मन की सेहत

मानसिक स्वास्थ्य और प्राकृतिक आपदाएं

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

हमने रेस्तरां के दरवाजे की ओर दौड़ लगा दी। तलहटी में रहने के कारण, मुझे और मेरे दोस्तों, सभी को झटकों की आदत थी, लेकिन यह एक अलग पैमाने का था। इस दोपहर से पहले मैंने कभी पैरों के नीचे की जमीन को इतना हिलते महसूस नहीं किया था। सड़कों पर, हम अभी भी लोगों को इमारतों से बाहर तेजी से बाहर आते देख सकते थे – इमारतों से दूर सड़क के मध्य तक जाते हुए। मैंने अब तक जितने भी झटके अनुभव किए थे, उनके मुकाबले ये तीव्र झटके काफी देर तक लगते रहे। जब वे समाप्त हुए, तब तक , सड़कें लोगों से भर चुकी थीं (मुझे बाद में पता चला कि यह लगभग साठ सेकंड तक चले थे,  लेकिन इससे कुछ ज्यादा देर तक ये महसूस हुए)।

सौभाग्य से,  ज्यादा नुकसान नहीं हुआ था, कुछ पुरानी इमारतों में थोड़ी दरारें थीं। जब हम वहां बैठे थे,  सड़क के मध्य में भीड़ के बीच, आने वाले  झटकों का इंतजार कर रहे थे,  शुरुआती झटके थम गए और हमें राहत महसूस हुई। हम सुरक्षित थे। एक घंटे या इसके बाद,  फोन पर अपने परिवारों की कुशलता की जानकारी लेने के बाद, हमने शहर के पुराने हिस्सों में मदद करने के लिए जाने का निर्णय लिया। हमने सुना था कि उन इलाकों में बहुत ज्यादा नुकसान हुआ था;  लेकिन हम उस बारे में बिल्कुल तैयार नहीं थे, जो कुछ हम देखने वाले थे।

सुंदर ओल्ड टाउन क्षेत्र जिसे एक समय हम जानते थे वह मलबे और धूल मिट्टी में बदल गया था। लोग मलबे के चारों ओर घूम-घूमकर उन लोगों की तलाश में जुटे थे जो फंसे हो सकते थे। मैं अपराध की गहरी भावना से बाहर आ चुका था। हम उन लोगों के एक समूह में शामिल हो गए, जो फंसे हुए बचे लोगों को तलाश करने की कोशिश कर रहे थे। संकीर्ण गलियों के बीच से चलते हुए,  मैं लज्जित हो रहा था कि हमने अपने से कम भाग्यशाली लोगों के बारे में सोचने की जरूरत ही नहीं समझी थी। सदमे और दहशत के साथ ही अचानक सब कुछ कंपकंपाने लगा।  

उस शाम जब मैं घर लौटा,  तो मैं उखड़ा हुआ सा था;  मुझे देखकर मेरे माता पिता को राहत मिली, लेकिन मैं सिर्फ सन्न था। उन्हें लगा कि मुझे अकेला छोड़ देना चाहिए और उन्होंने ऐसा ही किया। मैं उस रात मुश्किल से सो पाया।

भूकंप आए तीन महीने बीत चुके हैं और शहर अभी भी सामान्य स्थिति में नहीं लौटा है। लोग अभी भी तंबू में रह रहे हैं, क्योंकि वे ईंट के घरों में लौटने से डरते हैं। शुक्र है,  नगरीय स्थिति में काफी सुधार हुआ है,  भोजन और पानी की आपूर्ति की अब कोई कमी नहीं है,  बिजली और पानी भी चालू स्थिति में है। हमारा एक दोस्त, आकाश, जो ओल्ड टाउन के बाहर रहता है, बुरी तरह प्रभावित हुआ है। जब भूकंप आया, वह घर पर था,  और सबसे पहले तबाही का मंजर देखा। आकाश की मां का कहना है कि वह उन दिनों मुश्किल से ही सो पाया होगा। कुछ मौकों पर,  उसने नींद में झटके महसूस करने की शिकायत की है। वह कहती हैं कि आकाश की भूख खत्म हो चुकी है और हमेशा अपने कमरे में बंद रहता है। आकाश के पिता कहते हैं कि वह सिर्फ इस घटना से हिल गया है और इससे निजात पा लेगा। आकाश की मां को नहीं पता कि क्या करें। हम जितना संभव हो, आकाश के घर पर जाने की कोशिश करते हैं। वास्तव में वह अपना उत्साह खो बैठा है, लेकिन हम उसके मूड को हल्का करने की कोशिश करते हैं...

