मातृत्व

गर्भावस्था: मैं खुश और उत्साही होने की उम्मीद कर रही थी, लेकिन मुझे बहुत कमजोरी लग रही है... क्या मैं अवसाद में हूँ?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

किसी महिला के जीवन में मातृत्व सबसे जटिल स्थिति है। महिला का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य इस समय अतिसंवेदनशील होता है इसलिए प्रत्येक गर्भवती मां को इस अवधि के दौरान ध्यान और सहानुभूति की आवश्यकता होती है।

ज्यादातर महिलाओं के लिए, गर्भावस्था एक खुशहाल समय होता है, लेकिन कुछ के लिए, यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है। विभिन्ना जैविक और साथ ही मनोवैज्ञानिक कारकों से मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं जैसे कि अवसाद, चिंता, ओसीडी, और प्रसवोत्तर मनोविकार हो सकती हैं।

गर्भवती महिलाओं के मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य को उनके शारीरिक स्वास्थ्य की जरूरतों के अनुसार ही महत्वपूर्ण माना जाना चाहिए, और नियमित प्रसवपूर्व देखभाल में शामिल होना चाहिए।

गर्भावस्था

गर्भावस्था के नौ महीने की अवधि को प्रसवकाल की अवधि के रूप में जाना जाता है। इस समय के दौरान, महिलाओं को विभिन्ना जैविक या मनोवैज्ञानिक कारकों के कारण अवसाद और चिंता की आशंका हो सकती है। हालांकि, इन मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का अक्सर निदान नहीं किया जाता और अनदेखा किया जाता है क्योंकि अवसाद के लक्षण जैसे चिड़चिड़ापन, थकान, नींद या खाने में परेशानी, गर्भावस्था की शारीरिक शिकायतों के समान होते हैं।

प्रसवपूर्व अवधि में अवसाद पैदा करने वाले कुछ जोखिम कारकों में शामिल हैं:

- खराब वैवाहिक संबंध

- अनियोजित या अवांछित गर्भावस्था

- घरेलू हिंसा (शारीरिक, यौनात्मक, और भावनात्मक)

- परिवारिक या व्यक्तिगत अवसाद का इतिहास, द्विध्रुवी विकार, प्रसवोत्तर मानसिक रोग या अन्य गंभीर मानसिक बीमारी

- पूर्व-मौजूद मानसिक बीमारी, गर्भावस्था के दौरान बढ़ सकती है जैसे कि ओ.सी.डी. या पोस्ट ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (पी.टी.एस.डी.)

- पहले से मौजूद मानसिक बीमारी के निदान के लिए ली जा रही दवा को गर्भावस्था के दौरान कम करना या रोकना

- पिछली गर्भावस्था या शोक में जटिलताओं का अनुभव

- वित्तीय बोझ

- शराब, अवैध दवाओं या निर्धारित दवाओं की लत

- ग्रामीण क्षेत्र या कस्बे से शहर में प्रवास, जहां कोई परिवार या सामाजिक सहयोग नहीं है

- काम के दबाव और समय सीमा के कारण अत्यधिक तनाव

गर्भावस्था के परिवर्तन - यह सामान्य है

यह सामान्य नहीं है

प्रत्येक महिला गर्भावस्था के दौरान इनमें से कुछ आम लक्षणों का अनुभव करती है, और ये अधिकतर हार्मोनल परिवर्तनों के कारण होती हैं।

-  मतली/उल्टी, विशेष रूप से पहली तिमाही के दौरान होना

-  मूड में परिवर्तन, रोना या भावनात्मक होना

-  चिड़चिड़ापन

-  आत्मसम्मान में कमी

-  शारीरिक छवि के बारे में चिंताएं

-  विशेष रूप से तीसरी तिमाही में घबराहट

-  पहले और तीसरी तिमाही में थकान अधिक होना

-  आने वाले प्रसव एवं शिशु के स्वास्थ्य की चिंता होना

 

 

 

ये लक्षण बताते हैं कि एक महिला प्रसवोत्तर अवसाद से पीड़ित हैः

 

-  वजन घटना या गर्भावस्था के दौरान वजन न बढना

-  सुबह की सिकनेस से उबरने के बाद भी लगातार भूख में कमी

-  नींद में बदलाव

-  उत्तेजना या बेचैनी

-  थकान या ऊर्जा की हानि

-  मूल्यहीनता या अपराध की भावनाएं

-  एनेडोनिया (कोई दिलचस्पी या खुशी या आनंद न होना)

-  एकाग्रता की कमी चिह्नित होना

-  मौत या आत्महत्या के विचार बार-बार आना

यदि आप अपनी गर्भावस्था के दौरान या अपनी पत्नि / बेटी की गर्भावस्था के दौरान इन परिवर्तनों को नोटिस करते हैं, तो चिकित्यक की मदद लें।

 

 

 

 

महत्वपूर्णः  प्रसूति के पूर्व अवसाद का निदान आसानी से हो सकता है। यदि महिला का निदान और इलाज किया जाता है, तो उसके बच्चे के आने से पहले वह स्वस्थ हो सकती है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org