किशोरावस्था

साइकोसिस: वास्तविकता से संबंध न होना

डॉ. श्यामला वत्स

यूके में पढ़ रही 20 वर्षीय भारतीय लड़की श्रद्धा ने देर रात अपनी मां को चिल्लाते हुए फोन किया कि कोई उसे मारने की कोशिश कर रहा था। उसने कहा कि उसके कंप्यूटर को हैक कर लिया गया है, और हैकर ने कंप्यूटर के माध्यम से उससे बात की। उसने उससे व्यस्त यातायात वाली सड़क पर भाग जाने को कहा है क्योंकि वह जीने के लायक नहीं थी। कभी-कभी वह उसे अश्लील नाम से पुकारता और उसका मज़ाक उड़ाता है।

श्रद्धा ने जब यूके में स्नातक पाठ्यक्रम शुरू किया था, तब उसने दो अन्य लड़कियों के साथ एक फ्लैट साझा किया था। सब कुछ ठीक था और लड़कियां अच्छी दोस्त बन गई थीं। छह महीने पहले उसे यह शक होना शुरू हुआ कि उसकी फ्लैटमेट उसकी जासूसी कर रही हैं। इसलिए वह अपने कमरे में छिपकर रहने लगी,  दरवाजा बंद कर और पर्दे लगाकर। खाना पकाने के लिए रसोई में जाने और नहाने के लिए बाथरूम जाने से वह बचने लगी थी, स्वास्थ्य और स्वच्छता को उसने उपेक्षित कर दिया था। उसने कक्षाएं अटेंड करना और परीक्षाएं देना भी बंद कर दिया था। और इससे उसके ग्रेड्स  बुरी तरह प्रभावित हुए। अंत में,  वह अकेले रहने के लिए एक छोटे से फ्लैट में चली गई। उसने अपने माता-पिता को इस कदम के बारे में एक विश्वसनीय कारण बताते हुए सूचित किया था, इसलिए उन्हें किसी भी तरह उसके अस्वस्थ होने पर संदेह नहीं हुआ।

उस फोन कॉल के बाद,  घबराई हुई उसकी मां ने पहली फ्लाइट पकड़ी और उसे घर ले आईं।

एक या दो दिन बाद वह अपनी मां के साथ परामर्श के लिए आई। जब उसकी मां वास्तविकता बता रही थी, श्रद्धा अपनी कुर्सी पर चुपचाप बैठी पूरी तरह से थकी हुई और खाली दिख रही थी। मां की बात में उसने न तो कुछ जोड़ा और न ही किसी प्रकार का विरोधाभास किया। उसे इस बात से भी मतलब नहीं ता कि वह कहां थी, या किसके साथ थी। जब मैंने उससे एक साधारण सा सवाल पूछा कि- क्या वह अच्छी तरह से सो रही थी? - उसने केवल एक अजीब सी नजर मुझ पर डाली, लेकिन जवाब नहीं दिया। वह पूरी तरह से कहीं और लग रही थी।

यह मनोवैज्ञानिक क्लीनिक में एक असामान्य प्रस्तुति नहीं है। श्रद्धा द्वारा अनुभव किए गए सभी लक्षण विशिष्ट थे:

• मतिभ्रम - उसने एक आवाज सुनी, जो उसे कुछ कह रही थी

• भ्रांति - वह पूरी तरह से मानती थी कि उसका कंप्यूटर हैक किया गया था, यह भी कि उसके दोस्त उसकी जासूसी कर रहे थे

• उथल-पुथल - जिस तरह से उसने जीना शुरू कर दिया था, खुद की उपेक्षा कर रही थी, चीजों को करने के लिए प्रेरणा की कमी थी

• सामाजिक अलगाव, सामान्य भावनाओं की कमी,  बातचीत का अभाव

जब लोग अपने परिवार के सदस्य या किसी ऐसे दोस्त को लाते हैं जो इस खौफनाक अनुभव से गुजर रहा होता है तो वे आमतौर पर इसे घबराहट से होने वाले किसी विकार के रूप में बताते हैं। मनोवैज्ञानिक अनुशासन में इसे केवल एक तीव्र मनोवैज्ञानिक एपिसोड कहा जाता है, जिसका अर्थ यह है कि अचानक ऐसा कुछ (तीव्र) हुआ है, ऐसे लक्षण, जो भ्रम और भ्रांति के लक्षण हैं, जो वास्तविकता (मनोवैज्ञानिक) से संबंध में कमी दर्शाता है और यह अस्थायी (प्रकरण) हो सकता है। ।

