समाज एवं मानसिक स्वास्थ्य

साक्षात्कार: प्रतिष्ठित लोगों को अपनी मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं पर बात करनी चाहिए

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं को समस्या का दर्जा नहीं दिया जाता है क्योंकि वे दिखती नहीं हैं और दिमाग के अन्दर रहती हैं। भारत के प्रमुख मनोचिकित्सक, विचारक और लेखक डॉ. सुधीर कक्कड़ व्हाइट स्वान फाउंडेशन के मनोज चंद्रन से बातचीत में कहते हैं कि न केवल उस व्यक्ति को बल्कि उनके करीबी लोगों को भी इसे एक बीमारी के रूप में पहचानना चाहिए और जल्द ही सहायता प्राप्त करनी चाहिए। संपादित अंश:

एक आम आदमी के मन में क्या विचार आते हैं जब आप 'मानसिक स्वास्थ्य' शब्द बोलते हैं?

मैं तो कहूंगा कि आम आदमी के दिमाग में आने वाली पहली चीज डर है। लेकिन अगर वह मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सक के पास जा रहा है, तो यह भय और आशा दोनों होगे। इसलिए, मुद्दा यह है कि उम्मीद को डर से ज्यादा कैसे करें, चिकित्सक से बातचीत के द्वारा या आपके जैसे मानसिक स्वास्थ्य पोर्टल द्वारा और इस धारणा पर आ जाते हैं कि आशा डर से अधिक है। मुझे लगता है कि यह प्रमुख बिंदु है।

हमारे लिए मानसिक स्वास्थ्य के पहलुओं को मस्तिष्क की शारीरिक संरचना से जोड़ना क्यों मुश्किल है?

ऐसा इसलिए है क्योंकि 'मस्तिष्क' एक बहुत ही आधुनिक प्रकार का शब्द है। लोग हमेशा मन के बारे में बात करते रहे हैं, जो वास्तव में मस्तिष्क से जुड़ा नहीं है। मन के साथ दिमाग का जुड़ाव बहुत ही नई बात है। अत: लोग इस तथ्य से इस तरह परिचित नहीं है कि ग्रे पदार्थ का यह पिंड, मस्तिष्क, इस तरह से ढाल सकता है या इतना अधिक प्रभावित कर सकता है। तो इसको समझने का तरीका यह है कि कहें यह मन है, क्योंकि मस्तिष्क वास्तव में मन का एक हिस्सा है या वह जो कि मन बनाता है, इसलिए 'मन' एक बेहतर शब्द होगा। आम आदमी के लिए 'मस्तिष्क' बहुत नया और अति वैज्ञानिक शब्द है।

मानसिक स्वास्थ्य हमेशा गंभीर विकारों से जुड़ा होता है, लेकिन तनाव और अवसाद जैसे सामान्य मानसिक विकारों के लिए नहीं, जबकि हमें लगता है कि वे जीवन का हिस्सा हैं हम इस तथ्य के बारे में जागरूकता कैसे फैला सकते हैं कि इन समस्याओं का समाधान और इलाज किया जा सकता है?

उत्तर देने के लिए कठिन सवाल, क्योंकि मुख्यतः मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं ऐसी समस्याएं हैं जो दिखती नहीं हैं। वे अपने मन में शरीर के भीतर होती हैं; बेशक, जब तक वे बहुत गंभीर होकर और खुलकर बाहर आती हैं, इस मामले में तब उन्हें समस्या के रूप में लिया जाता है। इसलिए वे (सामान्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं) देखी नहीं जा सकने के कारण समस्याएं नहीं मानी जाती हैं। समाज में, वे इंगित नहीं करते हुए नहीं कहते हैं कि- यहां, यह समस्या है। किसी भी बात को समस्या होने के लिए, केवल इतना काफ़ी नहीं है कि मुझे समस्या लगती है, बल्कि मेरे सामाजिक समूह को भी इसे एक समस्या के रूप में पहचाने। यह पहचान की तरह है - इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं क्या कहता हूं कि मैं क्या हूं; दूसरों को कहना पड़ेगा, हां, आप ये हैं। मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं, जब लोगों के सामने आती हैं, वे बहुत भड़कीली हो जाती हैं, जैसे कि सिज़ोफ्रेनिया या गंभीर अवसाद, और तब उन्हें एक समस्या के रूप में मान्यता दी जाती है। इसलिए जब तक कि आपका सामाजिक समूह आपकी बीमारी की पुष्टि नहीं कर रहे हों, आप इसे एक समस्या के रूप में देखने नहीं जा रहे हैं।

तो आप यह कह रहे थे कि वातावरण और व्यक्ति के करीबी लोगों द्वारा एक बड़ा योगदान दिया गया है, यह सुनिश्चित कर रहा है कि सहायता प्राप्त कर वह व्यक्ति बेहतर जीवन का नेतृत्व कर सकता है।

मुझे लगता है कि यह शायद महत्वपूर्ण रूप है। सामाजिक समूह से यह महत्वपूर्ण योगदान होता है कि वह व्यक्ति को प्रोत्साहित करें और कहें - हां, आप इससे निपट सकते हैं। व्यक्ति खुद पर्याप्त नहीं होगा।

आप अब कई दशकों से मनोविश्लेषण की प्रैक्टिस कर रहे हैं। पिछले कुछ वर्षों में भारत में मानसिक स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में आपने जो प्रमुख प्रतिमान बदलाव देखे, वह क्या हैं?

