मन की सेहत

क्या आप लचीलापन विकसित कर सकते हैं?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

क्या तनाव के संपर्क में आने के बाद कोई व्यक्ति लचीला हो सकता है? तनाव से निपटने के विषय पर स्नातक विद्यालय के दौरान मुझे बहुतायत में मिले असाइनमेंट्स में से किसी एक में यह पूछा गया था। तब से कई सालों से, मैंने अपने नैदानिक ​​अनुभव और अकादमिक कार्य के माध्यम से सीखा है, कि लचीलापन सीखा जा सकता है, जिसका अर्थ है कि हम अपने जीवनकाल में कौशल हासिल कर सकते हैं और जैसे-जैसे जीवन हमें कठिन मार्गों में ले जाता है, हम लचीलेपन के लिए अपनी व्यक्तिगत क्षमताओं का निर्माण कर सकते हैं।

तो, लचीलापन (resilience) क्या है? मनोवैज्ञानिक साहित्य ने संकट या तनाव की हालत से 'वापस लौटने' के लिए कुछ हद तक स्थिर संतुलन बनाए रखने की क्षमता को मापने के रूप में लचीलेपन को परिभाषित किया है।

हालांकि, लचीलेपन या पलटाव का विस्तृत रूप है, जिसमें व्यक्तिगत लक्षण, सामना करने के सक्रिय तरीके और प्रक्रियाएं, व्यक्तिगत जीवन में जोखिम और सुरक्षा कारक, और साथ ही सांस्कृतिक संदर्भ भी शामिल हैं, जिनका तनाव व्यक्ति को प्रभावित करता है। उदाहरण के लिए, आघात या मौत का सामना कर लेने के बाद सैनिक कैसे सेवा में वापस आते हैं? हिंसक घटना को देखने के बाद पुलिस अधिकारी कैसे अपनी ड्यूटी पर वापस जाते हैं? और हम में से अधिकांश व्यस्त जीवन के दिन-प्रतिदिन के तनाव का सामना करते हुए कैसे  काम और घर के दबाव को संतुलित करते हैं? यह आमतौर पर उन कई घटकों का संयोजन होता है जो हमें जीवन की अनूठी और दैनिक चुनौतियों का प्रबंधन करने की अनुमति देता है।

आइए इसका थोड़ा और विश्लेषण करें। दिन-प्रतिदिन के स्तर पर, कर्मचारी के बारे में सोचें (इस अवसर पर शायद हम खुद) जो अत्यधिक काम के बोझ से दबा है, आलोचना और भारी दबाव का सामना करता है,  और सुपरवाइजर द्वारा निर्धारित असाधारण ऊंची उम्मीदों को कैसे पूरा किया जाए, इस पर आश्चर्य करता है। और फिर उनसे कोई महत्वपूर्ण गलती, त्रुटि, या कोई दुर्घटना अवश्य हो जाती है। इस त्रुटि का जवाब कैसे दें?

चरम स्थिति में, कोई गंभीर आघात, किसी महत्वपूर्ण व्यक्ति की मौत, आतंकवादी हमले, या अन्य अपमानजनक घटनाओं के संदर्भ में भी पलटाव होता है। ऐसी घटनाओं के बाद, एक स्थिर मानसिक और भावनात्मक संतुलन को बनाए रखना एक चुनौती हो सकती है। शोध से पता चलता है कि लचीलापन व्यक्तियों में कई तरीकों से खुद को पेश कर सकता है। यह आपके जीवन में मौजूद सुरक्षा संरचनाओं पर निर्भर हो सकता है, आपके समग्र स्वास्थ्य और व्यक्तिगत लचीलापन जो आप किसी मुश्किल घटना के बाद दिखा सकते हैं। एक वयस्क के रूप में, लचीलेपन का सामना करने के साथ बहुत कुछ करना पड़ता है, ताकि आप पूरी तरह से डर, असहायता, निर्णय और आत्म-आलोचना के तनाव से प्रभावित न हों।

