बचपन

क्या आप अपने बच्चे को बिना सजा दिए अनुशासित कर सकते हैं?

मौल्लिका शर्मा

इस श्रृंखला में अपने पिछले लेख के बारे में जैसा कि मैं सोच रहा था, मुझे एक पाठक से सवाल मिला, जो कि उसमें एकदम फिट है जिसे मैं कवर करने की योजना बना रहा था और इसने मेरे इरादे को पक्का कर दिया- विषय बना प्रभावी अनुशासन। पाठक का प्रश्न इस तरह था: यदि बच्चे शरारती हैं, पढाई  में दिलचस्पी नहीं है या लापरवाह चरित्र के हैं, हम पिटाई करके या उनके भविष्य के बारे में थोड़ा डराकर उन्हें सज़ा देने के लिए बाध्य होते हैं। यदि समस्याग्रस्त बच्चों को सुधारने का कोई वैकल्पिक उपाय है, तो कृपया हमारा मार्गदर्शन करें।

मैं गलत धारणा साफ करते हुए अनुशासन और सज़ा के बीच अंतर को उजागर करके शुरू करना चाहता हूं। अक्सर माता-पिता इन शब्दों को एक दूसरे के स्थान में प्रयोग करते हैं; हालांकि, वे मूलभूत रूप से अलग हैं। सजा का लक्ष्य पिछले दुर्व्यवहार के लिए एक बच्चे को दंडित करना है। दूसरी तरफ, अनुशासन का लक्ष्य, भविष्य के व्यवहार को आकार देना है। हम अक्सर यह अंतर कुछ भूल जाते हैं क्योंकि हम सजा को यथासंभव दर्दनाक बनाने की कोशिश करते हैं, यह सोचकर कि भविष्य के व्यवहार को आकार दे रहा है। जब हम इस अंतर को समझते हैं, तो सजा को दर्दनाक होने के आधार को ही खिड़की से बाहर फेंक दिया जाता है। 
चूंकि अनुशासन भविष्य के व्यवहार को आकार देने के बारे में है, हमें यह स्पष्ट होना चाहिए कि हम किस विशिष्ट व्यवहार को संशोधित करने की कोशिश कर रहे हैं, और आदर्श व्यवहार जिसे हम प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं। हमें यह भी समझने और पहिचानने की ज़रूरत है कि आपके बच्चे के लिए सबसे प्रभावी परिणाम क्या होगा। यह सभी स्थितियों में एक ही चीज़ से काम चलने का मामला नहीं है। जो एक बच्चे के लिए प्रभावी हो सकता है, वह दूसरे पर पूरी तरह अप्रभावी हो सकता है। यदि कोई बच्चा टीवी देखने में आनंद लेता है, तो प्रभावी परिणाम टीवी देखने के समय में कटौती हो सकता है। हालांकि, अगर कोई बच्चा टीवी को बिल्कुल नहीं देखता है, तो स्पष्ट रूप से इसका कोई प्रभाव नहीं होगा।  
सज़ा के कारण शारीरिक दर्द की तीव्रता की कोई प्रासंगिकता नहीं है। व्यवहार बदलता है जब बच्चे जानते हैं कि 'नियम' का पालन करना ही है उन्हें पता है कि यदि वे 'नियम' का पालन नहीं करते हैं, तो उन्हें निश्चित रूप से एक सज़ा का सामना करना होगा, और पहले से पता है कि सज़ा क्या होगी। सज़ा में मिले दर्द की तीव्रता के कारण सीखना नहीं होता है, बल्कि इसके प्रवर्तन की निश्चितता और आवृत्ति के कारण होता है। यह बहुत सरल और सीधा- साधा दिखता है। लेकिन आपको आश्चर्य होगा कि कितने ही माता-पिता अपने बच्चों को बिना कि सही और गलत क्या है उनके बारे में यह माने रहते हैं कि उनको पता है। इसके बाद, वे सज़ा को तब लागू करते हैं जब उनके पास ऊर्जा और समय होता है, और अपनी मनोदशा के आधार पर यादृच्छिक तरीके से सज़ा देते हैं।  
परिभाषा के अनुसार, बच्चे, वह सीमा देखते हैं कि कितनी दूर वे जा सकते हैं, जैसा कि वयस्क करते हैं। कितनी बार हम ट्रैफिक सिग्नल पर लाल बत्ती पार करते हैं, कि अगर हम इसके साथ निकल सकते हों, बहुत हद तक यह तय है कि 10 में से 9 बार, हमें किसी भी तरह की सज़ा का सामना नहीं करना पड़ेगा? अगर हमें यह तय रूप से पता हो कि हर बार जब हम लाल बत्ती कूदते हैं, तो हमें हर्जाने का भुगतान करना पड़ेगा, तो हम वह मौका नहीं लेगे क्योंकि वह एक मिनट जो हम बचाएंगे वह हर्जाने के मुकाबले शायद ठीक नहीं होंगे। खैर, जब यह बात हमारे बच्चों पर आती है, तो हम उम्मीद करते हैं कि उन्हें नियमों को जाने बिना, उनका पालन करें, बिना परिणाम के बारे में जाने और यहां तक ​कि यह जाने बिना कि कोई परिणाम भी होगा। 
अगर आपको बच्चे से 7 बजे खेलने से घर आने की उम्मीद है, तो आपके बच्चे को यह जानना चाहिए कि अगर वह 7 बजे तक वापस नहीं आएंगे तो उन्हें शाम को टीवी देखने की अनुमति नहीं दी जाएगी (सज़ा के एक उदाहरण के रूप में), और वे इस सज़ा का 100% समय पर सामना करेंगे। यदि आपका बच्चा यह जानता है कि, तो वह यह तय कर सकता है कि 5 मिनट का अतिरिक्त खेल इसके लायक नहीं है, और एक समय के बाद यह व्यवहार बदल जाएगा। हालांकि, अगर आपका बच्चा महसूस करता है कि 75 प्रतिशत मौका है कि वे किसी भी सज़ा के बिना इसे दूर करने में सक्षम होंगे, तो वे सीमाओं का परीक्षण करेंगे।   
याद रखें, मैंने कहा कि सज़ा के निश्चित होने के ज्ञान और सज़ा की आवृत्ति के साथ सीखा जाता है। तो उपर्युक्त उदाहरण में यदि सज़ा यह थी कि आपके बच्चे को अगले हफ्ते टीवी देखने की अनुमति नहीं दी जाएगी, तो माता-पिता के रूप में आप सप्ताह के बाकी हिस्सों की सज़ा को लागू करने का मौका खो चुके हैं। इसका अर्थ है कि आपका बच्चे को पूरे सप्ताह में केवल एक सीखने का मौका मिलेगा। और संभव है आप एक हफ्ते के लिए इसे लागू करने में इतने थक भी गए होंगे, कि दूसरे या तीसरे दिन के बाद आप अपने बच्चे को खुद ही खेलने के लिए भेज देंगे।

