मुझे लंबे समय से दर्द है और भावनात्मक रूप से थका हुआ महसूस करता हूं

यदि आप कभी भी तेज सिरदर्द या टीस मारने वाले दांत दर्द का अनुभव करते हैं, तो संभवत: आपको यह पता चल गया है कि कैसे आक्रामक और अशक्त कर देने वाला शारीरिक दर्द हो सकता है। यदि दर्द लंबे समय तक एक पुरानी स्थिति में रहता है, तो इसका असर व्यक्ति के शारीरिक, भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ सकता है।

पुराना या चिरकालिक दर्द क्या है?

तीन महीने से अधिक समय तक रहने वाले दर्द को चिरकालिक दर्द के रूप में परिभाषित किया जाता है। सभी प्रकार के दर्द का अनुकूलनीय मूल्य है, जब हमारे शरीर में कुछ उस तरह काम नहीं हो रहा है जैसा होना चाहिए तो यह हमें चेतावनी देकर सुरक्षात्मक कारक के रूप में कार्य कर सकता है। यह दर्द तब एक परेशानी बन जाता है, जब दर्द के स्तर की सीमा व्यक्ति  के सहन करने की तुलना में अधिक हो जाती है। दर्द निश्चित रूप से किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित और तनाव में बढ़ोत्तरी कर सकता है।

जब एक दर्द गंभीर और सिलसिलेवार होता है, तो यह व्यक्ति  के जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है, और कैसे वे अपनी जीवन जीते है यह निर्धारित (कुछ हद तक) कर सकता है। मन और शरीर के संबंध पर किए जा रहे कार्यों से यह स्पष्ट हो रहा है कि कोई भी दर्द स्वतंत्र रूप से शारीरिक या भावनात्मक नहीं है। हालांकि, शारीरिक स्वास्थ्य पर इसका असर दिख सकता है, इसके साथ ही अन्य कई  पहलु हैं, जो हमेशा आसानी से नजर नहीं आते।

दर्द अनिश्चितता, आशंका और भावनात्मक अशांति भी पैदा कर सकता है और यह व्यक्ति  की स्वयं की समझ को भी प्रभावित करता है। यह किसी व्यक्ति  की कार्य करने की क्षमता को कम कर प्रत्यक्ष (या अप्रत्यक्ष) आर्थिक प्रभाव डाल सकता है। यदि दर्द बहुत ज्यादा है, तब यह उसके लिए दिनभर की परेशानी बन सकता है। चिरकालिक दर्द से जूझ रहे पीड़ितों में भावनात्मक थकान होना आम बात है।

दर्द का ऊंचा स्तर शरीर की भावनात्मक एवं शारीरिक प्रणालियों पर प्रभाव डाल सकता है। हम सभी एक निश्चित स्तर तक दर्द को सहन करने में सक्षम हैं, लेकिन जब दर्द उस सीमा से पार हो जाता है, तो शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ जाता है और यह हमारे ज्ञान संबंधी क्षमता पर भी असर डालता है। बहुत तेज दर्द में व्यक्ति  किसी भी चीज पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाता है। वह उदासी या व्याकुलता महसूस कर सकता है, जिससे उसके फैसले लेने की क्षमता प्रभावित होती है। 

शारीरिक दर्द और भावनात्मक दर्द

शारीरिक दर्द कभी-कभी भावनात्मक दर्द का भी कारण बन सकता है और शारीरिक दर्द के विपरीत, भावनात्मक दर्द को पहचानना और इसे मापना कठिन हो सकता है। भावनात्मक पीड़ा अपनी हालत की चिंता और आशंका की भावना के रूप में शुरू हो सकती है और इसके बाद अधिक तीव्र हो सकती है। भावनात्मक दर्द के कारण चिरकालिक दर्द से मुकाबला करने में और कठिनाई पैदा हो सकती है, जिससे कि शारीरिक दर्द और ज्यादा बिगड़ता है। यही कारण है कि कोई भी दर्द, स्वतंत्र रूप से शारीरिक या भावनात्मक नहीं कहा जा सकता है; इसीलिए जब मानसिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखा जाता है तो पुराने दर्द को संभालना आसान हो सकता है।

पुराने या चिरकालिक दर्द वाले लोगों में मानसिक बीमारी के बढ़ने का तीन गुना जोखिम माना जाता है, आम तौर पर अधिक चिंता या अवसाद की बीमारी। चिरकालिक दर्द मानसिक सेहत के मुद्दों को जन्म दे सकता है। यह भी सच है कि उदासी के कारण होने वाला तनाव एक व्यक्ति  के चिरकालिक दर्द के अनुभव को और बिगाड़ सकता है।

-----------------------

पुराने या चिरकालिक दर्द के लिए स्वयं की देखभाल:

1. खुद की देखभाल में अपनी ऊर्जा लगाएं। इससे आपकी शारीरिक और भावनात्मक सेहत दोनों में मदद मिल सकती है। स्वास्थ्य के लिए हितकर भोजन करें और खाने की दिनचर्या ठीक रखें। परिस्थिति के अनुसार जितना अधिक व्यायाम कर सकें उतना बेहतर है। रात की अच्छी नींद लेने के लिए सोने के समय में भी बदलाव करें। यह आपके लिए सहायक सिद्ध होगा। 

2. यदि आपको लगातार दर्द है, तो फिजियोथेरेपी मदद ले सकते हैं।

3. यदि आवश्यक हो तो अपनी बदली परिस्थितियों और शारीरिक क्षमता के संदर्भ में अपने मित्रों और परिवार या चिकित्सक से भावनात्मक सहारा प्राप्त करें।

4. तनाव के कारण दर्द और अधिक बढ़ सकता है। इसलिए उन स्थितियों की पहचान करें जिनसे आपको तनाव होता है और उनसे दूर रहने का प्रयास करें। यदि ये ऐसी स्थितियां हैं जिन्हें आप टाल नहीं सकते हैं, तो आप उनसे सामना करने के तरीके सीख सकते हैं ताकि आपके तनाव का स्तर नियंत्रण में रहे।

5. अपने खाने की दिनचर्या को नियमित करें और यह सुनिश्चित करें कि आप संतुलित एवं पौष्टिक भोजन कर रहे हैं।

6. अच्छी और स्वस्थ नींद आए इसका अभ्यास करें, ताकि जब भी संभव हो आप अच्छी तरह से सो सकें। इसमें आपके शयनकक्ष से गैजेट्स को बाहर छोड़ना शामिल हो सकता है। इसके साथ ही तनाव मुक्त होने के लिए धार्मिक प्रार्थनाएं कर सकते हैं ताकि आप अच्छी तरह से सो सकें।

7. जब आवश्यक हो, तब व्यावहारिक या भावनात्मक संबल के लिए अपनी रक्षक प्रणाली तक पहुंचें। 

रचना का यह अंश परामर्श मनोवैज्ञानिक और साइको ओन्कोलॉजिस्ट हिबा सिद्दीकी, निम्हांस की सहायक प्रोफेसर (न्यूरोसाइकोलॉजी) डॉ. शांताला हेगड़े, जेआईएसएआर, बैंगलोर के दर्द प्रबंधन, सलाहकार मनोचिकित्सक डॉ आनंद जयरामन के सहयोग से लिखा गया है। 

Related Stories

No stories found.