मन की सेहत

मनोविज्ञान संबंधी जांचें कौनसी हैं और उनका उपयोग किस लिए किया जाता है?

मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन का उपयोग किसी व्यक्ति के कामकाज और व्यवहार को समझने और उसके निदान और उपचार के लिए किया जाता है

जब आप अपनी आंखों की समस्या के लिए किसी नेत्र रोग विशेषज्ञ से मिलने जाते हैं, तो पहले वे आपकी आंखों के कई परीक्षण करेंगे। परीक्षण के साथ ही संक्रमण संकेत समझने के लिए वे आपकी आंखों की जांच करेंगे। इन परीक्षणों से उन्हें किसी निदान पर पहुंचने में मदद मिलती है और फिर सही उपचार के रूप में वे या तो आपको आई ड्रॉप देंगे या चश्मा बनवा लेने को कहेंगे।

ठीक इसी तरह, मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य को समझने और इसके निदान के साथ ही उपचार पर पहुंचने के लिए व्यक्ति के कामकाज और व्यवहार का परीक्षण करते हैं।

Q

मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन क्या है?

A

किसी मनोवैज्ञानिक द्वारा लोगों के सोचने, महसूस करने, उनके व्यवहार और प्रतिक्रिया करने के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए जो परीक्षण किए जाते हैं, उन्हें मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन कहा जाता है। इसके निष्कर्षों का उपयोग व्यक्ति की क्षमताओं और व्यवहार की रिपोर्ट तैयार करने के लिए किया जाता है - इसे मनोवैज्ञानिक रिपोर्ट कहा जाता है - इसका उपयोग कर सिफारिश की जाती है कि व्यक्ति को क्या उपचार देना है।

मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन और रिपोर्ट का उपयोग अन्य क्षेत्रों में भी किया जाता है - जैसे युवाओं के लिए कैरियर की योजनाओं के मामले में या किसी कंपनी द्वारा नौकरी पर रखने से पहले अपने आवेदक के बारे में जानकारी जुटाना कि वह अपनी जिम्मेदारी को कितनी अच्छी तरह से निभा पाएगा।

मूल्यांकन तैयार करने के लिए इन प्रक्रियाओं का उपयोग किया जाता है:

-साक्षात्कार

-अवलोकन

-लिखित मूल्यांकन

-अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों से परामर्श

-औपचारिक मनोवैज्ञानिक परीक्षण

अन्य क्षेत्रों में भी मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन का उपयोग किया जाता है, जैसे:

-शिक्षा: कक्षा में सीखने की विद्यार्थी की योग्यता और आगे बढ़ने की क्षमता का आकलन करने के लिए

-कानूनी: किसी व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति का आकलन करने के लिए

Q

मनोवैज्ञानिक जांच क्या है?

A

किसी व्यक्ति की योग्यताओं को मापने के लिए, जैसे किसी विशेष क्षेत्र में रुझान, बौद्धिक कार्यों में याददाश्त, स्थान संबंधी पहचान या उसका अंतर्मुखी व्यक्तित्व होना, इन सभी को मापने के लिए मनोवैज्ञानिक जांच का उपयोग किया जाता है। ये जांचें मनोवैज्ञानिक सिद्धांतों पर आधारित परीक्षण होते हैं।

जांच के दौरान पेंसिल-पेपर से लेकर कंप्यूटर आधारित कार्यों को कराकर देखा जा सकता है। इसके अलावा पहेलियां सुलझाना, चित्रकारी, तार्किक समस्याओं को हल करना और याददाश्त से जुड़े खेल भी जांच में शामिल किए जाते हैं।

कुछ अन्य तकनीकों को भी काम में लाया जाता है। इन्हें प्रोजेक्टिव टेक्नीक्स कहा जाता है, जिसके जरिए अचेतन मन की बातों को बाहर निकाला जाता है। इसमें व्यक्ति की प्रतिक्रियाओं का मनोवैज्ञानिक व्याख्याओं और कलन विधियों के माध्यम से विश्लेषण किया जाता है। उदाहरण के लिए रोर्शाक जांच, जिसे इंक-ब्लॉट टेस्ट के नाम से जाना जाता है, इसमें व्यक्ति के भीतर छिपी भावनात्मक क्रियाओं और उसके व्यक्तित्व को गहराई से जाना जा सकता है।

मनोवैज्ञानिक परीक्षण में किसी व्यक्ति की बातचीत के तरीके और व्यवहार को देखना भी शामिल हो सकता है। जांच परिणाम के आधार पर, व्यक्ति की अंदर छिपी योग्यताओं और क्षमताओं के बारे में निष्कर्ष निकाला जाता है।

Q

मनोवैज्ञानिक परीक्षणों से क्या मापा जाता है?

A

मनोवैज्ञानिक परीक्षणों में विभिन्न क्षेत्र शामिल किए जा सकते हैं:

मानसिक स्वास्थ्य का मूल्यांकन

मानसिक स्वास्थ्य मूल्यांकन में व्यक्ति का चिकित्सा इतिहास, पारिवारिक इतिहास और उसके मानसिक स्वास्थ्य की ताजा स्थिति के बारे में जानकारी शामिल होती है। इस मूल्यांकन से यह पहचानने में मदद मिलती है कि क्या उसमें किसी तरह की मानसिक स्वास्थ्य समस्या मौजूद है, और इसके बाद निदान के आधार पर उपचार निर्धारित किया जाता है।

कोई भी मनोवैज्ञानिक या मनोचिकित्सक, व्यक्ति के मानसिक स्वास्थ्य मूल्यांकन के साथ ही काम शुरू करता है। इसी से उन्हें सही तरीके से निदान और इलाज करने में सहायता मिलती है।

