गर्भावस्था के दौरान अवसाद

गर्भावस्था के दौरान अवसाद

मातृत्व एक स्त्री के जीवन में सबसे जटिल चरण है. गर्भावस्था के दौरान उसके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य की स्तिथि आलोचनीय होती है इसलिए प्रत्येक गर्भवती माँ को ध्यान और सहानुभूति की जरूरत होती है.

गर्भावस्था

गर्भावस्था के नौ महीने की अवधि प्रसव पूर्व अवधि कहलाती है. ज्यादातर महिलाओं के लिए, गर्भावस्था एक खुशहाल अवधि है, लेकिन कुछ के लिए यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है. विभिन्न जैविक और मनोवैज्ञानिक कारक- अवसाद, चिंता, ओसीडी, और प्रसवोत्तर मनोविकृति जैसी मानसिक स्वास्थ्य समस्याएँ पैदा कर सकते हैं. इन मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को अक्सर डायग्नोस नहीं किया जाता है या नज़रांदाज़ किया जाता है क्योंकि अवसाद के ये लक्षण भी गर्भावस्था की शारीरिक शिकायतों के समान हैं जैसे- चिड़चिड़ापन, थकान, नींद या भूख.

गर्भवती महिलाओं की मनोवैज्ञानिक सेहत भी उनके शारीरिक स्वास्थ्य जितना ही महत्त्वपूर्ण है. इसलिए नियमित प्रसव पूर्व देखभाल बहुत ज़रूरी है.

प्रसव पूर्व अवधि में जो कारक अवसाद का कारण बन सकते हैं, वे हैं-

• कमज़ोर वैवाहिक रिश्ते

• अनियोजित या अवांछित गर्भावस्था

• घरेलू हिंसा (शारीरिक, यौन और भावनात्मक)

• अवसाद का परिवार या निजी इतिहास, बाईपोलार विकार, प्रसवोत्तर मनोविकृति या अन्य गंभीर मानसिक बीमारी

• पूर्व मौजूदा मानसिक बीमारी जैसे ओसीडी या पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पीटीएसडी) गर्भावस्था के दौरान और तीव्र हो सकते हैं

• गर्भावस्था के दौरान, मानसिक बीमारी के लिए दवा को कम करने या रोकने से

• जटिलताओं पिछले गर्भावस्था में जटिलताओं या शोक का अनुभव

• आर्थिक बोझ

• शराब, अवैध ड्रग्स या निर्धारित दवाओं की लत

• ग्रामीण क्षेत्र से शहर में आ बसने पर जहाँ कोई परिवार या सामाजिक सहारा नहीं है

• काम के दबाव और समयसीमा के कारण अत्यधिक तनाव

गर्भावस्था में परिवर्तन:

यह सामान्य है

यह सामान्य नहीं है

हर औरत गर्भावस्था के दौरान इन आम लक्षणों में से कुछ का अनुभव करती है, और वे ज्यादातर हार्मोनल परिवर्तन के कारण है.

 

ये लक्षण बताते हैं कि एक औरत प्रसव पूर्व अवसाद से पीड़ित है :

•विशेष रूप से पहली तिमाही के दौरान मतली / उल्टी

• वजन का घटना या गर्भावस्था के दौरान वजन बढ़ाने में विफलता

• मनोदशा में बदलाव, रोना या भावनात्मक होना

• 'सुबह की मतली' से उबरने के बाद भी कम भूख लगना

• चिड़चिड़ापन

• अनियमित निद्रा पैटर्न

•आत्मसम्मान में कमी

• आवेश या बेचैनी

• देह-छवि की चिंता

• थकान या ताकत की कमी

• विशेष रूप से तीसरी तिमाही में सोने में परेशानी

• अपने आपको को अयोग्य समझना या अपराध की भावना

• पहली और तीसरी तिमाही में अधिक थकान

• एन्हेडोनिया (खुशी या आनंद की कमी)

• प्रसव और बच्चे की भलाई से संबंधित चिंता:

• स्पष्ट रूप से एकाग्रता में कमी

 

• मौत या आत्महत्या के बारम्बार विचार

आप अपनी पत्नी / बेटी में गर्भावस्था के दौरान इन परिवर्तनों को नोटिस करें तो पेशेवर मदद ज़रूर लें.

महत्वपूर्ण: प्रसवपूर्व अवसाद डायग्नोस करना आसान है. अगर डायग्नोस करके इलाज किया जाए तो उसके बच्चे के जन्म से पहले, वह अच्छी हो सकती है.

No stories found.
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org