समाज एवं मानसिक स्वास्थ्य

अपनी मानसिक बीमारी से निपटने के अभ्यास ने मुझे पूरी तरह बदल दिया

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मेरी बीमारी स्कूल में शुरू हुई, यह 1970 के दशक की बात है। एक मध्यवर्गीय परिवार से होने के कारण, मुझे एक ऐसे स्कूल में सामंजस्य बैठाना मुश्किल हो गया, जहां मेरे ज्यादातर साथी उच्च मध्यम वर्ग के थे। हालांकि मैंने अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश की, तो भी मैं अपने दोस्तों और सहपाठियों से हमेशा ही नीचा महसूस करता था, जो मेरी तुलना में बेहतर कपड़े पहनते थे और उनके पास गैजेट्स थे, जो मेरे पास नहीं थे।। उन दिनों, हाई स्कूल में लड़कों की स्कूल वर्दी आधी लम्बी पतलून से बदलकर पूरी लंबाई में बदल गयी थी। मेरा परिवार, तब भी, एक नई वर्दी नहीं जुटा सकता था, इसलिए मैंने इसे नहीं बदला। इसने मुझे इतना सचेत कर दिया कि अपने साथियों द्वारा अजीब तरह से देखे जाने से मैं डरने लगा। यह डर की भावना का मेरा पहला स्मरण था, कि मैं अपने चारों ओर के उन लोगों की तरह नहीं था।

मैं अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने में कामयाब रहा, लेकिन जब इसके बाद मैं एमबीबीएस करने के लिए एक छोटे कस्बे से शहर में गया तो मेरी समस्याएं बढ़ गईं। शहरी जीवन से सामंजस्य बैठाने में मुझे काफी कठिनाई हुई थी, और इसे मेरे कॉलेज में होने वाली रैगिंग ने और जटिल बना दिया था। रैगिंग के प्रति मेरे अति भय के कारण, मेरे मन में लगातार भयावह विचार आ रहे थे और मैं इन्हें नियंत्रित करने में असमर्थ था।

शुरुआत में, डॉक्टर ने इसे एक समायोजन समस्या मानते हुए निदान किया। मुझे उम्मीद थी कि डॉक्टर द्वारा दी गई निर्धारित दवा इस समस्या को संभाल लेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मैं कॉलेज जाने में अनियमितता बरतने लगा, और यहां तक कि टेस्ट और परीक्षाओं को छोड़ दिया। एमबीबीएस के अपने पहले वर्ष के अंत के दौरान मुझे मानसिक बीमारी का रोगी पाया गया, लेकिन मुझे नहीं पता था कि यह क्या था। मेरी बीमारी का उपहास बनाए जाने के डर से, मैंने सेकंड ईयर में कॉलेज जाना बंद कर दिया। 

अपनी बीमारी से उबरने के दौरान मुझे अपने जीवन में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा। मुझे काम और सामाजिक जीवन के क्षेत्रों में मानसिक रूप से बीमार होने के कलंक का सामना करना पड़ा। मेरा मददगार परिवार मेरे अंदर काम करने की आदत पैदा करना चाहता था। एक डॉक्टर का बेटा होने के नाते, मैंने अस्पताल में एक कैशियर के रूप में पिता की सहायता करना शुरू कर दिया। कुछ ऐसे मरीज़, जो मेरी शैक्षणिक पृष्ठभूमि से परिचित थे, उन्होंने कहा, "तुम यहां कैशियर बनकर क्या कर रहे हो? तुम्हें आगे पढ़ना चाहिए या किसी अन्य अस्पताल में काम करना चाहिए।" एक तरफ तो मैं एक बीमारी से ठीक हो रहा था, लेकिन लोगों से टिप्पणियों ने मुझे निकम्मा महसूस कराया और मैंने अपने पिता के अस्पताल जाना बंद कर दिया।

एक और चुनौती यह थी कि मेरे सभी चचेरे भाई शादी कर रहे थे, लेकिन मैं नहीं। खुद को शर्मिंदगी महसूस करने से बचाने के लिए, मैं अपने किसी भी सहपाठी की शादी में शामिल नहीं हुआ। उन दिनों, मेरे कुछ अंकल ने यह भी सुझाव दिया कि 'शादी करने से समस्या ठीक हो जाएगी' अब पीछे मुड़कर देखता हूं तो मुझे लगता है कि मैंने शादी नहीं करने का सही फैसला लिया। शादी के साथ आने वाली ज़िम्मेदारी न केवल मेरे लिए तनावपूर्ण होती, बल्कि मेरे साथी के लिए यह और अधिक तनावपूर्ण होता।

