आत्महत्या निवारण

आत्महत्या से हुए नुकसान के दुख से बाहर आना

डॉ. नंदिनी मुरली

किसी  प्रियजन की मौत, जो आत्महत्या हो, अद्वितीय मात्रा का तनाव पैदा करती है और यहां तक कि जो व्यक्ति मनोवैज्ञानिक रूप से सबसे परिपक्व है, उसके लिए भी इसका जवाब देने में कठिन हो सकता है।

एडवर्ड ड्यून

आत्महत्या और उसके बाद: उत्तरजीवी लोगों को समझना और परामर्श देना

शोक और वियोग सर्वव्यापी हैं। हाऊ वी ग्रीव: रीलर्निंग द वर्ल्ड पुस्तक में थॉमस एटिग इन के बीच अंतर को समझाते हैं। उत्तरार्द्ध में, वे कहते हैं, कि जब हम अपने किसी प्रियजन को खो देते हैं या वियोग महसूस करते हैं तो भावनाओं के एक ज्वार का अनुभव करते हैं। शोक मनाना, वियोग  की ही प्रक्रिया का हिस्सा है। जबकि वियोग को लेकर हमारे पास कोई विकल्प नहीं होता है,  "विकल्पहीन" होने के बाद भी हमारे पास हर विकल्प है कि हम इस पर किस तरह प्रतिक्रिया करें।

किसी प्रियजन को आत्महत्या में खोने का नुकसान झेल रहे परिजनों की जिंदगी में आत्महत्या की यह घटना उनकी मान्यताओं और मानदंडों को तोड़कर रख देती है; यह बहुत ही भ्रामक और तीव्रता से भरा एक अलग अनुभव है। उन ही लोगों की तरह, जिन्होंने वियोग के अन्य रूपों का अनुभव किया है, आत्महत्या के उत्तरजीवी लोग भी प्रियजन को खोने पर शारीरिक और भावनात्मक प्रतिक्रियाओं का अनुभव करते हैं। शारीरिक लक्षणों में सिरदर्द, पेट खराब रहना,  भूख न लगना, सदमा, आवाज और रोशनी के प्रति संवेदनशीलता में वृद्धि, ब्लड प्रेशर में उतार-चढ़ाव, अनिद्रा और थकान शामिल हो सकते हैं।

जबकि आत्महत्या का वियोग,  गैर-आत्महत्या के वियोग से कुछ हद तक मिलता-जुलता है, लेकिन कई मामलों में यह पूरी तरह से अलग है। मृत्यु को खुद आमंत्रित करने के तरीके को आत्म-संरक्षण के मौलिक आदर्शों का उल्लंघन माना जाता है - इसे बहुत मुश्किल से ही सामाजिक स्वीकृति मिल पाती है, शायद ही कोई इसे ठीक समझे। आत्महत्या से जुड़े कलंक, शर्म, रहस्य और चुप्पी के साथ ही आत्महत्या को अपराध या पाप माना जाता है। यह पीड़ित के लिए एक गंभीर चरित्र दोष का संकेत भी मान लिया जाता है।

इस घटनाक्रम में प्रियजन को खोने वाले परिजनों पर भी छींटे पड़ते हैं, जिससे इस बारे में उनसे बात करना और भी कठिन हो जाता है। व्यक्ति ने आत्महत्या क्यों की, इस बारे में उसके परिजन कभी-कभी इसे अनदेखा, अनसुना कर शांत ही रहना चाहते हैं।

"दुखों का पहाड़ टूट पड़ना"

आत्महत्या जैसी मौत कोई और नहीं, जो भी व्यक्ति ऐसी बात कहता है, वह  जानता है कि वह क्या कह रहा है। इस संदर्भ में वियोग के अनुभव को "दुखों का पहाड़ टूट पड़ना" के रूप में माना जा सकता है। इसका सीधा सा मतलब है कि क्रोध, भय, उदासी और अपराधबोध जैसी तीव्र और बढ़ी हुई भावनाएं मन में आना, जो इस तरह के नुकसान की सामान्य प्रतिक्रिया के रूप में सामने आती हैं। नतीजतन, वियोग की यह प्रक्रिया लंबी और बहुत जटिल होती है, जिसे उपयुक्त रूप से जटिल शोक कहा जाता है।

आत्महत्या की कोई भी घटना अचानक, हिंसक और अप्रत्याशित होती है। यहां तक कि अगर आपको व्यक्ति के आत्महत्या कर लेने की संभावना का आभास भी था, तो भी ऐसा कुछ नहीं जो इस नुकसान की वास्तविकता के लिए आपको तैयार कर सके। चाहे आप इस बारे में सुनते हैं, जानते हैं या इससे भी बुरा, इसे देखते हैं - तो इसकी बहुत संभावना है कि आप सदमे के साथ अभिभूत महसूस करेंगे और आप में अविश्वास की एक गहन भावना जड़ कर जाएगी। स्पष्ट रूप से, इस तरह के अनुभव अक्सर शोक के अन्य रूपों (जैसे मृत्यु, दुर्घटना या प्राकृतिक आपदाओं के कारण मौत) की तुलना में बहुत ज्यादा सदमा पहुंचाते हैं।

