मन की सेहत

क्या ब्लॉगिंग आपको स्वस्थ होने में मदद कर सकती हैं?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मध्य अमेरिका में ग्वाटेमाला के ग्रामीण इलाकों में, छोटी दस्तकारी गुड़िया जिन्हें वरी डाल्स यानी चिंता वाली गुड़िया कहा जाता है, इन्हें उन लोगों को (आमतौर पर बच्चों को) दिया जाता है, जिनको सोने में दिक्कत है या चिंता की पुरानी समस्याएं हैं। चिंताग्रस्त हर रात सोने जाने से पहले अपनी मुसीबतों को गुड़ियों से फुसफुसाते हैं और किंवदंतियों के अनुसार, गुड़िया परेशानियों को हर लेती हैं और उनको रात भर अच्छी नींद देती हैं।

हम में से जो अधिक डिजीटल समय में रहते हैं, उनके लिए लगता है कि इंटरनेट-सक्षम कंप्यूटर वरी डाल्स के रूप में आ गए हैं। अपने व्यक्तिगत अनुभव साझा करने के लिए तकनीकी-आधारित मंच जिसे 'ब्लॉग' (वेबलॉग का संक्षिप्त रूप) कहा जाता है, को चुनने वाले लोगों की संख्या बढ़ रही है, उनका कहना है कि ब्लॉगिंग ने उनके लिए स्वयं थेरेपी के रूप में काम किया है।

संस्कृतियों के पार, चाहे हम चिकित्सक से बात कर रहे हों, मित्र से बात कर रहे हों, निजी पत्रिका या ब्लॉग में लिख रहे हों, माना जाता है कि हमारी भावनाओं को शब्दों में रखने के कार्य का बहुत ही शांति प्रदान करने वाला प्रभाव पड़ता है। जब हम अपनी समस्याओं को शब्दों में रखते हैं, तो हम अपने मस्तिष्क के –प्रीफ्रंटल कॉर्टेक्स – यानी समस्या सुलझाने वाले हिस्से को तार्किक गतिविधि की इजाजत देते हैं और भावनाओं से संबंधित क्षेत्र एमिगडाला को शांत करते हैं। इस कारण हम समस्या को भावनाओं के नजरिये के बजाय तर्कसंगत दृष्टिकोण से देखते हैं।

भावबोधक लेखन के बारे में बहुत शोध किया गया है, विशेष रूप से, चिकित्सा में उपकरण के रूप में। अध्ययन बताते हैं कि जब हम अपने विचारों और भावनाओं को लेखन के माध्यम से खोजते हैं (जैसा कि भावना उजागर करने वाले लेखन परिभाषित है), यह तनाव से निपटने में हमारी मदद करता है, हमारी याददाश्त को बेहतर बनाता है, और आमतौर पर चिकित्सकों के पास दौड़ आधा करता है। अमरीकी सामाजिक मनोवैज्ञानिक डा. जेम्स पेनबेकर, कुछ चीजों में निश्चित रूप से सहमत होंगे। दो दशक पहले, डॉ. पेनबेकर ने कुछ प्रयोगों को शुरू किया था, जहां लोगों को एक साधारण अभ्यास दिया गया था- लगातार 3-4 दिन तक प्रतिदिन 20 मिनट बिना व्यवधान के लिखना होता था। जिन लोगों ने जर्नलिंग अभ्यास को सफलतापूर्वक पूरा किया, उनमें कई सकारात्मक परिणाम मिले, जिनमें ग्रेड का सुधार और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होना शामिल था। चेन्नई के ईस्ट वेस्ट सेंटर ऑफ़ काउंसिलिंग की निदेशक और क्लोजर होम की भावबोधक कला चिकित्सक मैग्डालीन जयरातनम अपने सभी ग्राहकों को दैनिक पत्रिका रखने के लिए प्रोत्साहित करती हैं। वह रचनात्मक लेखन के सभी रूपों को अपने काम में उपयोगी मानती है। जैसा कि उनके 16 वर्षीय ग्राहक के मामले में, जिन्होंने एक कहानी साझा की, उन्होंने केंद्र में अपनी पहली बार आने पर लिखी थी। "यह कहानी आदिवासी लोगों के बारे में थी जो शहरों में पलायन कर रहे थे और छोटी छोटी नौकरी ले रहे थे। एक स्थानीय नेता शहर में आदिवासियों का शोषण करता हैं और कहानी एक अप्रत्याशित मोड़ के साथ नेता के बेटे पर समाप्त होती है, जो उन आदिवासियों के जीवन के पुनर्निर्माण में मदद करने की योजना तैयार करता हैं। जयरातनम याद करती हैं कि इसके अंत तक मेरे पास मेरे युवा ग्राहक के बारे में इस कहानी से पर्याप्त सामग्री थी, जो हाल ही में एक छोटे से शहर से चेन्नई में रहने के लिए चले गए थे, " लिखित शब्द में निश्चित रूप से बहुत हीलिंग शक्ति होती है

