गर्भावस्था: क्या नींद न आना एक सामान्य समस्या है?

एक गर्भवती महिला विभिन्न हार्मोनल और शारीरिक परिवर्तनों के माध्यम से गुजरती है जो कि उसकी नींद की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है। उसकी बढती गर्भावस्था के साथ, ये नींद की गड़बड़ी में बदलाव होता रहता है। गर्भावस्था के दौरान नींद की कुछ सामान्य गड़बडियों में शामिल हैं:

- गर्भावस्था के भावनात्मक और शारीरिक तनाव के कारण नींद में परेशानी

- प्रोजेस्टेरोन के स्तरों में वृद्धि होने के कारण अक्सर बाथरूम जाना आवश्यक होता है

- बढ़ते भ्रूण की वजह से सामान्य असुविधा जैसे खिंचाव और दर्द होना

- रात में अच्छी नींद की कमी के कारण दिन की नींद में वृद्धि होना

- सामान्य थकान और अतिरिक्त वजन से पैरों में ऐंठन होना

- एसीडिटी और सीने में जलन जो अधिकतर रात में जब लेटते हैं तब होती है

- नाक की झिल्ली में, बढते हुए रक्त के बहाव के कारण नाक का बंद होना

- रेस्टलेस लेग सिंड्रोम (आरएलएस) से आपके पैरों में लगातार झुनझुनी रहती है जिससे आपको पैर आगे बढाने में परेशानी होती है

- सोते समय श्वांस बंद होना एवं खर्राटें लेना, नाक बंद होने के कारण होता है

- बढ़ती चिंता के कारण अनिद्रा

आप अपनी नींद में सुधार के लिए क्या कर सकते हैं

यदि आप नींद की गंभीर कमी या नींद की दूसरी समस्याओं से पीड़ित हैं, तो उसी के बारे में अपने डक्टर से परामर्श करें । कुछ उपाय, जो आपको बेहतर नींद में मदद कर सकते हैं:

-  व्यायाम आपकी नींद की गुणवत्ता सुधारने में आपकी मदद कर सकता है, लेकिन साने के समय के करीब व्यायाम करने से बचें

- कैफीन युक्त उत्पादों से बचें, क्योंकि वे आपकी नींद में बाधा डालते हैं

- चीनी भी आपकी ऊर्जा के स्तर को भी बढ़ाती है, अत: रात मे इसका सेवन न करें

- सोने से पहले थोड़ा आराम करने की कोशिश करें इसमें गर्म स्नान, कुछ मध्यम संगीत, या कुछ भी शामिल हो सकता है जो आपको तनाव मुक्त होने में मदद करता है।

- दिन के दौरान अधिक मात्रा में तरल पदार्थ लें और सोते समय कम

- यदि आप दिन के दौरान झपकी लेते हैं, तो सुनिश्चित करें कि यह दिन के शुरुआत में हो और न कि शाम को 

- आप सोने से पहले एक हल्के नाश्ते द्वारा यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आपको आधी रात में भूख का कष्ट न हो

- अतिरिक्त तकिए आपकी पीठ और पेट पर तनाव को कम करने में मदद कर सकते हैं

अपने चिकित्सक को ऐसे किसी भी मुद्दे के बारे में सूचित करना महत्वपूर्ण है जो आप अनुभव कर रहे हैं। अपने डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी दवा न लें। 

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org