बचपन

नखरों को समझाना

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

"मुझे वह चॉकलेट चाहिए और अभी तुरंत चाहिए। यदि आप मेरे लिए यह नहीं लाते हैं, तो मैं ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाउंगा, फर्श पर गिर जाउंगा और आप को शर्मिंदा करने के लिए वह सब कुछ करूँगा जो मैं कर सकता हूँ।"

छोटे बच्चों के माता पिता के लिए सबसे बुरा दुस्वप्न उनके नखरे उठाना है – इसमें वे स्थितियां खासकर जहाँ किसी सार्वजनिक स्थान पर इनके गुस्से का आवेश सामने आना और ज़ोर ज़ोर से चिल्लाकर रोना शामिल हैं। लेकिन क्या वे वास्तव में नखरे कर रहे हैं और अगर एक बच्चा जरूरत से ज्यादा नखरे करता है, तो यह एक मानसिक स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है?

हमने इसे बेहतर समझने के लिए मिनेसोटा विश्वविद्यालय में बाल चिकित्सा मनोवैज्ञानिक डॉ. माइकल पोटेगल, जिन्होंने विस्तार में गुस्से के नखरों का अध्ययन किया है, से फोन पर बातचीत की। पढ़ते रहिये...

डॉ. पोटेगल, आप अपने पेशेवर कैरियर के पिछले कुछ साल बच्चों के अवलोकन में बिताए हैं, माता-पिता से बात करने और बच्चों की नखरैल मनोवृत्ति के स्वरूप को समझा है। तो शुरू करने के लिए, क्या आप हमें बता सकते हैं कि वास्तव में यह नखरा होता क्या है?

नखरा आमतौर पर कुछ देर गुस्से या आवेश की अभिव्यक्ति या अनुचित व्यवहार है जैसे ज़ोर ज़ोर से रोना, चीखना, चिल्लाना और वस्तुओं को फेंक देना है।

नखरे के लक्षण आमतौर पर 12 महीने की उम्र में आने लगते हैं। 18 महीने की उम्र के आसपास नखरे पूर्ण विकसित हो जाते हैं। ऐतिहासिक रूप से, प्राय: दो साल की उम्र के आसपास बच्चे का माँ का दूध छुड़ाया जाता है और यदि उसकी उपचर्या न भी हो तो मां का ध्यान पाने के लिए नखरे विकसित हो सकते हैं

नखरे के दो घटक हैं:

• गुस्सा: इसमें चीखना और चिल्लाना शामिल होता है। व्यवहार में यह मारने, चीजें फेंकने, पीठ ऐंठने आदि के रूप सामने आ सकता है।

• उदासी: रोना और बिफरना, फर्श पर गिर जाना, आराम की मांग, आदि के रूप में सामने आती है।

मस्तिष्क के विभिन्न भाग इन दोनों घटकों के लिए सक्रिय हो जाते हैं। क्रोध के मामले में बायां टेम्पोरल लोब सक्रिय होता है, और उदासी के मामले में, दायाँ अग्र लोब सक्रिय होता है। हमारे अध्ययन की एक प्रमुख खोज यह थी कि दोनों चरण एक समय में एक दूसरे पर छा जाते हैं, वे कुछ कम या ज्यादा एक साथ होते हैं।

जब एक बच्चा सार्वजनिक रूप से नखरे दिखता है, तो अक्सर बच्चे के व्यवहार के कारण माता-पिता का आंकलन किया जाता है। क्या इस बात के कोई सबूत है कि परवरिश शैली में खामियां नखरे पैदा कर सकती है?

नहीं, अगर माता-पिता दंडात्मक या अपमानजनक नहीं हैं जिसका नकारात्मक प्रभाव बच्चे पर पड़ा हो। यहां तक ​​कि एक सामान्य घर जहां माता-पिता में से कोई अपमानजनक नहीं हैं, फिर भी आप को बच्चे नखरे करते मिलेगे।

यही हमें अगले प्रश्न पर ले जाता है। बच्चों नखरे क्यों झाड़ते हैं?

सामान्य रूप से बच्चे निम्नलिखित तीन कारणों में से एक के लिए नखरे करते हैं:

• ध्यान खींचने के लिए

• कुछ खास प्राप्त करने के लिए (उदाहरण के लिए, एक पसंदीदा भोजन या खिलौना)

• अपेक्षाओं से बचने के लिए

उपरोक्त सभी स्थितियों में, माता-पिता या देखभालकर्ता आमतौर पर जानते हैं कि बच्चे क्यों नखरे कर रहे हैं। हालांकि, बच्चे कभी कभी ऐसे कारण से नखरे कर सकते हैं जो स्पष्ट न हो। उदाहरण के लिए, यदि बच्चा किसी शारीरिक संकट (जैसे सीने में जलन, खट्टी डकार) में हो और उनके लिए यह समझाना बहुत मुश्किल है कि क्या हो रहा है। यह स्थितियां हालांकि बहुत आम नहीं हैं।

ये नखरे आम तौर पर कितनी देर तक रहते हैं?