मेरी बीमारी के बारे में मुझ में और मेरे परिवार में जागरूकता की कमी ने मुझे इससे तेजी से उबरने से रोका। मुझे लगता है कि यह केवल एक हीनभावना थी। केवल 7-8 साल तक दवा लेने के बाद मुझे पता चला कि मैं सिज़ोफ्रेनिया से पीड़ित था। मेरी एमबीबीएस की पृष्ठभूमि ने मुझे अपनी बीमारी के बारे में जानने के लिए उत्सुक बनाया। हालांकि, मुझे अपनी बीमारी के दूसरे हिस्से - जुनूनी विचार, के बारे में जानकारी नहीं थी। लगभग 20 वर्षों तक मैं सिर्फ दवा ले रहा था और घर पर ही रह रहा था।

इस बीमारी से निपटना सीखने की प्रक्रिया मेरे या मेरे परिवार के लिए आसान नहीं थी। 1970 और 80 के दशकों में, मेरे शहर के मनोचिकित्सक द्वारा दी गई दवाओं के साइड इफैक्ट्स थे, इनसे मेरी आंखें घूमती रहती थीं। मुझे इन दुष्प्रभावों का मुकाबला करने के लिए इंजेक्शन लेना पड़ा, लेकिन इन इंजेक्शनों के भी दुष्प्रभाव थे। 1990 के दशक में, मनोचिकित्सकों ने नई एंटी साइकोटिक दवाइयां तय कीं, जिनके प्रयोग से मुझे दुष्प्रभावों से मुक्ति मिल सकी। कुछ सालों के बाद, मेरे मनोचिकित्सक ने मुझे सुझाया कि बेहतर उपचार के लिए मुझे बेंगलुरु के निमहंस में जाना चाहिए।

मैं, 2010 में बंगलौर आया था, जहां परामर्श देने वाले मनोचिकित्सक ने कहा, "दवाएं 50% बीमारी का इलाज करने में मदद करती हैं, और 50% सुधार आपके प्रयासों से आते हैं।" डॉक्टर ने मुझे एक पुनर्वास केंद्र भेज दिया।

पुनर्वास केंद्र में, मैंने एक दिनचर्या बनाए रखना सीख लिया। समय पर जागने, तैयार होने, व्यावसायिक प्रशिक्षण कक्षाओं में भाग लेना। इन सबके द्वारा मुझे अपने सामाजिक कौशल को सुधारने में मदद मिलीI मैंने काम करना और एक समूह में बढ़ना सीखा। मैं बैंगलोर अपने इलाज के लिए आया था और यहीं रहने का फैसला किया। मैंने मुद्रा प्रबंधन भी सीख लिया और इससे मैं अधिक जिम्मेदार व्यक्ति बन गया। अब, मैं एक पेईंग गेस्ट के रूप में एक आवास में स्वतंत्र रूप से रह रहा हूं, खुद का ख्याल रखता हूं और अपने पैसे का प्रबंधन स्वयं करता हूं। दवाई लेना, परामर्श और ज्ञान संबंधी व्यवहार चिकित्सा सत्रों में भाग लेना, चलना और नियमित रूप से प्राणायाम करने से मुझे अपने मन और शरीर को शांत रखने में मदद मिली है। मानसिक बीमारी से गुज़रने के अनुभव ने मुझे आध्यात्मिक भी बना दिया है। इसके साथ ही, मुझे और मेरे मन में वास्तव में जो चल रहा था, उसके सही ज्ञान और समझने से मुझे ठीक होने में मदद मिली।

आज, हालांकि मैं स्वतंत्र रूप से जी रहा हूं और खुद का ख्याल रखता हूं, लेकिन मुझे अपने स्वीकार नहीं किए जाने और हंसी उड़ाए जाने के डर से ऐसे नए दोस्त बनाने में डर लगता है, जिन्हें मानसिक स्वास्थ्य की समस्या नहीं है। मुझे उस दिन का डर भी है जब मेरे माता-पिता नहीं रहेंगे। हालांकि, मुझे यकीन है कि मेरे पास मेरे भाई, निमहंस और पुनर्वास केंद्र का सहारा है।

कुल मिलाकर, मानसिक बीमारी और इससे मुकाबला करना सीखने के मेरे अनुभव ने मुझे एक नए व्यक्ति के रूप में बदलने में मदद की है।

जैसा कि व्हाइट हंस फाउंडेशन को बताया गया। अनुरोध पर नाम गोपनीय रखा गया है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org