बचपन

क्या आप अपने बच्चे की स्व की अवधारणा को सुधारने में मदद कर सकते हैं?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

स्व-अवधारणा सरल शब्दों में आपका अपने बारे में ज्ञान है। स्व-अवधारणा और आत्मसम्मान दो मनोवैज्ञानिक शब्द हैं जो सामान्यतः एक दूसरे के लिए उपयोग किए जाते हैं, लेकिन वास्तव में इन शब्दों के अर्थों के बीच अंतर है। आत्मसम्मान, अपने बारे में जो कुछ आप जानते हैं वैसा कुछ होने के बजाय आपका अपने प्रति सामान्य दृष्टिकोण है। आत्मसम्मान उस हद तक संदर्भित करता है जिसमें हम खुद को पसंद करते, स्वीकारते या खुद को अनुमोदित करते हैं, या हम खुद को कितना महत्व देते हैं। आत्मसम्मान में हमेशा खुद के बारे में कुछ मात्रा में मूल्यांकन शामिल होता है और वह सकारात्मक या नकारात्मक दृष्टिकोण हो सकता है। यह स्थिति के आधार पर भिन्न हो सकता है और हाल ही में क्या हो रहा है, और हाल ही में आपको वातावरण और आपके आस-पास के लोगों से कैसी प्रतिक्रिया मिली है। सकारात्मक आत्म-अवधारणा प्राप्त करने की प्रक्रिया जन्म से शुरू हो जाती है, जब माता-पिता और अन्य देखभाल करने वाले अपने बच्चों को उनके व्यवहार पर मौखिक और अमौखिक प्रतिक्रिया देने लगते हैं। उनके अलावा, उनके पर्यावरण और समुदाय में अन्य व्यक्ति भी स्व की अवधारणा में योगदान करते हैं।
माता-पिता के रूप में, आपके पास अपने बच्चे की आत्म-अवधारणा पर सकारात्मक प्रभाव डालने के कई अवसर होते हैं। बच्चे के प्रति आपका गैर-निष्पक्ष रवैया और बिना शर्त स्वीकृति आवश्यक है। इससे उन्हें अपने व्यवहार, उपस्थिति या कौशल के बजाय लोगों के बीच स्वीकृत महसूस करने में मदद मिलेगी।  
यहां कुछ ऐसे तरीके दिए गए हैं जिनसे आप अपने बच्चे में सकारात्मक आत्म-अवधारणा के विकास में मदद कर सकते हैं:
फीडबैक: अधिकतर माता-पिता अपने बच्चों को उन चीजों के लिए प्रतिक्रिया देते हैं जो वे कहते या करते हैं, और वे कैसे व्यवहार करें, लेकिन ज़्यादातर समय यह प्रतिक्रिया सकारात्मक होने के बजाय नकारात्मक होती है, और इसमें बहुत से "नियंत्रण" और "सुधार" शामिल होते हैं। अभिभावक के नाते आप शायद पूछ सकते हैं, "मैं रचनात्मक ढंग से सुधार कैसे करूं?" क्योंकि हर बच्चा भिन्न होता है और विकास की प्रक्रिया में पहले से ही आत्म-अवधारणा है, इसलिए आप यह दावा नहीं कर सकते कि बच्चा उस सुधार को कैसे स्वीकार करेगा। विशेषज्ञों की सिफारिशों के मुताबिक, क्योंकि चीजों को सुधारने में संतुलन रखने के लिए आप को सभी फीडबैक में कम से कम 75 प्रतिशत सकारात्मक टिप्पणियां रखनी चाहिए। आलोचना के लिए सकारात्मक टिप्पणियों का आधा विभाजन काम नहीं करता है। बच्चों के साथ अनुसंधान ने संकेत दिया है कि जब तक माता-पिता 75/25 का संतुलन नहीं रखते, वे अयोग्य महसूस कर सकते हैं।