मानसिक स्वास्थ्य क्षेत्र में, आप दोनों कह सकते हैं, जैसे गिलास आधा खाली और आधा भरा है क्योंकि भारत का आकार और समस्याओं के विस्तार को देखते हुए, वास्तव में कुछ नहीं हुआ है। आप इसे आधा भरा भी कह सकते हैं, क्योंकि ऐसे लोग भी हैं जो इसके बारे में बहुत अच्छे जानकार हैं। ख़ासकर महानगरों में, उन्हें पता है कि मानसिक स्वास्थ्य या मानसिक रोग जैसी चीज व्याप्त है। तो मैं कहूंगा, स्थिति आधी-आधी है। महानगरों में शिक्षित वर्ग के साथ कुछ हुआ है, लेकिन यह (मानसिक स्वास्थ्य) अभी भी अधिकांश लोगों की पहुंच के बाहर है, जिसमें सरकार और अन्य एजेंसियां ​​शामिल हैं।

जब मानसिक स्वास्थ्य की बात आती है तो हमारे पास इनकार करने के कई विचार होते हैं; हमें लगता है कि यह एक बड़ी समस्या नहीं है, हम सोचते हैं कि हम इसके बारे में जानते हैं, और क्योंकि हम इससे पीड़ित नहीं हैं और हम किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में नहीं जानते हैं जो इसे पीड़ित हैं, यह चिंता का विषय नहीं है। मानसिक स्वास्थ्य को प्राथमिकता के रूप में देखने के लिए हम सभी को कैसे मना सकते हैं?

मुझे लगता है कि मेरा पिछला उत्तर के इस बिंदु को बताता है। मानसिक पीड़ा को जीवन के हिस्से के रूप में देखा जाता है। लोगों का मानना ​​है कि हर कोई जीवन में इसका सामना करता है, इसलिए आप इसे देखें, तो बड़ा सरोकार क्या है? मगर जैसा मैंने कहा कि, यह पूरी तरह से विचित्र समस्या बन जाती है। अब, लोगों को राज़ी करने के लिए कि यह वास्तव में आपकी दक्षता, आपके सामाजिक संबंधों और आपकी सफलता को प्रभावित कर रहा है, यदि अधिक से अधिक सफल लोग जो मानसिक बीमारी से गुजर चुके हैं, तो खुले में आकर रोल मॉडल बना सकते हैं।

हमारे कुछ बड़े कलाकार हैं जो छह पैक एब्स के लिए प्रयास कर रहे हैं, इसलिए वे शरीरिक ताकत के लिए आदर्श हैं, लेकिन हमारे पास मानसिक शक्ति के लिए कोई आदर्श नहीं है। यद्यपि ऐसे कुछ लोग हैं जिन्होंने (मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों) के बारे में खुलासा किया है, उदाहरण के लिए, अभिनेता दिलीप कुमार ने 10 से 20 साल तक मनोचिकित्सा की मदद ली। इसी तरह अन्य बहुत अधिक, बहुत सफल लोगों की मानसिक बीमारी से गुजर चुकने और मदद मांगने के किस्सों को सामने आना चाहिए। साथ ही, रोल मॉडल को बहुत प्रोत्साहन की आवश्यकता है। मैं अपने अनुभव से जानता हूं कि किसी भी तरह के पेशे, व्यवसाय, सामाजिक या मनोरंजन के उच्चतम स्तर में भी ऐसा नहीं है, जिनको समस्या नहीं है; बहुत से लोग इन समस्याओं से गुजर गए हैं और मदद की मांग की है। लेकिन यह कहना है कि मुझे मानसिक स्वास्थ्य समस्या है, इसे सुधारने की जरूरत है। हमें खुलकर यह कहने वाले राजदूत, चैंपियन, रोल मॉडल की और जरूरत है।

मानसिक स्वास्थ्य सेवा लोगों को उपलब्ध हो यह सुनिश्चित करने में मनोविश्लेषण की क्या भूमिका हो सकती है?

मनोविश्लेषण की भूमिका लोगों को उन समस्याओं को देखने की भी है जो उन्हें पता नहीं है। हमारी बहुत सी समस्याएं अचेतन मन में पैदा होती हैं जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं है, लेकिन हमें इसकी आवश्यकता होती है। इसके अलावा, बहुत सी समस्याएं हमारे शुरुआती संबंधों में उत्पन्न होती हैं, परिवार और माता-पिता के साथ बचपन के संबंध; जिन्हें हमें गौर से देखने की ज़रूरत है। तो एक आत्मविश्लेषी मानसिक स्वास्थ्य उपचार, वह है, जिसमें आप को अपने भीतर देखना होता है और आपका जीवन बहुत उपयोगी है। और, यह हमारी परंपरा से भी बहुत अलग नहीं है - यह आत्मनिरीक्षण है, यह एक अलग तरह का आत्मनिरीक्षण है, लेकिन जैसा कि आप कहते हैं कि आत्मनिरीक्षण मानसिक समस्याओं या विकारों को प्राप्त करने का एक तरीका है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org