समाज एवं मानसिक स्वास्थ्य

स्थानांतरण से परे: मेरा घर क्या था, इसे हर कोई नहीं पहचान पाया

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

वियो को यह अहसास हो पाता कि उसने क्या कह दिया है, उससे पहले ही मैं सिसकते हुए सोफे पर बैठ गई, वियो मिनट भर के लिए भौचक्की खड़ी रह गई। तब वह नीचे बैठी और मेरे चारों ओर अपनी बाहें डाल दीं। उसने कहा "निस्संदेह वह तुम्हें किसी को दिखाना चाहता होगा, कोई भी ऐसा ही करेगा"। मैं और जोर-जोर से रोने लगी।

मैं दस महीने लंबे एक फैलोशिप कार्यक्रम के लिए सिएटल में थी। और वहां मैं एक अद्भुत आदमी से मिली। कुछ हफ्ते बाद ही हमने डेटिंग शुरू कर दी। वह मुझे अपने परिवार से मिलाना चाहता था जैसा कि मैं उस आने वाली शाम को लेकर झल्ला गई थी, आश्चर्य व्यक्त करते हुए मैं जोर से बड़बड़ाई, वह मुझे अपने घर क्यों ले जाना चाहता है। तब घर में मेरे साथ रहने वाली सहयोगी ने कहा, माई डियर, ऐसा इसलिए कि, "वह तुम्हें प्रदर्शित करना चाहता है।" मैंने उसकी ओर देखा और जोर से रोने लगी।

मेरे घर भारत में,  यह बहुत अलग था। वहां मैं 'प्रदर्शित की जाने वाली'  अकेली नहीं थी। तीस साल की उम्र तक,  मुझ पर लेबल लग चुका था 'इसकी शादी नहीं हो सकती।' कोई बात नहीं है कि मैं एक व्यवस्थित विवाह के विचार से घृणा करती हूं। मैं बेवकूफ थी, एक मोटी, शर्मीली, भद्दी, एक अजीब गेंद सी,  एक ऐसी जिसे दूर छिपा दिया जाना चाहिए।

सिएटल में,  इन लेबलों को कोई भी नहीं जानता था। यहां मुझे 'क्यों नहीं!'  के रूप में पहचाना गया था- जैसे कि, जब किसी से पूछा गया कि क्या वह कोई चुनौतीपूर्ण लेकिन मजेदार बात करने पर विचार करेगी, तो प्रतिक्रिया मिली 'क्यों नहीं!' मैं उत्साहित थी,  एक सामाजिक,  और सबसे आश्चर्यजनक,  एक ऐसी जिस पर किसी आदमी को गर्व होगा।

एक दर्जन से अधिक रिश्तेदारों द्वारा ठुकरा दिए जाने वाले लेबल को यहां नहीं देखा जाने के अनुभव ने मुझे खुद के बारे में अपने विचारों का पुनर्मूल्यांकन करने पर विवश कर दिया। मैंने सोचा, ये सभी लोग गलत नहीं हो सकते। मेरा प्रोग्राम समन्वयक शायद सही था, जब उसने मुझे बताया कि वह मुझे उदासीनता से बाहर खींचे जाने के लिए भरोसा कर सकता है। तो वह था मेरे कार्यालय के बाहर एक बेघर आदमी जिसने मुझ पर ध्यान दिया, और जब भी मैं मीटिंग के तैयार हुई, यह कहते हुए मेरा अभिवादन किया 'लुकिंग गुड, लेडी!

मैंने फैसला किया कि मुझे खुश रहना चाहिए। मुझे एहसास हुआ कि मैं इस खुशी को पाने में खुद सक्षम हूं।

और इसलिए,  जब मैं भारत लौट आई, तब मैंने अपने बैग फिर से पैक कर लिए। अपने परिवार के साथ रहने के बजाय, मैंने देहरादून में अपने लिए एक नौकरी तलाश ली। यह कदम सिएटल में मेरे अनुभव से बहुत ज्यादा कठिन था। यहां किसी फेलोशिप कार्यक्रम की मदद के बिना इसे मैं खुद अपने बूते पर कर रही थी। यहां एक जैसा अनुभव बांटने कोई सहायक समूह नहीं था, ना कोई शानदार तरीके से हाजिर जवाबी में माहिर और विचलित न होने वाला प्रोग्राम समन्वयक ही था। यहां सिर्फ मैं,  मेरा तन और एक सप्ताह की समय सीमा, जिसमें मुझे एक घर ढूंढना था।