उदाहरण के लिए, जब आप अपने बच्चे को अवकाश के गृहकार्य पर एक रचनात्मक प्रतिक्रिया देने पर [75/25] संतुलन ऐसी हो सकती है: "आपने इस छुट्टी के दौरान होमवर्क रिकॉर्ड बुक में उत्कृष्ट काम किया है। आपकी लिखावट सुव्यवस्थित है, आपने अपने सभी दैनिक गतिविधियों की सूचना दी है, और आपकी कहानी दिशानिर्देशों का पालन करती है। हालांकि, आपने अपनी छुट्टी का विवरण शामिल नहीं किया था। यह एक बेहतर तरीका हो सकता है कि इसके बारे में भी लिखो ताकि आपकी रिकॉर्ड बुक में पूर्णता हो और जब आपका शिक्षक इसे पढ़ता है, तो उसे और भी बेहतर लगता है। "
स्वीकृति दिखाना और गैर-आलोचनात्मक रवैया रखना: विभिन्न स्थितियों में अपने बच्चे के साथ बातचीत करते समय, आप चरम व्यवहारों में भी सामन्य प्रतिक्रियाओं का प्रदर्शन कर उनके आत्मविश्वास और आत्म-उपयोगी होने की भावना बढ़ा सकते हैं। उदाहरण के लिए, जब बच्चा अपने किसी अनुभव, भावना या विचार को साझा करता है, तो माता पिता उस क्षण उस व्यक्ति की वास्तविक अभिव्यक्ति के रूप में स्वीकार करते हैं। उदाहरण के लिए, अगर कोई बच्चा कहता है कि वह उस प्रवेश परीक्षा को पास नहीं कर सकता है जिसकी वह तैयारी कर रहा था, तो उन पर यह कहते हुए आक्रमण न करें, "ऐसा इसलिए क्योंकि आपने कड़ी मेहनत नहीं की," या कहकर, "मुझे पता था कि तुम इस परीक्षा को निकाल नहीं पाओगे। इसके बजाय आप कहकर सकारात्मक जवाब दे सकते हैं," कभी-कभी असफल होना ठीक है, जो अधिक महत्वपूर्ण है यह है कि आपने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया "या" मैं आपकी निराशा को समझ सकता हूं लेकिन याद रखो कि हमेशा फिर से कोशिश करने का यह एक दूसरा मौका है। "
उदाहरण के लिए, यदि कोई बच्चा कहता है कि वह समय पर घर तक नहीं पहुंच सका क्योंकि उसकी बस छूट गई हैं, तो यह कहते हुए उन पर अविश्वास मत करें कि "तुम झूठ बोल रहे हो यह सच नहीं है – तुम अपने दोस्तों के साथ होगे। तुम समय देखना भूल गए।" इसके बजाय, उसकी आलोचना किए बिना सकारात्मक मिसाल रखे और कहें," ठीक है, आशा है कि आपको अब कोई समस्या नहीं है, अगली बार से सचेत रहें कि विद्यालय की बस न छूटे ताकि आप घर सुरक्षित और समय पर पहुंच सकें ।" 
सचेत सुनना: माता-पिता के रूप में न केवल अपने बच्चों को बोलने का मौका देना महत्वपूर्ण है, लेकिन ध्यान देकर उनकी बात सुनना और स्वीकार करना भी उनके लिए महत्वपूर्ण है। आपको अपने बच्चों से वैसे ही बात करनी चाहिए जैसे आप वयस्क से बात करते हैं और उन्हें वैसे ही सुनें जैसे आप वयस्क को सुनते हैं बल्कि सक्रिय रूप से अपने बच्चे को सुनना (जिसमें गैर-मौखिक शारीरिक भाषा शामिल है, उदाहरण के लिए आँख से संपर्क, अपने सिर को हिलाना आदि) और वे क्या कह रहे हैं, यह स्वीकार करते हैं तो उनके आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास की भावना को बढ़ाने में मदद करता है जो आत्म-अवधारणा के स्तर को बढ़ाती है। 
डॉ. गरिमा श्रीवास्तव, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान से पीएचडी होने के साथ दिल्ली स्थित नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक हैं। 
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org