स्थानांतरण से परे: एक अज्ञात शहर में थोड़ी असुविधाएं मुझे परेशान करने लगीं

मुझे एक ऐसी जगह जाना है, जहां कोई मुझे नहीं जानता!

इस विचार से लैस होकर मैंने बड़ौदा से मुंबई जाने का फैसला किया - एक शहर, जिसे मैं, केवल पेशेवर तरीके से ही जानती थी, क्योंकि जिस कंपनी के साथ मैंने काम किया, उसका मुख्यालय वहां था। वहां मेरे कोई मित्र या परिवार नहीं था और मुझे उम्मीद थी कि महानगरीय माहौल को देखते हुए किसी भी भाषा या संस्कृति के मुद्दों का सामना किए बिना वहां घुलना-मिलना आसान था। यह एक सुरक्षित दांव था, या तो मुझे यह विश्वास पसंद आया।

एक दशक पुरानी नौकरी छोड़कर, घर की सुरक्षित सीमाओं को छोड़कर और पहचान के सभी लोगों अलविदा कहकर, मैंने अज्ञात को गले लगा लिया। कहना चाहिए कि, शुरुआती छह महीने भयानक थे। कुछ भी और सब कुछ एक चुनौती थी। भोजन से लेकर आवास तक के दिन-दिनभर के काम के लिए, यह सब मेरे शांति क्षेत्र से परे था। इसमें मेरी स्वास्थ्य समस्या और जुड़ गई थी। मुझे ऑटोइम्यून की बीमारी है, जिसे बढ़ाने में तनाव बंदूक की गोली की तरह काम करता है। हर तरफ मुझे अपने बल पर खुद को जीवित रखना एक बड़ी चुनौती था। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि इसके बीच में मुझे तनाव को दूर रखने के लिए लगातार प्रयास करना पड़ा।

जिस मुंबई को मैंने देखा, वह उस समय की मुंबई से बहुत अलग थी, जब मैं पहले यहां दौरे पर आया करती थी। हर कोई इस शहर को रोमांटिक बना रहा था, लेकिन कभी भी किसी ने असुविधा के बारे में बात नहीं की। पानी की समस्याएं, रोजाना घंटों की यात्रा, खाली जगह की कमी, यातायात, प्रदूषण और शोर, इस शहर के प्रत्येक नुक्कड़ और कोने फल-फूल रहे हैं। इस शहर में मेरी सबसे बड़ी समस्या दूरी को लेकर थी। एक छोटे से शहर से आने के कारण, कहीं भी पहुंचने के लिए ट्रेन में दो घंटे खर्च करना मुझे भारी लग रहा था।

आज, तीन साल बाद मुझे पता है कि मैं बहुत दूर आ गई हूं। मैं यहां एक शर्मीली और डरपोक व्यक्ति के रूप में आई, लेकिन अब मुझमें आत्मविश्वास भरा है। इस शहर ने मुझे सिखाया कि अपने आप को सुनना, अपने विचारों के साथ होना और आप क्या चाहते हैं, यह जानना कितना महत्वपूर्ण है, क्योंकि तब आप समझ जाते हैं कि आप क्या नहीं चाहते। विभिन्न अपेक्षाओं से आने वाले तनाव, जिसकी मैं कल्पना कर रही थी, अचानक बचकाना लगने लगा।

उन दिनों मैंने एक ऐसे पहचान वाले चेहरे की इच्छा की, जो मुझे देखकर मुस्कुराए और पूछे कि कैसा चल रहा है?  आज, हर बार जब मैं लोकल ट्रेनों में जाती हूं, तो मुझे कुछ परिचित चेहरे मिलते हैं जो मुझे देखकर मुस्कुराते हैं। हमें एक दूसरे के नामों को जानने की ज़रूरत नहीं थी। बस थोड़ा सिर हिलाना, एक मृदु मुस्कान और एक विनम्र हैलो पर्याप्त था। शायद यही वह एक पतली रेखा है, जिस पर हम कभी ध्यान नहीं देते हैं।

निराशा के समय रात को मैं अपनी सबसे अच्छी दोस्त से बात करने बैठ जाती थी, जो अब मुंबई में नहीं रहती है, लेकिन जब तक वह यहां रही, इस बड़े शहर में रहने के लिए मुझे कुछ महत्वपूर्ण 'लाइफ हैक्स' सिखाने के लिए पर्याप्त समय था। वह मेरी सलाहकार, मेरी आपातकालीन सेवा, मेरी हेल्पलाइन और मेरे सुबह 4 बजे वाली जिगरी दोस्त, सभी कुछ थी। इस शहर में उत्तरजीविता के लिए उनकी सबसे बड़ी टिप अपनी खुद की स्मृति बैंक बनाने के लिए थी। सैर करें;  नए नुक्कड़ और कोनों को ढूंढें, अपने स्वयं के चुने विशेष स्थानों पर जाएं, अपने मनपसंद भोजनालयों की एक सूची बनाओ, जब भी उदासी महसूस करें, सहारे के लिए खरीदारी करें, जहां से लगातार खरीदारी करना पसंद करते हैं। इस शहर को सभी के साथ गले लगाओ और उसके बाद देखो कि आप कितना घर जैसा महसूस करते हैं।

यह अज्ञात है जो आपको डराता है, ज्ञात हमेशा आराम देता है.

नम्रता एक निवेश बैंकर से लेखिका बनी हैं, वह मुंबई में रहती है.

यह कहानी पुर्नवास से परे, स्थानांतरण की एक श्रृंखला से ली गई है और यह हमारे भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य पर कैसे प्रभाव डालती है। यहां और पढ़ें -

1. हमें प्रवास के भावनात्मक प्रभाव को स्वीकार करने की जरूरत हैः डॉ. सबीना राव

2. संगठनों को, कर्मचारियों के परिवर्तन में मदद करनी चाहिएः मौलिका शर्मा

3. प्रवास के मायने हैं: एक चुनौती, साहस और अपने बारे में जानने का अवसर: रेवती कृष्ण

Related Stories

No stories found.
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org