छोटे बच्चे एक दिन में एक या दो बार नखरे करते हैं और ज़्यादातर हर नखरे की अवधि 10 मिनट से कम होती है। कभी कभी बच्चे के नखरे 10 मिनट से ज्यादा रह सकते हैं। यह सामान्य बात है।

बच्चे जब बड़े होने लगते हैं, नखरे की आवृत्ति कम हो जाती है लेकिन उसकी अवधि बढ़ जाती है। ज़्यादातर बच्चों में, पांच साल की उम्र तक आते आते बच्चे के नखरे बहुत कम हो जाते हैं।

कभी कभी, आबादी के लगभग 25 प्रतिशत लोगों में, नखरे मारना बड़े होने तक जारी रहता है। बचपन के नखरे बड़े होने पर क्रोध के रूप में सामने आते हैं और इसके प्रकरण अपराधबोध या पश्चाताप के रूप में उदासी के जटिल रूप तक ले जाते हैं।

आप की समझ में नखरे कब चिंता का कारण होते हैं और ध्यान देने की जरूरत होती है?

अत्यधिक नखरे (अगर एक बच्चा एक दिन में पांच से अधिक बार नखरे करता है और ये नखरे औसतन दस मिनट से अधिक रहते हैं) एक अंतर्निहित मनोवैज्ञानिक समस्या का संकेत हो सकता है। ऐसे मामलों में, यह महत्वपूर्ण है कि पहले देख लें शारीरिक संकट या बीमारी तो नहीं है और फिर पेशेवर मनोवैज्ञानिक मदद लेने का प्रयास करें। यदि इनको यूं ही छोड़ दिया जाये, तो ये मुद्दे बाद में बाहरी समस्याएं (जैसे आक्रामकता) या आंतरिक समस्याओं (जैसे अवसाद और व्यग्रता) के रूप में प्रकट हो सकते हैं। ध्यान रखें यह दिलचस्प है कि लड़कों के व्यवहार में आमतौर पर बाहरी समस्याएं या आंतरिक समस्याएं या दोनों मिलीजुली पायी जातीं हैं। दूसरी ओर, लड़कियों के व्यवहार में, बाहरी समस्याओं के कोई लक्षण नहीं देखे गए हैं – इनमें या तो आंतरिक समस्याएं (उदासी, व्यग्रता, अवसाद) या दोनों समस्याएं मिलीजुली प्रदर्शित होतीं हैं।

हम जानते हैं कि नखरों का समाधान कोई जादू नहीं है, लेकिन माता पिता ऐसे में अपने बाल न नोचें इसके लिए सही सलाह क्या है?

खैर, सामान्य सलाह यही होगी इसके लिए पागल न हों। बच्चे हमेशा नखरे करते समय प्रतिक्रिया पर ध्यान बनाए रखते हैं। अगर मैं तीन साल का हूँ, मुझे जीवन में बहुत चीजें नियंत्रित करने के लिए नहीं मिलती हैं। मुझे यह तय करने को नहीं मिलता है कि मैं क्या खाऊँ या मैं किस समय सोने जाऊं आदि। लेकिन भगवान कसम, मैं माँ को पागल कर सकता हूँ। वह मेरे नियंत्रण में है। ज्यादातर बच्चे सिर्फ प्रतिक्रिया पाने के लिए ऐसा करते हैं। तो यदि आप खुद को तैयार कर सकते हैं, कि शांत रहें और निष्पक्ष होकर संभालें, इससे आधी लड़ाई जीत ली है।

यह भी जानना जरूरी है कि बच्चे अक्सर अपने माता-पिता की भावनात्मक हरकतों की नकल करते हैं। यदि आप नाराज और व्यग्र हैं और अगर बच्चे इस व्यवहार की नकल करें तो भी आश्चर्य नहीं करना चाहिए।

बच्चे यदि ध्यान खींचने के लिए या कुछ खास पाने के लिए नखरे कर रहे हैं, तो सबसे अच्छी रणनीति है कि अनदेखा करें या अगर जरूरत हो, उनका ध्यान उससे हटाने की कोशिश करें। योजनाबद्ध अनदेखी (कुछ समय के लिए टालना, रोने की अनदेखी आदि) विशेष रूप से बहुत प्रभावी है। हालाँकि अगर बच्चे नियम या जो उनसे कहा जा रहा है उससे बचने के लिए नखरे करते हैं (जैसे कि उसके दांत ब्रश करने के लिए मना कर के रूप में), तो उसमें तुरंत हस्तक्षेप करने की ज़रुरत है और बच्चे को आज्ञापालन करना चाहिए। आप हो सकता है यह कहना चाहें कि, "यदि आप अपने दांत ब्रश करने नहीं जा रहे हैं, तो मैं अपने हाथ आपके हाथ पर रख कर यह करने में आप की मदद करने जा रहा हूँ।" इससे बच्चे की स्वायत्तता दूर होती है, ज़्यादातर बच्चों को पसंद नहीं आएगा और अगर आप लगातार ऐसा करते हैं बच्चे जल्द ही मांग के साथ पालन करना सीख जाएंगे।

लेकिन अगर आप जल्दी में हैं और बच्चा आज्ञा पालन करने से मना करता है, तो इसमें झुकना समझ में आता है। क्योंकि यदि आप सत्ता संघर्ष शुरू करते हैं और फिर अंत में बच्चे को वह करने देते हैं जो वह चाहता है, इससे बच्चे विश्वास करने लगेंगे कि वे देर तक दृढ़ रहें, तो उन्हें मनमानी चीजें हासिल करने का अधिक मौका है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org