मातृत्व

गर्भावस्थाः एक माँ के स्वास्थ्य लाभ में उसके पति की भूमिका

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

यह भारतीय पिता के लिए असामान्य नहीं है कि जब एक दम्पति एक बच्चे की उम्मीद कर रहा हो और उसे स्वयं को एक फंड प्रदाता की भूमिका तक सीमित रखना पडें.। जबकि गर्भावस्था की अवधि आशा और खुशी से भरा समय है, नई मां भी बच्चे के स्वास्थ्य, उसकी स्वयं की सेहत और जैविक जटिलताओं और सामाजिक और सांस्कृतिक तनावों के संबंध में चिंता और घबराहट से गुजरती हैं। इन परिस्थितियों को देखते हुए, यह महत्वपूर्ण है कि जीवनसाथी - जो प्रायः महिला के निकटतम होता है - अपने साथी के जीवन में अपनी भागीदारी को बढाये। गर्भावस्था के दौरान पूरी तरह से भागीदारी में झिझक अक्सर ज्ञान की कमी से आती है कि वे कैसे मदद कर सकते हैं, और इस गलत धारणा से कि जन्म देना, शिशुओं और उनसे संबद्ध घटनाएं एक महिला के व्यवसाय हैं। सहभागिता वाले भागीदारों के साथ महिलाओं में अक्सर कम मनोवैज्ञानिक तनाव, बेहतर गर्भावस्था और प्रसवोत्तर अवधि होती है। तो एक पिता क्या कर सकता है?

-  मां के साथ बच्चे के आगमन की योजना बनाएं। इसमें चिकित्सकीय देखभाल के लिए आर्थिक योजना शामिल हो सकती है, एक समर्थन प्रणाली जिससे उसे जन्म से पहले और बाद में आराम महसूस हो, और एक नवजात शिशु के आने के पहले घर को आरामदायक बनाया जाना शामिल हो सकता है।

- गर्भकाल कैसे प्रगति कर रहा है और यदि कोई जटिलताएं हैं, तो उसे समझने के लिए प्रसूति जांच के समय उसके साथ चिकित्सक के पास जाऐं। अपने गर्भवती पत्नि की जरूरतों और चिंताओं के बारे में अपने ज्ञान को बढ.ाएं।

- चूंकि अधिकांश शहरी परिवार एकल होते हैं, इसलिए यह सुनिश्चित करना पति का काम है कि नई मां पोषण योजना का पालन करे और समय पर निर्धारित दवा लेती रहे।

- गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के मनोदशा में बदलाव सामान्य बात है, इस समय के दौरान धीरज और सहयोगी बनाए रखें।

- गर्भावस्था की अवधि का आनंद लेने में, हास्य, स्नेह और ध्यान के साथ उसकी सहायता करे।

- परिवार के अन्य सदस्यों के साथ मनमुटाव के दौरान उसका समर्थन करें। याद रखें, आप अब एक इकाई है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org