सामान्य स्थिति को पुनःपरिभाषित करना - महामारी के दौरान आशा बनाए रखने का क्या मतलब है
समाज एवं मानसिक स्वास्थ्य

सामान्य स्थिति को पुनःपरिभाषित करना - महामारी के दौरान आशा बनाए रखने का क्या मतलब है

अतीत के खुशी के क्षणों को याद करना, रणनीतिक कौशल का उपयोग करना, ऑनलाइन समुदाय खोजना - इस समय में लोग आशा कैसे बनाए रख रहे हैं

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

एक युवा मुवक्किल पारिवारिक योजना बनाने के बारे में अपनी चिंताओं को साझा करते हुए सत्र की शुरुआत करती है। कई संज्ञानात्मक और दैहिक सत्रों के माध्यम से काम शुरू करने से पहले वह अपनी आशंकाओं का उल्लेख करती है। जैसे-जैसे हम आगे बढ़ते गए उसकी आशंकाएं की जगह एक नए उत्साह ने ले ली।

दीर्घकालिक उत्कंठा से जूझ रहा एक पेशेवर सिंगापुर में एक नई परियोजना को शुरू करने के लिए उत्सुक है। अनुबंध पर हस्ताक्षर हो चुके थे और वीज़ा भी मिल चुका था। सिर्फ रवाना होना बाकी था। संक्रमण की चिंताओं के बीच नई आकांक्षाओं पर चर्चा की जाती है और जीवन के लक्ष्य निर्धारित किए जाते हैं।

एक ऐसा युवा, जो एक समय में परीक्षा सम्बन्धी उत्कंठा और हमउम्रों के साथ तुलना के भयंकर दबाव के साथ संघर्ष कर चुका था, उसने एक लंबा सफर के बाद हाल ही में स्नातक की डिग्री प्राप्त की है। हमारी बातचीत अब नई महत्वाकांक्षाओं, गर्मी के मौसम के करीब आने की उमंग और कामकाजी जीवन की शुरुआत से सम्बन्धित घबराहट पर केंद्रित है।

आज महामारी के समय में उन्हीं मुवक्किलों के साथ सत्रों में जो अंतर आया है, वह चौंका देने वाला है। उनके पहले की चिंताओं में चाहे जो भी अंतर रहे हों, वे सभी अब आजीविका और अनिश्चितता जैसी नई समानताओं से जुड़े हुए हैं। वे लोग जो कभी परिवार शुरू करने के लिए उत्सक हुआ करते थे, अब उनके मन में क्लीनिक और अस्पताल जाने का एक अलग सा डर दिखता है। युवा स्नातक के लिए अनिश्चितता ने शुरुआती उत्साह की जगह ले ली है। जो पेशेवर अपने कैरियर के एक महत्वपूर्ण चरण में खड़ा था उसकी निराशा स्पष्ट है।

स्कूल और कॉलेज बंद हो गए हैं, कारोबार बंद हो गए हैं, कर्मचारी बर्खास्त हो गए हैं और शादियां पहली बार स्थगित हुई हैं। वह दुनिया, जो घड़ी के साथ कदम मिलाकर लगातार सालों से चली जा रही थी, अब उलट चुकी है। देश में लॉकडाउन चल रहा है।

इस अराजकता और अनिश्चितता में सामान्य स्थिति को फिर से परिभाषित करना ज़रूरी है।

अब हमारे सत्रों में हम उपलब्ध और अकल्पित विकल्पों के बारे में बात करते हैं। एक बार हम यह समझ जाएँ कि जीवन के हर महत्वपूर्ण निर्णय और योजना, जो निश्चितता के साथ बने थे, निश्चितता के बावजूद बदले जा सकते हैं और समयसीमा समायोजित और/या स्थगित की जा सकती है, तो हर समस्या का समाधान हो सकता है।

हम नौकरी की बरख़ास्तगी का सामना करते हैं इससे जुड़े कलंक की ख़ोज करके और इस एहसास से कि एक नई कंपनी से जुड़ने (जिसका अर्थ है कि बरख़ास्त होने की अधिक संभावना) जैसा रणनीतिक जोखिम सम्मान का एक बिल्ला है। रूपांतरण तब होते हैं जब आपको अचानक परिवर्तन करने के लिए मजबूर किया जाता है। ऐसी परिस्थितियों में रणनीतिक कौशल की ज़रूरत होती है जो आपको अपने अवसरों का लाभ उठाने और अपने कैरियर को फिर से बनाने का मौका देते हैं।