प्रौद्योगिकी के युग में, लेखन आत्म अभिव्यक्ति का लोकप्रिय माध्यम बना हुआ है, लेकिन हस्तलिखित पत्रिकाओं की जगह तेजी से ऑनलाइन ब्लॉग ले रहे हैं। निजी पत्रिका और ब्लॉग दोनों में लेखन अपनी भावनाओं को प्रकट करने और आवाज उठाने में मदद करते हैं, लेकिन ब्लॉगिंग के साथ एक और आयाम भी जुड़ता है।

प्रौद्योगिकी आधारित होने के अलावा, ब्लॉगिंग हमें एक दर्शक देता है क्योंकि यह बहुत अधिक परस्पर संवादात्मक माध्यम होता है यह आधुनिक समय की समूह चिकित्सा जैसा है, इसके अलावा चिकित्सक का कोई भी नियंत्रण या दखल नहीं होता है। जब हम ब्लॉग लिखते हैं, तो हम वास्तव में अपनी मानवीय जुडाव की ज़रूरत को पूर्ण करते हैं। हम अपने विचारों को आंकलन किए जाने के डर के बिना साझा करते हैं, टिप्पणियां प्राप्त करते हैं, टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हैं और कभी-कभी दुनिया भर के किसी अन्य व्यक्ति के अनुभव से सीधे सीखते हैं।

ब्लॉगिंग हमें लोगों के साथ जुड़ने का मौका देती है जिनसे शायद हम अन्यथा न मिलते। यह प्रक्रिया इस धारणा को खारिज कर देती है कि इंटरनेट मित्र कभी वास्तविक नहीं हो सकते हैं। लेखक और ब्लॉगर भरत, जो पूरीसब्जी.आईएन में बहुत स्पष्टता से लिखते हैं, "यह धारणा गलत है कि दोस्ती के लिए निकटता ज़रूरी है और किसी भी दोस्ती के "असली" होने के लिए उसको कुछ पुराने मानदंडों के अनुरूप होना चाहिए। हाल के दिनों में मैंने बहुत अच्छे दोस्त बनाये हैं जो लोग आभासी दुनिया में मिले थे। जब तक मित्रता की नींव को साझा हितों और भावनाओं पर बनाया जाता है, तब तक यह वास्तव में कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका दोस्त कहाँ रहता है। "

ब्लॉगिंग उन लोगों के लिए विशेष रूप से सहायक हो सकती है जो मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों का सामना करते हैं, जहां अलगाव की भावना सामान्य है। हालाँकि इसके समर्थन में कोई मजबूत वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है, 2012 में, इजरायल के शोधकर्ताओं के एक समूह ने 161 किशोरों पर एक अध्ययन किया, जिनमें से सभी ने सामाजिक व्यग्रता या संकट कुछ स्तर तक दिखाया। किशोरों को छह समूहों में विभाजित किया गया; पहले चार को ब्लॉग में नियुक्त किया गया था और शेष दो समूहों ने निजी डायरी में लिखना था या कुछ नहीं किया। दस हफ्तों के अंत में, शोधकर्ताओं ने पाया कि ब्लॉगर्स के आत्मसम्मान में काफी सुधार हुआ है, जब उनकी तुलना उन दो समूहों से की गई जिन्होंने एक निजी पत्रिका में लिखा या कुछ नहीं किया था।

एक ब्लॉग पर अपने अनुभव साझा करके, मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे या उनकी देखभाल करने वाले लोग न केवल आभासी समुदाय का सहारा प्राप्त कर सकते हैं, बल्कि उन लोगों को प्रेरणा देते हैं जो ऐसी ही चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही है जो निजी ब्रांडिंग कोच और ब्लॉगर विजय नल्लावाला ने महसूस किया जब 2012 में बाइपोलर डिसऑर्डर के साथ अपने अनुभव के बारे में ब्लॉग किया था। यह पोस्ट जल्द ही टिप्पणियों और सलाह से भर गयी थी। विजय बताते हैं कि, जाहिर है कि बाइपोलर डिसऑर्डर से पीड़ित मैं अकेला व्यक्ति नहीं था, उसमें कुछ नया भी नहीं था लेकिन मेरे लेखन के परिणामस्वरूप, मुझे विशेष मामलों के बारे में पता चला, जैसा कि बहुत करीबी दोस्तों, रिश्तेदारों आदि ने बताया है। मैंने जिन मामलों के बारे में सुना है उनमे एक बात समान थी कि वस्तुतः उनमें से कोई भी स्थिर स्थिति में नहीं था। कई लोगों ने पेशेवर सहायता लेने से साफ इनकार कर दिया था या बहुत ढुलमुल थे। "इसने विजय को ऐसा मंच तैयार करने के लिए प्रेरित किया जहां लोग खुलकर ऐसे मुद्दों पर बात कर सकते थे। Http://www.bipolarindia.com, बाइपोलर डिसऑर्डर और अवसाद के लिए भारत का पहला ऑनलाइन समुदाय, जिसमें विजय ने अगुवाई करके अपनी ही उपचार यात्रा में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