इस काल्पनिक कथा का निर्माण विशेषज्ञों की मदद से किया गया है, जो इसे वास्तविक जीवन की स्थितियों में रखकर विषय की समझ में सहायता करती है।

-----------------------------------------------

हां,  आपदा में बचे लोगों को मनोसामाजिक समर्थन की जरूरत होती है

हर कोई, जो प्राकृतिक आपदा की स्थिति से गुजरा है, वह इससे प्रभावित होता है और उसे सहायता की आवश्यकता होती है,  सिर्फ समर्थन का स्तर होता है अलग-अलग होता है। प्राकृतिक आपदा और इसके बाद के अनुभव के दौरान कुछ लोग इनसे उपजी कई भावनाओं का सामना बेहतर तरीके से कर सकते हैं। बचे लोगों में सामान्य तौर पर निम्नलिखित भावनाओं का मिश्रण होता है:

• सदमा

• डर

• अपराधबोध

• गुस्सा

• जागरूकता

• गहरी पैठ बना चुकी यादें और स्मरण

• दुख और निराशा

अप्रत्याशित घटना से बचा लगभग हर व्यक्ति इन भावनाओं का अनुभव करता है। समय के साथ, ज्यादातर लोग इनसे उबर जाते हैं। हालांकि,  ऐसे कई लोग हैं जो नहीं उबर पाते और अवसाद, पोस्ट-ट्रोमैटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर (PTSD), अनिद्रा और मादक द्रव्यों के सेवन जैसी मानसिक बीमारियों के रूप में तनाव और बढ़ा लेते हैं।

व्यक्ति जिन परिस्थितियों से गुजरा है उन्हें ध्यान में रखते हुए मनोसामाजिक समर्थन भी आवश्यक है। हो सकता है कि मौत को उन्होंने करीब से अनुभव किया हो, हो सकता है कि उन्होंने परिवार के किसी सदस्य या दोस्त को खो दिया हो, या आपदा में  उनका घर नष्ट हो गया हो। इसके साथ ही, भोजन और पानी जुटाने के लिए कई शारीरिक स्वास्थ्य जोखिम और संभावित चुनौतियां हैं। इस प्रकार के तनावों से निपटने के लिए हर इंसान मानसिक या भावनात्मक रूप से तैयार नहीं होता।

नोट: ऐसे लोग जो आपदाओं या अन्य ऐसी घटनाओं में बच जाते हैं, उनमें जरूरी नहीं कि दर्दनाक प्रभाव तुरंत महसूस होने लगें। इन्हें विकसित होने में कुछ समय लग सकता है,  इसलिए घटना के बाद कुछ समय के लिए ऐसे व्यक्ति की भावनाओं के प्रति धैर्य और संवेदनशील होना जरूरी है। यदि यदि कुछ महीनों से अधिक जारी रहती है,  तो पीड़ित व्यक्ति को मनोसामाजिक हस्तक्षेप की आवश्यकता हो सकती है।

प्राकृतिक आपदाओं के तत्काल बाद, लोगों को इस मदद की आवश्यकता हो सकती है:

• मित्रों और परिवार को ढूंढना, क्योंकि हो सकता है वे अलग हो गए हों या अन्य राहत स्थलों पर जाये गए हों।

• आपदा और इसके दर्दनाक अनुभवों को साझा करने से लंबे समय तक मदद मिल सकती है,  इससे अकेलेपन की भावना कम हो जाती है।

• वे उन समस्याओं से पूरी तरह हारे हुए हो सकते हैं जिनका वे सामना कर रहे हैं;  उनके मुद्दों के आधार पर प्राथमिकता से उनकी सहायता करना और दिलासा देने में मदद करना भी महत्वपूर्ण है।

अगर आपका मित्र या परिवार का सदस्य प्राकृतिक आपदा से बच गया है,  तो आप यह कर सकते हैं:

• सहायक और धैर्यशील बनें। इस बात को समझें कि वे अभी एक बहुत दर्दनाक घटना से गुजरे हैं।

 • घटना के बारे में बात करने से बचें नहीं,  लेकिन जबर्दस्ती पूछताछ भी न करें। अपने अनुभवों को साझा करना उनके आघात को कम करने में मदद कर सकता है, लेकिन यह एक संवेदनशील विषय है।

• समझें कि पीड़ित व्यक्ति का भावनात्मक और सामाजिक रूप से अलग होना सामान्य है।

• यदि वे लंबे समय तक भावनात्मक संकट से निपटने में असमर्थ हैं, तो उन्हें सलाहकार से मिलने के लिए प्रोत्साहित करें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org