मातृत्व

साक्षात्कार : क्या तनाव किसी महिला के स्तनपान के अनुभव को प्रभावित कर सकता है?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

नया मातृत्व, जीवनशैली में कई बदलाव और परिवर्तन का समय होता है। गर्भावस्था और मातृत्व का अनुभव प्रत्येक महिला के लिए अलग हो सकता है। और यह स्तनपान कराने के लिए भी सच है। आज के दौर में, हो सकता है कि किसी नई मां को स्तनपान कराने के बारे में पर्याप्त जानकारी या जागरूकता न हो। जब प्रारंभिक अनुभव अच्छा नहीं होता है, तो यह तनावपूर्ण और कभी-कभी दर्दनाक भी हो सकता है।

व्हाइट स्वान फाउंडेशन की श्रीरंजिता जेउरकर ने स्तनपान और मानसिक स्वास्थ्य के बीच के संबंध को समझने के लिए स्त्री रोग विशेषज्ञ एवं स्तनपान सलाहकार डॉ. तरू स्नेह जिंदल से बात की।

स्तनपान के बारे में ज्यादातर लोग सोचते हैं कि कुछ है, जो प्राकृतिक रूप से आता है, और एक अनुभव के रूप में सभी माताएं इसका आनंद लेती हैं। क्या यह सच है?

किसी समय यह एक स्वाभाविक प्रक्रिया हुआ करती थी। हालांकि ज्यादातर मां स्तनपान कराने का आनंद लेती हैं और स्तनपान कराना चाहती हैं। इसके बावजूद ज्यादातर महिलाएं स्तनपान कराने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं होती हैं। और अंत में स्तनपान में सहयोग की कमी, चिकित्सकीय सहयोग और सलाह की कमी के कारण यह कई महिलाओं के लिए दुखदायी स्थिति बन जाती है। कई मां खून बहने और जख्मी निपल्स से पीड़ित हो जाती हैं क्योंकि वे नहीं जानतीं कि बच्चे को दूध पिलाने का सही तरीका क्या है। हालांकि वे इस प्रक्रिया का आनंद लेना चाहती हैं, लेकिन कई माताओं को इस दौरान कष्टकर स्थिति से गुजरना पड़ता है।

क्या स्तनपान तनावपूर्ण हो सकता है?

पहली बार माताओं के लिए स्तनपान बहुत तनावपूर्ण हो सकता है, विशेषकर तब, जबकि वे इसके लिए पूरी तरह से तैयार न हों। अब, छोटे परिवार होने के कारण, उन्हें इस समय परिवार का सहयोग नहीं मिल पाता है। पति को अक्सर इस प्रक्रिया से बाहर रखा जाता है, इसलिए सहयोग का एक महत्वपूर्ण स्रोत भी खो जाता है।

हमारे कार्यस्थल पर स्तनपान को प्रोत्साहन नहीं मिलता है। स्तनपान कराने वाली माताओं से भेदभाव किया जाता है, और उन्हें नौकरी में बने रहने के लिए स्तनपान को रोकना पड़ता है, या स्तनपान जारी रखने के लिए नौकरी छोड़नी पड़ती है। इस समय के दौरान नियमित आय की कमी तनाव को बढ़ाती है।

किस प्रकार स्तनपान कराना (या स्तनपान नहीं कराना) एक महिला के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है?

स्तनपान के दौरान स्रावित होने वाला ऑक्सीटॉसिन एक मां को आराम दिलाने में मदद करता है। यह उसे तनावमुक्त होने में मदद करता है और प्यार, आपसी जुड़ाव और खुशी की भावना पैदा करता है। स्तनपान नहीं करवाने से मां इन अनुभूतियों से वंचित रह जाती हैं। साथ ही नियमित समय पर बार-बार फॉर्मूला(डब्बे का पाउडर वाला दूध) बनाना और बोतल उबालने की प्रक्रिया शारीरिक रूप से थका देती है। कुछ माताओं को स्तनपान कराने की तुलना में यह अधिक भारी लगता है। स्तनपान ना करा पाना अपराध की भावना और आत्म-सम्मान में कमी की भावना पैदा करता है क्योंकि अपने बच्चे को स्तनपान कराने जैसे प्राकृतिक कार्य को करने में वह सक्षम नहीं है।

वे महिलाऐं जिन्हें स्तनपान कराने में कठिनाई होती है, उनके बारे में बताएं यह उन्हें भावनात्मक रूप से कैसे प्रभावित करता है?

अपने बच्चों को ठीक से दुग्धपान कराने में सक्षम न होने के कारण मैंने माताओं को अवसादग्रस्त हो जाते देखा है। उस समय न मिलने वाला सहयोग उनके मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता है।

वे महिलाएं जो स्तनपान नहीं कराने का विकल्प चुनती हैं, वे अपने आसपास के लोगों की प्रतिक्रियाओं से कैसे निपट सकती हैं?