आत्महत्या करने वाले के परिजनों को अक्सर दो उलझन भरे और चुनौतीपूर्ण सवालों का सामना करना पड़ता है: मेरे प्रियजन ने खुद को मारने का फैसला क्यों किया? क्या मैं इस बारे में अनुमान लगाने और इसे रोक पाने के लिए कुछ कर सकता था? यह सोच अपराधबोध और खुद को दोषी ठहराने की दर्दनाक भावनाओं का कारण बनती है, जो इस तरह के नुकसान के लिए अद्वितीय होती है। मेरे मामले में, अस्वीकार किए जाने और परित्याग की भावनाओं के साथ ही मेरा संघर्ष यह समझने के लिए भी था कि आखिर मेरी पत्नी ने यह कदम क्यों उठाया? जो मौत आत्महत्या से न हुई हो, उसमें इन भावनाओं को अनुभव करने की जरूरत नहीं पड़ती है।

आत्महत्या से हुई कोई मौत, लोगों में दया और सहानुभूतिपूर्ण शोक जताने की उस प्रक्रिया जैसी नहीं मिल पाती, जो अन्य किसी तरह से हुई मौत के मामले में मिलती है। आत्महत्या का नुकसान झेलने वाले के रूप में, अधिकांश लोगों द्वारा मेरे प्रति सहानुभूति की कमी ने मुझे अलग-थलग, बहिष्कृत और अप्रिय सा महसूस कराया। मेरे ज्यादातर रिश्तेदार खुद अपने दुःख में डूबे लग रहे थे; अपने लिए वे किसी ऐसे व्यक्ति को खोने का दुख मना रहे थे जो उनके लिए अविश्वसनीय रूप से कीमती था। ऊपरी हावभाव छोड़ दें तो मेरी स्थिति को लेकर उनके मन में किसी प्रकार की अतिरिक्त करुणा और चिंता नहीं थी। क्या इसलिए कि लोग आत्महत्या से इतने भ्रमित और स्तब्ध थे कि उन्हें पता ही नहीं था कि किस तरह की प्रतिक्रिया दी जाए? अधिकांश मित्रों की प्रतिक्रियाएँ भी कुछ इसी तरह की थीं। इस तरह के अज्ञान और उदासीनता के माहौल में, असमानता और असंवेदनशीलता की भावना ही व्याप्त रहती है।

एक अतिरिक्त उत्पीड़न

आत्महत्या की घटना से हुई मौत फिजूल की अटकलों और गपशप के लिए चारे के समान होती है - यह मौत का सार्वजनिक मामला होता है, जहां आत्महत्या के कई मेडिको-लीगल उलझाव शामिल रहते हैं, जिनमें बड़ी मात्रा में कानून प्रवर्तन अधिकारियों की असंवेदनशीलता और घुसपैठ होती है - मृतक के रिश्तेदारों से उस वक्त पूछताछ करना जब वे सदमे के कारण सबसे ज्यादा असुरक्षित महसूस कर रहे होते हैं। इस तरह की पूछताछ उनके लिए एक अतिरिक्त उत्पीड़न होता है, जो उन्हें और कटु अनुभव का अहसास कराता है।

आत्महत्या से जुड़ीं सामाजिक प्रक्रियाओं में कलंक, गोपनीयता, शर्म और चुप्पी शामिल हैं। आत्महत्या से अपने प्रियजन की हुई मौत का नुकसान झेल रहे रिश्तेदार और दोस्त, उन्हें मिलने वाली सूचनाओं और संवेदनशील प्रतिक्रियाओं के बारे में अनिश्चित और भ्रमित रहते हैं। सामाजिक बदनामी एक दर्पण के रूप में कार्य करती है और इसके परिणामस्वरूप, पीड़ित परिजन या दोस्त नकारात्मक सामाजिक नजरिए और शर्म से अंदर तक हिल जाते हैं। वे अक्सर आत्महत्या को रोकने में विफल रहने में अपनी भूमिका को ज्यादा महत्व देते हैं।

आत्महत्या करने वाले के परिजन अक्सर डरते हैं कि उन्हें और मृतक को नकारात्मक रूप से देखा जाएगा और यही कारण है कि वे खुद को अलग थलग कर लेते हैं या लोगों से मिलना जुलना बंद कर देते हैं। बदनामी से उबरने के लिए वे मौत का कोई स्वीकार्य कारण बताने की कोशिश करते हैं। सामाजिक संबंधों में इस तरह का नुकसान और परिवार के भीतर और बाहर के पारस्परिक संबंधों के टूटने से आत्महत्या का नुकसान झेल रहे पीड़ित परिजनों को हालात से उबरने में देरी लगती है।

आत्महत्या के उत्तरजीवी के लिए, यदि रिश्तेदार और दोस्त इस मुद्दे पर संवेदनशील होते हैं तो यह पीड़ित व्यक्ति के लिए बहुत उपयोगी होता है। इतना बड़ा नुकसान झेल रहे व्यक्ति को करुणामय तरीके से जवाब देना और उसका साथ देने के बारे में सोचा जाए। यह एक जटिल मामला है जिसे निर्देशित करने के लिए काम करना होता है, लेकिन ऐसा करने से आत्महत्या करने वाले के परिजनों या उत्तरजीवियों को बहुत आवश्यक सहारा मिल सकेगा।

डॉ. नंदिनी मुरली संचार, लैंगिक और विविधता से जुड़ी एक पेशेवर है। आत्महत्या हानि की हालिया उत्तरजीवी, उन्होंने आत्महत्या पर चर्चाओं को बदलने और मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए एमएस चेलामुथू ट्रस्ट एंड रिसर्च फाउंडेशन, मदुरै की पहल पर स्पीक की स्थापना की है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org