नया मातृत्व: क्या बहुत ज्यादा तनाव चिंता की बात है?

दुनिया में एक बच्चे को लाना, अपने साथ चिंता और तनाव का हिस्सा भी लेकर आता है। इनमें से कई क्षणिक होते हैं और कुछ समय के साथ गुजरते हैं। हालांकि, यदि आप लगातार परेशान करने वाले विचारों और चिंताओं का अनुभव करती हैं, जो दैनिक कार्य करने की आपकी क्षमता में बाधा डालते हैं, तो शायद आप प्रसवोत्तर चिंता से पीड़ित हैं। अपने बच्चे के स्वास्थ्य के बारे में चिंता करना, उन्हें खिलाने के लिए क्या करना है आदि किसी भी नई माँ के लिए बिल्कुल सामान्य है। अगर ये चिंताएं, परेशान करने वाले विचारों और भय में बदलती हैं, तो आपको पेशेवर की मदद लेने की आवश्यकता हो सकती है।

प्रसवोत्तर चिंता के लक्षण गर्भावस्था के दौरान होने वाली चिंता के समान ही हैं। इनमें से कुछ लक्षण हैं:

• हर समय बेचैन और चिड़चिड़ा महसूस करना

• लगातार और अनुचित विचार जो दैनिक कार्यों की आपकी क्षमता को प्रभावित करते हैं

• आराम करने या रात को गहरी नींद लेने में परेशानी होना

• लगातार चिंता, जिसके कारण आप अपने बच्चे की बार बार जांच कर सकती हैं

• ऐसी चिंता, जो आपको अपने बच्चे के अपने साथ बाहर जाने से रोकती है

यदि आप इन लक्षणों का अनुभव कर रही हैं, तो आपको अपने जीपी या प्रसूति विशेषज्ञ से बात करने पर विचार करना चाहिए, जो आपको किसी मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर से मिलने के लिए निर्देशित कर सकते हैं।

प्रसवोत्तर ओसीडी

कभी-कभी, नई मां बार-बार दिखने वाली अनुचित छवियों से पीड़ित हो सकती हैं जो बहुत डरावनी होती हैं, जिससे वह अपने बच्चे को नुकसान होने के डर से बचने के लिए अत्यधिक कड़े कदम उठाने लगती हैं। प्रसवोत्तर ओसीडी के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

• बच्चे से संबंधित अनुचित और भयभीत करने वाले विचार और दृश्य दिखाई देना

• बाध्यकारी व्यवहार, जहां माता लगातार डरावने विचारों को दूर करने के लिए एक ही तरह की क्रियाओं को दोहराती है। उदाहरण के लिए, अगर उसे इस बात का डर लगता है कि बच्चे को संक्रमण हो सकता है, तो वह बार-बार घर साफ करेगी; या वह सो रहा हो, तब भी बच्चे को जांचने की आवश्यकता महसूस कर सकती है

• बच्चे के साथ अकेले रहने का डर

• एक अत्यंत सतर्क व्यवहार करना, जिसके कारण आराम नहीं कर पाती है।

इलाज

प्रसूति संबंधी चिंता के मामले में,  प्रसवोत्तर चिंता का इलाज इसके लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। यदि लक्षण गंभीर नहीं होते हैं, तो भावनात्मक सहारा और चिकित्सा, मां को उसकी चिंता से निपटने में सहायता कर सकती है। हालांकि,  अधिक गंभीर लक्षणों के लिए,  मां को मनोचिकित्सा के अतिरिक्त दवा लेने की आवश्यकता भी हो सकती है संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (सीबीटी) या पारस्परिक थेरेपी (आईपीटी) मां की मदद कर सकती हैं। इन उपचारों का लक्ष्य इन अनुचित विचारों के मूल कारण को समझकर उन्हें अच्छे विचारों के साथ बदलना है।

Last updated

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org