ब्लॉगिंग आत्म अभिव्यक्ति के लिए बेशक एक शानदार उपकरण है और यह सार्थक सम्बन्ध बनाने में मदद कर सकता है। हालांकि, दूसरे सोशल मीडिया के उपकरणों की तरह, यह अपने हिस्से की सावधानियों के साथ आता है। यदि आप ब्लॉगिंग के लिए नए हैं तो कुछ महत्वपूर्ण बातें ध्यान में रखें:

• याद रखें कि इंटरनेट याद रखता है। कोई पोस्ट प्रकाशित करने से पहले दो बार सोच लो, यद्यपि आप इसे बाद में हटा सकते हैं, फिर भी इंटरनेट आपके लिखने के अवशेषों को लंबे समय तक रख सकता है।

• यदि आप ऐसी जानकारी साझा करना चाहते हैं जो बहुत व्यक्तिगत है, तो यह किसी उपनाम से लिखना मददगार हो सकता है या जैसा कि कुछ ब्लॉगर्स पसंद करते हैं, बस एक निजी पत्रिका में अपने विचारों को उजागर करें। भरत ने इस विचार को पुनः कहा कि ब्लॉगिंग करते समय अक्सर व्यक्तिगत होती है लेकिन बहुत गहरी बातें जर्नल के लिए बचा लेता हूँ। मै क्या महसूस कर रहा हूं के बारे में हर प्रकार का लेखन मेरी कमज़ोरी का प्रदर्शन करता है। इस कारण मैं नियंत्रित करना चाहता हूँ कि मैं किसको और कितना प्रदर्शित करूं।

• सबसे महत्वपूर्ण बात है कि, यदि आपको मानसिक बीमारी है, तो ब्लॉगिंग आपके विचारों को स्पष्ट करने और सहायता नेटवर्क बनाने में मदद करेगी- लेकिन यह पेशेवर सहायता का विकल्प कभी नहीं होगा। यह आपके द्वारा प्राप्त होने वाली पेशेवर सहायता का केवल पूरक होगा।



 

ब्लॉगिंग प्लेटफार्म:

यदि आप अपना ब्लॉग बनाना चाहते हैं, तो यहां तीन प्लेटफार्म हैं जो आपको ऐसा करने में मदद करेंगे:

मानसिक स्वास्थ्य पर ब्लॉग:

यदि आप प्रेरणा की तलाश में हैं, तो यहां तीन भारतीय ब्लॉग हैं जो मानसिक स्वास्थ्य के बारे में स्पष्ट रूप से बात करते हैं:

1. https://autismindianblog.blogspot.com: एक पिता ऑटिज्म से ग्रस्त बच्चे के पालन को एक 'चुनौतीपूर्ण, फिर भी सुंदर, अनुभव' बता रहा है। उनका संदेश बहुत स्पष्ट है, "मुझे लगता है कि ऑटिज्म में माता-पिता के लिए सीखने की रणनीतियां अन्य चीज़ों जैसी अनुभवजन्य हैं, और अगर मैं साझा करूं, तो यह आशा है कि दूसरे भी साझा करेंगे और हम सभी को लाभ होगा।"

2. https://indianhomemaker.wordpress.com: शहरी भारत में एक गृहिणी की रोजमर्रा की जिंदगी के अंश। अपने लेखन के माध्यम से, वह कई संवेदनशील विषयों की चर्चा करती है, जिसमें दुःख, घरेलू हिंसा और लैंगिक भेदभाव से निपटना शामिल है।

3. https://swapnawrites.wordpress.com: स्वपना की मां मनोभ्रंश से पीड़ित थीं और स्वपना ने देखभाल के अनुभवों, गलतियों और सबक सीखने के बारे में ब्लॉग लिखना शुरू किया। जब उसने अन्य देखभाल करने वालों की मदद करना शुरू किया, तो उन्होंने स्वयंसेवक के रूप में अपनी टिप्पणियों को भी साझा किया। अपनी मां का निधन हो जाने के बाद भी उन्होंने मनोभ्रंश पीड़ितों की देखभाल की वास्तविकताओं के बारे में ब्लॉग लिखना जारी रखा है।


संदर्भ:

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org