स्तनपान न कराने के कई कारण हो सकते हैं- दूध तैयार करने में आसानी से लेकर बोतल के प्रयोग द्वारा अपने लिए समय और आजादी की चाह रखना। इन माताओं को अक्सर सामाजिक शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है, जो उन्हें यह महसूस कराती हैं कि सीधे स्तनपान कराने के स्थान पर अन्य विकल्प अपनाकर वे कमतर मां बन गई हैं। इससे उनमें अपराध की भावना पैदा हो सकती है और उनका आत्म-सम्मान कम हो सकता है। यह किसी भी तरह से पालन-पोषण में मददगार नहीं हो सकता, क्योंकि मां के लिए तनाव कभी अच्छा नहीं होता है। शुरुआत में, तनाव से दूध का उत्पादन कम हो सकता है। तनाव सीधे मस्तिष्क से स्रावित होने वाले ऑक्सीटॉसिन को रोकता है। हमें सावधान रहना होगा और यह सुनिश्चित करना होगा कि एक नई मां अपने चयन के पक्ष और विपक्ष से अवगत हो, और अपने बच्चे के भोजन के बारे में जो भी निर्णय ले, उसका सम्मान करे।

कुछ माताओं में बच्चे के लिए पर्याप्त दूध नहीं बन पाता - तब क्या समस्या होती है?

इन दिनों अस्पताल के प्रोटोकॉल के कारण, प्रसव के तुरंत बाद बच्चे को मां से अलग कर दिया जाता है। कभी-कभी जन्म के तुरंत बाद मां को अपने बच्चों को छूने की अनुमति नहीं होती है और बच्चे को अन्य प्रक्रियाओं के लिए दूर कर दिया जाता है। इस वजह से, बच्चे के द्वारा स्वयं स्तन को खोजने और चूसने की सबसे प्राकृतिक अनैच्छिक क्रिया - जिसे हम ब्रेस्टक्रॉल कहते हैं - नहीं हो पाती है। सर्वप्रथम जो कि एक घंटे के भीतर होना चाहिए, अक्सर देर से होता है। सिजेरियन प्रक्रिया से गुजरने वाली माताओं के लिए यह समय और भी अधिक है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि जन्म की प्रक्रिया क्या थी। बच्चे को जन्म देने का मां का अनुभव गड़बड़ा जाता है और वह इस अनुभव को उदासी और निराशा की भावनाओं के साथ जोड़कर याद रखती है।

मुझे लगता है कि यदि अस्पताल के प्रोटोकॉल अधिक स्तनपान-अनुकूल बनाए जाएं, तो हम इस तनाव को काफी हद तक कम कर सकते हैं। अस्पतालों को अपने सिस्टम को 'स्तनपान केन्द्रित' के रूप में विकसित करने की आवश्यकता है, ताकि मां-शिशु के अलगाव को न्यूनतम रखा जा सके, और मां-बच्चे की जोड़ी को एक साथ रहने और स्वतंत्र रूप से स्तनपान कराने को प्रोत्साहित किया जाए।

स्तनपान कराने वाली मां का सहयोग करने के लिए परिवार और पति क्या कर सकता हैं, खासकर उसके भावनात्मक सुख के लिए?

एक नई मां को यदि कपड़े धोना, खाना पकाना, या बच्चे को सुलाने जैसे कार्यों के लिए पर्याप्त सहयोग नहीं मिल पाता है, तो बच्चे के जन्म से वह पूरी तरह घबरा जाती है। यदि परिवार का सहयोग न हो तो अचानक काम बढ़ने और नींद में कमी नई मां पर एक बोझ बन सकता है। सहयोग के अभाव के चलते मां को समय से पहले स्तनपान को रोककर फॉर्मूला दूध पिलाने का निर्णय लेना पड़ सकता है। पति की भूमिका सबसे अहम है। शुरूआती दौर में पिता को यह सोचकर देखभाल के कार्यों से दूर रखा जा सकता है कि उसे कुछ नहीं पता, या वह मदद नहीं कर सकता है। इस कारण इस चुनौतिपूर्ण समय में मां अपने साथी के महत्वपूर्ण एवं अंतरंग सहयोग से वंचित रह जाती है। अगर पिता भी सहयोग करते हैं और देखभाल के कार्यों में शामिल होते हैं तो स्तनपान माताओं के लिए आसान और अधिक सुखदायक बन जाता है।     

तरू जिंदल स्तनपान पर एक फेसबुक पेज 'लैक्टेशन मैटर्स' चलाती हैं। वह व्हाट्सएप पर माताओं को स्तनपान कराने के लिए एक सहायक समूह भी चलाती हैं। उनसे tarujindal@yahoo.co.uk पर संपर्क किया जा सकता है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org