फिर हम अलग-अलग प्रतिक्रिया करना कैसे सीख सकते हैं? मैं कहना चाहूंगा – सचेतना से। इसका अर्थ है [विकासशील] आत्मबोध में व्यस्त होने की क्षमता, अपने विचारों, भावनाओं और शारीरिक संवेदनाओं पर गैर-आलोचनात्मक रूप से ध्यान देना। इसका मतलब यह भी है कि असुविधाजनक और परेशान करने वाले विचारों और भावनाओं को सिर्फ सामान्य रूप से देखने और निरीक्षण करने का तरीका विकसित करना। इसके बाद, प्रतिकूल घटना या बाधा को नकारात्मक परिप्रेक्ष्य से देखने की सक्षमता से आगे बढ़कर 'एकाकी दृष्टा' के रूप में इसका सामना करने के विकल्पों के लिए कई नजरिए से देखने की क्षमता का विस्तार करना आवश्यक है। कष्टमय भावनाओं और अनुभवों के समाधान के लिए विकल्पों को रखना और उन पर पूरी तरह से विचार करना, हमें अपने भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए साधन या वांछित परिणाम की ओर काम करने का लचीलापन देता है।

कर्मचारी के मामले में, वांछित परिणाम आसानी से पता चलाया जा सकता है कि त्रुटि कैसे हुई, और इसमें उनकी भूमिका को समझाकर, ताकि वे अपने प्रावीण्य को अमल में ला सकें और भावी त्रुटियों को संभालने अपनी समझ को आकार दे सकें। गंभीर आघात के संदर्भ में,  व्यक्ति को आघात के साथ (पारिवारिक / मित्र के सहारे) सक्रिय रूप से सामना करने के लिए व्यक्तिगत संसाधनों के गहन अन्वेषण, भावनात्मक सहायता के लिए चिकित्सा एवं शुरुआती व्यावसायिक हस्तक्षेप अपनाना चाहिए, जैसे  मुश्किल भावनाओं को दबाने का विरोध करना, और अच्छी तरह से आराम करना, स्वस्थ आदतों का विकास करना, हद से ज्यादा थका देने वाला परिश्रम नहीं करने देना जैसी अपने शरीर की आवश्यकताओं की सुनकर, और सर्वोत्कृष्टता की भावना पर काबू पाना, ये सभी बहुत बढ़िया समाधान होते हैं।

इसके अतिरिक्त, एक दर्दनाक घटना या कठिन तनाव का सामना करने के बाद, हम अपने कौशल, हमारी योग्यता, हमारे आत्म-मूल्य और ज्ञान पर सवाल उठाना शुरू कर देते हैं। हम अपने अंदाजे को लेकर और ज्यादा संवेदनशील हो सकते हैं कि हमारे साथी हमारे बारे में क्या सोच रहे होंगे, और इससे पहले कि हम इसे जान सकें, हम आत्म-संदेह,  आलोचना और कठोरता के घूमते-गिरते मार्ग से यात्रा करना शुरू कर देते हैं। यह मार्ग हमें एक और कठिन भावनात्मक स्थिति में ले जाता है जहां पहुंचकर हम अटक जाते हैं। और अपनी भावनाओं में बहते हुए एक अलग भावनात्मक परिणाम (यानी, क्रोध से स्वीकृति तक जाना), जो मुकाबला करने का लचीलापन-आधारित एक प्रमुख लक्षण है, उस तक पहुंच जाते हैं। आलोचनाओं के बीच, प्रतिकूलता का सामना करने का एक सार्थक और सक्रिय तरीका यह है कि हम अपने संपर्कों, समर्थन प्रणालियों, सलाहकार, दोस्तों, चिकित्सकों के बारे में सोचें और उन तक पहुंचें, जो हमें गिरावट के बाद आशावाद को बढ़ावा दिला सकता है।

यदि इस लेख से कोई एक चीज आप लेते हैं,  तो वह यह है कि लचीलापन एक प्रबुद्ध कौशल और योग्यता हो सकती है,  ऐसा जरूरी नहीं कि आपके पास या तो कुछ भी हो या नहीं। दूसरों के साथ उपयोगी जुड़ाव के हमारे स्तर को बढ़ाना और तनाव या किसी संकट के बाद प्रभावी ढंग से मुकाबला करने के लिए खुद को आगे बढ़ाने का एक तरीका, बनाम संकट का सामना करने में टालमटोल का तरीका अपनाना।

दिव्या कन्नन, पीएचडी,  यूएसए के नैशविले में वेंडरबिल्ट विश्वविद्यालय के नैदानिक मनोवैज्ञानिक हैं, जहां उन्होंने पिछले कई सालों में हिंसा पीड़ित वयस्कों के साथ काम किया है। वह वर्तमान में बैंगलुरू में एक प्रैक्टिसिंग चिकित्सक हैं।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org