जो पेशेवर उन टूटे हुए सपने के टुकड़े बटोर रहे हैं, जो कभी एक नया अवसर जान पड़ते थे, हम उनके लिए विकल्पों और समयसीमा को पुन:व्यवस्थित करने की कोशिश कर रहे हैं। इस तरह के सत्रों में हम सबसे पहले एक गहरी सांस (लाक्षणिक रूप से और वास्तव में) लेते हुए शुरुआती थकान को दूर करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं। इसके बाद अनुभवों को याद करते हैं, ख़ुशी के पलों को ढूंढ़ते हैं - जैसे कि महत्वपूर्ण व्यक्तिगत घटनाएं, उपलब्धियां, जीते गए अनुबंध, प्राप्त की गई प्रशंसा, अर्जित पदोन्नति (कभी-कभी बाधाओं के खिलाफ), चुनौतियों से उबरना और एक 'सकारात्मक स्क्रैपबुक' का निर्माण करना, जो प्रतिकूल परिस्थितियों में उन्हें सहारा देती है। वीडियो सत्र में भी पता चलता है कि उनकी मुस्कुराहट उनकी आंखों तक पहुंच गई है और उनके कंधे सीधे हो जाते हैं!

एक थेरपिस्ट होने के नाते मुझे पता है कि मुवक्किल की थकावट और घबराहट को दूर करने से उनकी अंतर्निहित उत्तरजीविता की प्रवृत्ति प्रेरित होती है, जिससे आकस्मिक योजनाओं पर काम करने का मार्ग प्रशस्त होता है।

जब मुवक्किल मुझसे संपर्क करते हैं उनका भविष्य अनिश्चित होता है और यह स्पष्ट झलकता है कि अपनी व्यक्तिगत चिंताओं के साथ वे सामूहिक रूप से इस महामारी के बीच अकेले और परित्यक्त महसूस कर रहे हैं। हालांकि सामाजिक दूरी का मतलब अकेलापन और अलगाव ही नहीं है। हमारा सामाजिक जीवन वीडियो कॉन्फ्रेंस और वर्चुअल खेलों के माध्यम से ऑनलाइन रूप में भी जीवंत हो सकते हैं। यह ज्ञात होना ज़रूरी है कि यह एक ऐसा समय है जब पूरी मानवता सामूहिक रूप से एक ही कठिन परिस्थिति का सामना कर रही है।

एक बार के लिए जब हम महसूस करते हैं कि इस डर से लड़ने वाले हम अकेले नहीं हैं, तो राहत की एक भावना महसूस होती है, चाहे अवचेतन में ही सही। हम इसमें अकेले नहीं हैं और इस तरह से महसूस करने वाले हम अकेले नहीं हैं। पहली बार हम सभी एक नए सामान्य को फिर से परिभाषित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। जीवन का एक नया तरीका।

मैंने हाल ही में अपने पड़ोसियों के साथ ज़ूम पर तंबोला खेलने से मिले आनंद को साझा किया था। हम छह जन हैं जो एक दूसरे के करीब रहते हैं। हमने सामूहिक रूप से सामान्य स्थिति को फिर से परिभाषित करके अलगाव से लड़ने का फैसला किया। हमने मिलकर वाइन पी और एक दूसरे की टांग खींची। हमारे घर हमारी हंसी से गूंज रहे थे। पुरानी दोस्ती नए समय के अनुसार ढल रही थी।

खुशी और पूर्ति मेरे सत्र के बाद एक मुवक्किल से एक मैसेज के रूप में आती है। “क्या आपने हाउसपार्टी के बारे में सुना है? यह एक नया ऐप है जो मेरे दोस्तों ने मुझे भेजा है। इसके द्वारा हम वीडियो कॉन्फ्रेंस के साथ-साथ गेम्स भी खेल सकते हैं। मैं आज रात को अपने दोस्तों से मिल रहा हूं!" उसका मैसेज आता है। उसने यह भी बताया था कि आप ऐप पर कई 'हाउस-पार्टियों' के बीच आवाजाही कर सकते हैं। यह मैसेज छोटा ही था लेकिन इसने काफी जानकारी प्रदान की - इसने मुझे एहसास दिलाया कि नया सामान्य भी समान रूप से जीवंत और गतिशील हो सकता है।

जया इंटीग्रल सोमेटिक साइकोलॉज़ी में विशेषज्ञ होने के साथ एक काउंसेलर और साइकोथेरपिस्ट हैं।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org