मातृत्व

नया मातृत्व: मैंने हाल ही में जन्म दिया है; मैं बहुत ज्यादा भावुक और दुखी महसूस करती हूं...

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

जन्म देने से ठीक पहले और ठीक इसके बाद का समय प्रसवकाल होता है। यह अवधि गर्भावस्था के 22 सप्ताह पूरे होने से शुरू होती है और जन्म के सात दिन बाद समाप्त होती है।

प्रसवकालीन अवधि माताओं और उनके परिवारों के लिए बड़े समायोजन का समय है। नए माता-पिता को अनोखी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है और इनसे ये व्याकुल भी हो सकते हैं

'ब्लूज़' - यह सामान्य है

जन्म देने के दो से पांच दिनों के बाद कई नई माताएं 'बेबी ब्लूज़' का अनुभव करती हैं। भावनात्मक उथल-पुथल की यह अवधि सामान्य और अस्थायी है, और इसकी तीव्रता एक माँ से दूसरी में भिन्न होती है। बेबी ब्लूज़ के मामलों में, नई माताएं आमतौर पर 10 दिनों के भीतर ठीक हो जाती हैं।

यह सामान्य नहीं है

जब रोने की इच्छा, चिड़चिड़ापन और अन्य भावनात्मक तनाव दो हफ्तों से भी ज्यादा रहता है, तो यह प्रसवोत्तर अवसाद हो सकता है।

यदि आप खुद में या आपकी पत्नी / बेटी में इन लगातार लक्षणों को देखते हैं, तो पेशेवर से सहायता लें।

 महत्वपूर्ण: प्रसवकाल का अवसाद माता, पिता और नए बच्चे को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकते हैं। माता-शिशु बंधन में यह बाधित हो सकता है और शिशु से लगाव की भावना को गड़बड़ा सकता है। प्रसवकाल की अवधि के दौरान पिता भी अवसाद का अनुभव भी कर सकते हैं। यह पूरे परिवार के स्वास्थ्य हित पर प्रभाव डालता है।

यह आवश्यक है कि प्रसवोत्तर अवसाद का इलाज किया जाए। यदि बीमारी का इलाज नहीं किया जाता है, तो आधे से ज्यादा नई माताएं छह महीने बाद तक बीमार रहती हैं।

प्रसवोत्तर अवधि

यह समय जन्म के तुरंत बाद शुरू होता है और बच्चे के जन्म के बाद लगभग छह सप्ताह तक रहता है। प्रसव के बाद पहले सप्ताह के दौरान, मनोवैज्ञानिक और हार्मोन संबंधी कारक एक मां के मन और भावनाओं को प्रभावित करते हैं। ज्यादातर माताएं भावुक हो जाती हैं और उनकी मनोदशा उदासी की बन जाती है। बड़बड़ाते हुए रोना, चिड़चिड़ापन, चिंता, भूख गड़बड़ाना, सिरदर्द और विस्मरण ये सभी प्रसवोत्तर अवसाद के लक्षण हैं। यह अस्थायी हैं और मां 10 दिनों के भीतर पूरी तरह से ठीक हो सकती है ..

जब ये लक्षण बने रहते हैं और गंभीर हो जाते हैं, तो यह प्रसवोत्तर अवसाद का कारण बन सकते हैं, ऐसी स्थिति जो आम है और निष्क्रिय कर सकती है। प्रसव के छह सप्ताह के भीतर, मां गंभीर रूप से उदास हो सकती है। यदि उपचार न किया जाए, तो यह बीमारी छह महीने या उससे ज्यादा की हो सकती है और मां, बच्चे और परिवार को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है।

प्रसवोत्तर अवसाद के कुछ लक्षणों में शामिल हैं:

- अवसाद में रहना, चिड़चिड़ापन और निरंतर थकान महसूस होना

- आत्मविश्वास की कमी और अपनी अभिभावकीय क्षमताओं के बारे में संदेह होना

- लगातार बच्चे के बारे में चिंता करना या बच्चे की देखभाल करने में रुचि कम लेना

- घर में अनियमित दिनचर्या से निपटने में असमर्थ होने के कारण बच्चे की अनियमित भोजनचर्या और नींद के पैटर्न के कारण ठीक से नहीं सो पाना।

-  बच्चा सो रहा हो, तब भी आराम करने में असमर्थता

- ऐसी गतिविधियों का आनंद लेने में असमर्थता जिनका गर्भावस्था या जन्म से पहले आनंद लेते थे

- ध्यान केंद्रित करने, निर्णय लेने या काम करने में असमर्थता

- चिंता के शारीरिक लक्षण, दिल की धड़कन, निरंतर सिरदर्द, पसीने वाले हाथ होना

- बहुत ज्यादा उत्तेजित होना या आपे से बाहर हो जाना

- परिवार और दोस्तों के साथ समय व्यतीत करने में कोई दिलचस्पी नहीं रहना

- अपने बारे में और भविष्य के बारे में लगातार नकारात्मक विचार और निराशा

- क्रोध, दु: ख, खोने की आशंका, खुलकर रोने की भावनाओं का अनुभव

- भूख गड़बड़ाना

- परिवार और दोस्तों की टिप्पणियों को लेकर अतिसंवेदनशील महसूस करना

-  खुद को या बच्चे को नुकसान पहुंचाने के विचार

- पश्चाताप, शर्म की भावना, अनुचित विचारों का आना या तनाव पैदा करने वाली छवियां दिखाई देना

प्रसवोत्तर अवसाद के लिए इलाज करना

प्रसवकाल अवसाद के इलाज में मनोवैज्ञानिक और औषधीय उपचार दोनों ही प्रभावी साबित हुए हैं।

प्रसवकाल की मनोदशा और दुष्चिंता विकारों के लिए सहायता और उपचार प्राप्त करना महत्वपूर्ण है। सीबीटी और पारस्परिक उपचार सहित मनोवैज्ञानिक उपचार, प्रसवकाल अवधि में मूल्यवान उपचार हैं। अनुपचारित बीमारी पूरे परिवार के लिए तनाव को बढ़ाती है।

नोट: गंभीर अवसाद या द्विध्रुवीय विकारों वाली महिलाओं को दवा की आवश्यकता हो सकती है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org