अवसाद और माँ
मातृत्व

अवसाद और माँ

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

प्रसवकालीन अवधि

ये अवधि है बच्चे के जन्म से पहले और जन्म के तुरंत बाद की. ये समय गर्भधारण के 22 सप्ताह के बाद शुरू होता है और जन्म के सात दिन बाद समाप्त होता है. प्रसवकालीन अवधि माताओं और उनके परिवार के लिए प्रमुख समायोजन का समय है. नए माता-पिता को अलग तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है जिससे उन्हें घबराहट भी हो सकती है.

'उदासी’ -

यह सामान्य है                                                                          यह सामान्य नहीं है

कई नई माताएँ जन्म देने के दो से पाँच दिनों तक काफ़ी उदासी का अनुभव करती हैं. भावनात्मक उथल-पुथल की यह अवधि सामान्य और अस्थायी है, और इसकी तीव्रता भी हर माँ में अलग अलग होती है.

रोना-धोना, चिड़चिड़ापन और अन्य भावनात्मक संकट दो सप्ताह से अधिक समय तक जारी रहे, तो यह प्रसवोत्तर अवसाद हो सकता है।

 

 

अगर आप अपने आप में, आपकी पत्नी / बेटी में ऐसे लक्षण नज़र आएँ तो पेशेवर मदद की आवश्यकता पड़ सकती है

महत्वपूर्ण: प्रसवकालीन अवसाद का प्रभाव माता, पिता और नए बच्चे के प्रतिकूल हो सकता है. माता-शिशु संबंध में बाधा आ सकती है और शिशु से लगाव भी कम हो सकता है. पिता भी प्रसव के बाद की अवधि में अवसाद का अनुभव कर सकते हैं जिसका असर पूरे परिवार की भलाई पर पड़ता है.

इसलिए प्रसव के बाद अवसाद का इलाज किया जाना आवश्यक है. बीमारी का इलाज न किया जाए तो आधे से अधिक नई माताएँ छह महीने बाद बीमार ही रहेंगी.

प्रसवोत्तर अवधि

ये अवधि है बच्चे के जन्म के तुरंत बाद से करीब छ: सप्ताह तक की. प्रसव के बाद पहले सप्ताह के दौरान, मनोवैज्ञानिक और हार्मोन संबंधी कारक माँ के मूड़ और भावनाओं को प्रभावित करते हैं. अधिकांश माताएँ भावुक हो जाती हैं और बेहद चिड़चिड़ापन, चिंता, भूख अशांति, सिरदर्द, विस्मृति और उदासी का अनुभव करती हैं. ये प्रसवोत्तर अवसाद के लक्षण हैं. यह अस्थायी है और माँ दस दिनों के भीतर पूरी तरह से ठीक हो सकती है ..

ये लक्षण जारी रहें तो और गंभीर हो जाते हैं, यह प्रसवोत्तर अवसाद है जो सामन्य है और दुर्बलता की स्तिथि पैदा कर देता है. बच्चे के जन्म के छह सप्ताह के भीतर, माताएँ गंभीर रूप से उदासीन हो जाती हैं. इलाज न होने पर माँ इस से बीमारी छ: या इससे अधिक महीने तक पीड़ित रह सकती है जिसका असर पूरे परिवार पर पड़ेगा.

प्रसवोत्तर अवसाद के कुछ लक्षण हैं:

• घबराहट, चिड़चिड़ापन और अत्यधिक थकान.

• आत्मसम्मान का घटना और बच्चे के पालन-पोषण की क्षमताओं पर संदेह

• हमेशा बच्चे के बारे में चिंतित रहना या देखभाल करने में रुचि न होना

• घर पर अनियमित दिनचर्या के साथ सामना करने में असमर्थ होना. बच्चे की अनियमित खान-पान और निद्रा समय के कारण अनिद्रा

• बच्चा सो रहा हो, तब भी आराम करने में असमर्थता

• गर्भावस्था या बच्चे के जन्म से पहले का आनंद पाने में असमर्थता

• किसी काम पर ध्यान केंद्रित करने में, निर्णय लेने में या करने में असमर्थता

• चिंता, तेज़ दिल की धड़कन, लगातार सिर दर्द, पसीने से तर हाथ जैसे शारीरिक लक्षण

• अतिसक्रिय या अनियंत्रित महसूस करना

• परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताने में कोई रुचि न होना

• आत्म और भविष्य के बारे में लगातार नकारात्मक विचार और निराशा

• क्रोध, दुख का अनुभव, रोने का मन करना, ऐसा लगना जैसे कुछ खो दिया हो.

• भूख में परिवर्तन

• परिवार और दोस्तों की बातों को बहुत सूक्ष्म रूप से महसूस करना

• मन में खुद को या बच्चे को चोट पहुँचाने के विचार आना

• हर समय स्वयं अपराध, शर्म की भावना महसूस करना, अजीब से विचार या छवि आना जो दुखी करें

प्रसवोत्तर अवसाद का इलाज

मनोवैज्ञानिक और औषधीय उपचार दोनों ही प्रसवकालीन अवसाद के उपचार में प्रभावी पाए गए हैं.

प्रसवकालीन मूड और चिंता विकारों के लिए मदद और उपचार की मदद लेना आवश्यक है. मनोवैज्ञानिक उपचार जैसे सीबीटी और पारस्परिक चिकित्सा, प्रसवकालीन अवसाद के उपचार में अत्यंत उपयोगी हैं. अनुपचारित बीमारी पूरे परिवार के संकट को बढ़ाता है.

नोट: गंभीर अवसाद या द्विध्रुवी विकार से ग्रस्त महिलाओं को दवा की जरूरत हो सकती है.

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org