मुझे रहने के लिए एक घर मिल गया। मैंने एक लाइब्रेरी और कॉफी शॉप भी तलाश ली। मैंने उन दुकानों को ढूंढ लिया जहां से मैं आवश्यकता की और मौज मस्ती की खरीदारी कर सकती थी। मैंने अपने वीकेंड्स को मज़ेदार चीजें करने में बिताया। मैं व्यवस्थित हो चुकी थी और मैंने यहां अपने लिए एक घर बना लिया। मैंने कुछ दोस्त भी बनाए।

मेरा घर क्या था, इसे हर कोई नहीं पहचान पाया। मेरे सहयोगियों और मेरे परिवार की नजर में यह सिर्फ रहने के लिए 'एक कमरा' था क्योंकि अकेली रहने वाली महिला केवल जीने का अभिनय करती है। सहकर्मियों ने गंभीरता से सुझाव दिया कि वन  बीएचके फ्लैट में रहने के बजाय,  मैं कहीं और पेईंग गेस्ट के रूप में रहूँ। वे पूछा करते "तुम्हें घर क्यों चाहिए?"। तब मैं उन्हें कहती "क्योंकि यह मेरा घर है"। "क्योंकि मैं आराम से रहना चाहती हूं। मैं अपना अलग शुद्ध भोजन पकाना चाहती हूं। मैं मनोरंजन करना चाहती हूं। वास्तव में,  मैं बिल्कुल वो ही चीजें करना चाहती हूं, जैसी आप करते हैं।" मुझे दुख हुआ कि मुझे अपने जीवन की असलियत का बचाव करने की आवश्यकता पड़ी। जब मैंने अपने खरीदे गए फर्नीचर के बारे में परिवार को बताया तो उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया, इसने मुझे हताश कर दिया। यद्यपि मैं बत्तीस वर्ष की थी, तब भी मुझसे एक छात्र की तरह अस्थायी जीवन जीने की उम्मीद की जा रही थी, क्योंकि मैं अविवाहित थी।

मुझे उत्तराखंड में आए अब आठ साल हो चुके हैं। मैंने उसी व्यक्ति से शादी की, जिससे सिएटल में मेरी मुलाकात हुई थी। और उसके बाद हमने एक जगह ले ली, जहां एक कुत्ता, बगीचा, झगड़ेदार मुर्गियों का झुंड और भाग-दौड़ है।

छह महीने पहले,  मेरे परिवार द्वारा मुझे सलाह दी गई कि अपने आधार कार्ड पर मैं अपनी मां का पता लिखवा लूं। क्योंकि प्रकट रूप से, वही मेरा 'वास्तविक पता' है, जिस फ्लैट में पिछले एक दशक के दौरान मैं हफ्तेभर से ज्यादा नहीं रह सकी।

पिछले एक दशक में मैंने जो कुछ सीखा, वह यह है कि अन्य लोग मुझ पर लेबल लगाने का कोई अधिकार नहीं रखते हैं।

चिकु, एक स्वतंत्र सलाहकार हैं, जो पानी को लेकर होने वाले संघर्षों पर काम कर रही हैं, हिस्सेदारी समझौता वार्ताओं पर उनका विशेष ध्यान है। वह हिमालय स्थित एक खेत में अपने पति के साथ रहती हैं।

--

यह कहानी स्थानांतरण से परेसे है। माइग्रेशन पर एक श्रृंखला, और किस प्रकार यह हमारे भावनात्मक और मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती है। यहां और पढ़ें:

1. हमें प्रवासन के भावनात्मक प्रभाव को स्वीकार करने की आवश्यकता है: डॉ. सबीना राव

2. संगठनों को कर्मचारियों के पारगमन में मदद करनी चाहिए: मौलिका शर्मा

3. स्थानांतरण में निहित है: एक चुनौती, साहस और अपने बारे में जानने का अवसर: रेवथी कृष्णा

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org