तो अनुशासन के लिए (और मैं अनुशासन कह रहा हूं - दंडित करना नहीं), वहां कुछ महत्वपूर्ण चीजें हैं जिन्हें माता-पिता को समझना चाहिए।

सबसे पहले, आपको सज़ा की बात को ध्यानपूर्वक चुनना होगा। आप हो सकता है 50 भिन्न व्यवहारों को सुधारना चाहते हों, लेकिन आप अपने घर और जीवन को युद्धक्षेत्र नहीं बनना चाहते हैं। इसलिए, आपको उन शीर्ष पांच व्यवहारों को चुनना होगा जिनको आपको सम्बोधित करना ही था और उन पर अडिग रहिए। अक्सर, इसका मतलब है कि आप अपनी  कुछ अधूरी और अपरिपक्व उम्मीदों को अपने बच्चों से छोड़ दें।  
दूसरे, अपने बच्चे के लिए स्वीकार्य और अस्वीकार्य व्यवहार की सीमा स्पष्ट रूप से परिभाषित करें। बताएं कि रेखा को पार करने का क्या परिणाम होगा। सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा चुनी गई सज़ा ऐसी है जो माता-पिता के रूप में आप हर समय लागू करने में सक्षम होने के लिए आश्वस्त है (यह अक्सर सबसे चुनौतीपूर्ण होता है)।
तीसरा, यह सुनिश्चित करें कि हर बार रेखा को पार करने पर सज़ा दी जाती है। अंत में, याद रखें कि परिभाषित और सेट की गई सीमाएं बच्चे की उम्र के संदर्भ में हैं और उम्र उपयुक्त होनी चाहिए। जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं, सीमाओं को संशोधित करने की आवश्यकता हो सकती है, और सीमाओं को परिभाषित करने के लिए उन सीमाओं के आसपास वार्तालाप और बातचीत करने के बारे में और अधिक होने की आवश्यकता होगी, जो कि स्वीकार्यता के विपरीत है।
अन्त में, उन माता-पिता को जिन्होंने मुझसे जानकारी चाही हैं मैं कहना चाहूंगा कि कोई 'समस्याग्रस्त' बच्चे नहीं होते हैं, वह केवल 'समस्याग्रस्त' व्यवहार होते हैं- इन्हें दर्दनाक सजा से नहीं, प्रभावी अनुशासन से काबू किया जा सकता है।

मौल्लिका शर्मा एक बंगलौर स्थित परामर्शदाता हैं जिन्होंने मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने के लिए अपना कॉर्पोरेट कैरियर छोड़ दिया। मौलिका एक वैश्विक कर्मचारी भलाई कंपनी वर्कप्लेस आप्शन और रीच क्लिनिक, बैंगलोर में काम करती है। यदि आपके पास इस कॉलम से संबंधित कोई प्रश्न हैं, तो कृपया हमें columns@whiteswanfoundation.org पर लिखें।


 

 

 

 

 
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org