कभी-कभी लोग अनिद्रा के विकार के साथ आते हैं, साथ ही हल्के मनोवैज्ञानिक लक्षणों जैसे कि पड़ोसियों या सहकर्मियों के इरादों पर संदेह करना। ये संदेह पूरी तरह तर्कहीन या अस्पष्ट होते हैं। अवचेतन स्तर पर इस बदलाव का भान होना, एक ऐसी भावना कि कुछ सही नहीं है। इसे प्रोड्रोमल फेज कहा जाता है। पूरी तरह लक्षण विकसित होने से कुछ महीने पहले एक प्रोड्रोमल फेज आना सामान्य है। यदि श्रद्धा को चार या पांच महीने पहले दिखा दिया जाता तो एक नैदानिक स्थिति स्पष्ट हो सकती थी। अगर उसकी मानसिक स्थिति की जांच हफ्ते में एक बार किसी मनोचिकित्सक द्वारा की जाती, तो इलाज पहले शुरू हो सकता था, और इस स्थिति से बचा जा सकता था।

जब इस तरह के व्यक्ति को अस्पताल में पहली बार देखा जाता है तो पूरा ध्यान एंटीसाइकोटिक दवाओं के साथ मनोवैज्ञानिक लक्षणों को नियंत्रित करने पर होता है। हालांकि, किशोरावस्था में मनोवैज्ञानिक लक्षणों के साथ अन्य विकार भी मौजूद रहते हैं, इसलिए कुछ महीनों तक इंतजार करना और देखना कि क्या होता है यह आवश्यक है। ये विकार अपेक्षाकृत दुर्लभ ही होते हैं,  उदाहरण के तौर पर अस्थायी लोब के ट्यूमर, चयापचय संबंधी बीमारियां जैसे कॉपर मेटाबोलिजम,  किसी प्रकार की मिर्गी  आदि। यहां तक ​​कि सिर की कोई ऐसी चोट जिसे लगते समय गंभीर नहीं माना जाता है, वह भी कुछ दिनों या महीनों बाद इसी तरह के लक्षण पैदा कर सकती है। इनका पता केवल नियमित समीक्षाओं और उचित जांच द्वारा ही लगाया जा सकता है। निर्धारित उपचार का पालन करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि डॉक्टर का अगला कदम दवा के प्रति रोगी की प्रतिक्रिया और प्रगति का आकलन करने के लिए उपयोग किए जाने वाले अन्य मानकों पर निर्भर करता है।

प्रारंभिक हस्तक्षेप अनिवार्य है। पहली बात यह कि, इससे पूरी तरह ठीक होने संभावनाएं बढ़ती हैं। दूसरा,  इसके ये लाभ हैं:

• उपचार का अच्छा असर और बीमारी लौटने के जोखिम कम होना

• स्कूल, कार्यस्थल और सामान्य जीवन में जल्द वापसी

• सामाजिक कौशल, पारस्परिक संबंधों में किसी तरह का नुकसान न होना

• अस्पताल में भर्ती होने की कोई ज़रूरत नहीं

• आत्महत्या का जोखिम (जो कि मतिभ्रम की वजह से हो सकता है, जैसा कि उपर्युक्त मामले में हो सकता है) कम होना

• परिवार के सदस्यों के तनाव में कमी

इस श्रृंखला में डॉ. श्यामला वत्स इस तथ्य पर प्रकाश डालती हैं कि किशोरावस्था में होने वाले परिवर्तन शुरुआती मानसिक समस्याओं पर पर्दा डाल सकते हैं। ये लेख दिखाते हैं कि किस तरह मानसिक विकार के शुरुआती लक्षणों को किशोरावस्था के सामान्य व्यवहार के रूप में लिया जा सकता है। जैसा कि इन युवा लोगों की कहानियों से स्पष्ट है, जिन्होंने अनावश्यक रूप से पीड़ा झेली। जब किसी का व्यवहार सामान्य सीमा से बाहर होता है, तो दोस्तों एवं परिवार को इसकी पहचान करना और चीजें नियंत्रण से बाहर निकलें उससे पहले मदद लेना महत्वपूर्ण होता है।

डॉ श्यामला वत्स बैंगलोर स्थित एक मनोचिकित्सक हैं जो बीस साल से अधिक समय से प्रैक्टिस कर रही हैं। अगर आपके पास कोई टिप्पणी या प्रश्न हैं जो आप साझा करना चाहते हैं, तो कृपया उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिखें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org