखाई दे सकता है, जो अनिवार्य भी है, क्योंकि यह देखने का एक सामान्य तरीका है कि आप बाकी सभी के मुकाबले कहां खड़े हैं। आप इस पैमाने पर खुद को कहां रखते हैं, इसी आधार पर आप सफलता या विफलता महसूस करते हैं। आत्मविश्वास महसूस करने के लिए उपलब्धि की भावना आवश्यक है, एक धारणा है कि आप महत्वपूर्ण हैं, आपका जीवन मायने रखता है। यही मानसिक कल्याण है। यदि इसमें समझौता किया गया, तो आप चिंता और अवसाद जैसी नकारात्मक भावनाओं से ग्रसित हो जाते हैं और आप टूट सकते हैं, बिखर सकते हैं।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि शारीरिक स्वास्थ्य के मुकाबले मानसिक स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। जब चीजें गलत होती हैं – जैसा कि कई बार होता है – तब अपने माता-पिता से बात करना जरूरी है। वास्तव में अगर अपने माता-पिता के साथ आपका संबंध प्रेमपूर्ण और विश्वासपूर्ण है तो यह सबसे अच्छी बात है। आपका कल्याण उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण है, भले ही वे हमेशा आपकी हर हरकत से सहमत न हो। यदि, किसी कारण से आप ऐसा नहीं कर पाते हैं, तो किसी ऐसे समझदार व्यक्ति से बात करें जिस पर आप भरोसा करते हैं, या मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से मिल सकते हैं।

यहां, मैं एक किशोरी की अपने जीवन की धारणा साझा करना चाहता हूं:

टीनेजर होना बहुत मुश्किल समय है। बड़े लोग आपसे कई चीजों की लगातार उम्मीद करते हैं और उच्च सफलता प्राप्त बच्चों की तरह बन जाने के लिए उन्हें उदाहरण के रूप में प्रस्तुत करते हैं। लोग अविश्वसनीय रूप से इस तरह व्यवहार करते हैं, जैसे आपकी मान्यताएं आसानी से मूल्यांकित की जा सकती हों। ऐसा लगता है कि कुछ तो इस दबाव में ही बिखर जाएंगे।

अन्य लोगों को छोड़ भी दें, तो यह आपके अपने दिमाग में चलने वाला एक तनावपूर्ण समय है। क्या आप लगातार किसी और से अपनी तुलना करते हैं? आपके द्वारा चुना गया कोई भी क्षेत्र हो, क्या हर क्षेत्र में आप एक प्रत्याशित अविश्वसनीय प्रतिद्वंद्वी से अपनी तुलना करते हैं और फिर खुद को बेकार समझते हैं? मैं कभी-कभी ऐसा करती हूं, यह वास्तव में थकाऊ है। हालांकि ईमानदारी से, कोई भी ऐसा नहीं होगा, जो पूरी तरह से ऐसा सोचने से खुद को रोक पाता होगा।

आप अपने जीवन के साथ क्या करना चाहते हैं? आपके लिए 'सफलता' और 'विफलता' का क्या अर्थ है? इन फिसलन भरी वास्तविकताओं में आपकी अपनी परिभाषाओं के साथ रहना मुश्किल है, खासकर यदि ये आपके माता-पिता के साथ टकराव पैदा करती हैं।

फिर, नैतिक दुविधाएं भी हैं। विचारों का यह बांध आपको उस वक्त बुरी तरह प्रभावित करता है, जब आपका स्कूल का वर्कलोड बढ़ जाता है। यदि आप इसमें फिट नहीं बैठ पा रहे हैं क्योंकि नैतिक रूप से आप गलत चीजें नहीं करना चाहते हैं तो आप खुद को अकेला और अलग महसूस करते हैं। आप हताश हो सकते हैं क्योंकि साथियों के दबाव में पीछे हट जाने और चीजों को हाथ से फिसलने पर आप स्कूल में सहज नहीं रह सकते हैं।

लोग और स्थितियां काली या सफेद नहीं हैं; वे भी धुंधली और भ्रामक हो सकती हैं। मेरी धारणाएं काफी हद तक क्रांतिकारी थीं और मुझे अभी भी इस बात पर यकीन नहीं है कि बहुत सी चीजें पूरी तरह से गलत हैं, जैसा कि बड़े लोग उन्हें चित्रित करते हैं। मुझे इस पर भी यकीन नहीं है कि हर बार सिर्फ बड़े लोग ही सही होते हैं।

मेरी समस्याएं कभी कभी अनसुलझी और चौंधियानेवाले लगते हैं। हो सकता है कि मुझे ऐसा इसलिए महसूस होता है क्योंकि ये सारी समस्याएं मेरे दिमाग में घूम रही हैं और गूंज रही हैं। लेकिन कभी कभी मैं सोचती हूं – क्या किशोरावस्था ऐसी ही लगती है?

यह सिर्फ एक लड़की की कहानी है। मुझे यकीन है कि प्रत्येक किशोर अपने व्यक्तिगत लेंस के माध्यम से जीवन को देखता है और उसके पास ऐसे प्रश्न होते हैं जिनके उत्तर की आवश्यकता होती है। अगले कुछ हफ्तों में यह कॉलम किशोरों के मानसिक कल्याण से संबंधित मुद्दों को हल करने का प्रयास करेगा।

डॉ श्यामला वत्स बैंगलोर स्थित एक मनोचिकित्सक हैं जो बीस साल से अधिक समय से प्रैक्टिस कर रही हैं। अगर आपके पास कोई टिप्पणी या प्रश्न हैं जो आप साझा करना चाहते हैं,तो कृपया उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिखें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org