बचपन

शोषण के बाद: बेहतर भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए लचीलापन लाना

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

लचीलापन चुनौतियों का सामना करने में भी हमारी क्षमता को बढ़ाता है। हम जितना अधिक लचीले होते हैं हम प्रतिकूल जीवन परिस्थितियों के अनुकूलन करने में उतना ही अधिक सक्षम होते हैं। अपने बचपन में जो बच्चे यौन दुर्व्यवहार का सामना करते हैं वे कुछ मानसिक बीमारियों के प्रति कमजोर होते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि केवल यही एक निर्धारण कारक है। एक सुरक्षित और प्रेमपूर्ण माहौल प्रदान करके, बच्चे के माता-पिता और परिवार बच्चे की बेहतर होने की क्षमता, मानसिक भलाई, और उसके माध्यम से, अपने जीवन की प्रतिकूल परिस्थितियों का सामना करने की क्षमता बढ़ा सकते हैं।

यौन उत्पीड़न झेलने वाले बच्चे के माता-पिता या देखभाल करनेवाले के रूप में, आप उन्हें लचीलापन लाने में मदद कर सकते हैं:

उनकी भावनाओं को पुष्ट करें "रोओ मत" या "इसे भूल जाओ" कहने से बचें। स्वीकार करें कि स्थिति के कारण वे दुखी, भयभीत और आहत महसूस कर सकते हैं। उन्हें पुन: आश्वस्त करें कि इस तरह से प्रतिक्रिया करना बिल्कुल सामान्य है। उन्हें प्रोत्साहित करें कि वे बताएं कि कैसा महसूस कर रहे हैं।

नियमित दिनचर्या बनाए रखें छोटे बच्चे तब सुरक्षित महसूस करते हैं जब उनके जीवन में एक संरचना होती है। सुनिश्चित करें कि आप महत्वपूर्ण अनुष्ठान जारी रखें जिसका बच्चे के लिए बहुत कुछ मतलब है - चाहे वह उन्हें सोने से पहले कहानी सुनाना हो, या हर रात उनके साथ भोजन करना हो।

• मित्रों और परिवार के साथ मजबूत बंधन बनाने में मदद करें, जिन पर वे भरोसा कर सकते हैं। 

• उन्हें समझने में सहायता करें कि यौन उत्पीड़न अतीत की बात है ताकि उन्हें फिर से उत्पीड़ित किए जाने के डर में न रहना पड़े। उन्हें उठाए गए उन कदमों के बारे में बताएं जो आपने यह सुनिश्चित करने के लिए उठाए हैं कि उत्पीड़न फिर से नहीं हो पाए।

• उन्हें लक्ष्यों को निर्धारित करने में मदद करें और योजना बनाएं कि वे कैसे उन्हें प्राप्त करेंगे। लक्ष्य छोटे, प्राप्त करने योग्य, हो सकते हैं, जिससे बच्चे को यह समझने में सहायता मिलती है कि वे अपने कार्यों पर नियंत्रण कर सकते हैं।

• बच्चे के साथ किए गए किसी भी वादे को बरक़रार रखें ताकि वे समझ सकें कि वयस्क विश्वसनीय हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: दुर्व्यवहार से पीड़ित बच्चों की देखभाल करना – क्या करें और क्या न करें

• तनाव से दूर रहने में बच्चे की मदद करें। उन्हें उत्पीड़न करने वाले या अन्य लोग, जो उत्पीड़न की यादें वापस ला सकते हैं, से दूर रहने में मदद करें। बच्चे को अलग/नयी जगह पर ले जाने की कोशिश करें।

• बच्चे को आत्मसम्मान और आत्मविश्वास जगाने में मदद करें उन्हें याद दिलाएं कि उन्होंने पहले भी कई बार चुनौतियों का सामना किया है और आपको विश्वास है कि वे इस स्थिति को भी संभालने में सक्षम हैं। साथ ही, उन्हें आश्वस्त कीजिए कि यदि उन्हें ज़रूरत हुई और उन्होंने चाहा तो आप उन्हें समर्थन देने के लिए वहां हैं।

• उन्हें बहुत समर्थन, प्रेम और स्नेह प्रदान करें उन्हें जानने दें कि वे प्यारे हैं और उनकी देखभाल की जा रही है।

• बच्चे को पता चलने दें कि यदि स्थिति फिर से आती है तो वे क्या कदम उठा सकते हैं। उन्हें फिर से आश्वस्त करें कि वे आपके पास यह प्रबंधन करने के लिए मदद लेने आ सकते हैं। और यह भी है कि अगर वे तुरंत आप तक पहुंच नहीं पा रहे हैं तो अन्य तरीके (बाल हेल्पलाइन को काल करना आदि) अपना सकते हैं। यदि बच्चा बड़ा है, तो उन्हें कुछ सरल आत्मरक्षा के तरीके बताने से स्वयं पर उनका आत्मविश्वास बढ़ सकता है, और उन्हें समझने में मदद कर सकता है कि वे खुद का ख्याल रख सकते हैं।

• पेशेवर मदद के लिए बाहर निकलें।  

संसाधन:

http://www.apa.org/helpcenter/resilience.aspx

https://www.childwelfare.gov/pubPDFs/parenting_CAN.pdf 

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org