व्यवहार में अनुकूलता का आकलन

इस मूल्यांकन में व्यक्ति के सामाजिक और व्यावहारिक कौशल को मापा जाता है। घर, स्कूल या कार्यालय में रोजाना के आधार पर कार्य करने की उनकी क्षमता को परखा जाता है। आमतौर पर यह मूल्यांकन बौद्धिक परीक्षणों के जरिए किए जाता है।

उदाहरण के लिए किसी छात्र के लिए इसका उपयोग, स्कूल में अन्य छात्रों के साथ सामाजिक गतिविधियों में उस बच्चे की कार्य क्षमता का आकलन करने के लिए किया जा सकता है।

अभिरुचि परीक्षण

अभिरुचि या कौशल परीक्षण से व्यक्ति के विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने की क्षमता को मापा जाता है। यह परीक्षण उन क्षेत्रों को निर्धारित करने के लिए किया जाता है जिनमें व्यक्ति सबसे कुशल होता है। कुछ लोग गणित और तार्किक कौशल की आवश्यकता वाले मात्रात्मक कार्यों में बेहतर हो सकते हैं, तो कुछ भाषा में और कुछ रचनात्मक सोच के मामले में अन्य के मुकाबले बेहतर हो सकते हैं।

इन परीक्षणों का उपयोग व्यावसायिक चिकित्सक द्वारा क्षमता को मापने के लिए किया जाता है, और इसके आधार पर किसी व्यक्ति के लिए उपयुक्त हो सकने वाले व्यवसाय या नौकरी की भूमिकाओं का पता लगाया जाता है। इस परीक्षण का उपयोग कैरियर काउंसलर द्वारा उन क्षेत्रों में उच्च शिक्षा के लिए लोगों के मार्गदर्शन के लिए भी किया जा सकता है।

संज्ञानात्मक परीक्षण

किसी व्यक्ति की बौद्धिक क्षमताओं- जैसे समस्याओं को सुलझाना, तर्क, शब्दावली, समझ और स्मृति को संज्ञानात्मक परीक्षण से मापा जाता है। इसे आमतौर पर बुद्धिमत्ता या आईक्यू टेस्ट के रूप में जाना जाता है, और शिक्षा के क्षेत्र में किसी विद्यार्थी की क्षमता और बौद्धिक ताकत की पहचान करने के लिए उपयोग किया जाता है।

उदाहरण के लिए, किसी बच्चे की विभिन्न विषयों में क्षमता को मापने के लिए उसकी एक संज्ञानात्मक परीक्षा ली जा सकती है। इससे शिक्षकों को पता चल जाता है कि बच्चे को किन विषयों में परेशानी है और शिक्षक उन विषयों पर बच्चे की मदद कर सकता है।

शिक्षा संबंधी या उपलब्धि का परीक्षण

किसी व्यक्ति ने किसी विशिष्ट विषय को सीखने में कितनी प्रगति की है उसके लिए शैक्षिक परीक्षण किया जाता है। जैसे कि गणित, पढ़ने की समझ - विद्यार्थी के सामने आने वाली कठिनाइयों को पहचानने के लिए यह परीक्षण किए जाते हैं।

उपलब्धि परीक्षण वे परीक्षाएं होती हैं जो स्कूलों और कॉलेजों में छात्र की ली जाती हैं।

न्यायिक मनोवैज्ञानिक परीक्षण

फोरेंसिक या न्यायिक परीक्षण का उपयोग कानूनी क्षेत्र में किया जाता है, क्या कोई संदिग्ध, जिस पर अपराध करने का आरोप लगा है, क्या वह उस अपराध को करने में सक्षम है इसका पता लगाने के लिए यह परीक्षण किया जाता है। इसमें संज्ञानात्मक, व्यक्तित्व और तंत्रिका मनोविज्ञान संबंधी परीक्षण शामिल हैं।

तंत्रिका मनोवैज्ञानिक परीक्षण

किसी व्यक्ति का मस्तिष्क कैसे काम करता है, ताकि उसके कामकाज में कोई समस्या न हो। इसकी जांच के लिए तंत्रिका मनोवैज्ञानिक परीक्षण किया जाता है।

उदाहरण के लिए, किसी व्यक्ति के सिर में गंभीर चोट लगने पर तंत्रिका मनोवैज्ञानिक परीक्षण के जरिए पता लगाया जाता है कि उसमें अपने मस्तिष्क की जानकारी को बनाए रखने की क्षमता कितनी है।

व्यक्तित्व मूल्यांकन

किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व कैसा है? इस पर केंद्रित मूल्यांकन व्यक्तित्व मूल्यांकन कहलाता है। कोई व्यक्ति अंतर्मुखी है या बहिर्मुखी, सतर्क है या सहज है, और जीवन की अलग-अलग परिस्थितियों में वह किस तरह की प्रतिक्रिया दे सकता है, इन सभी को जानने के लिए व्यक्तित्व का मूल्यांकन किया जाता है।

मनोवैज्ञानिक परीक्षणों की व्याख्या

किसी व्यक्ति का परीक्षण उसके आसपास के माहौल, सामाजिक आर्थिक स्थिति या शारीरिक स्वास्थ्य के आधार पर किए बगैर मनोवैज्ञानिक परीक्षणों की व्याख्या करने का कोई मतलब नहीं है। - हालांकि परीक्षण वैज्ञानिक आधार पर किए जाते हैं, लेकिन इसके परिणामों को एक ही पहलू के रूप में उपयोग करने से गलत व्याख्या हो सकती है।

उदाहरण के लिए, एक रक्त परीक्षण रिपोर्ट के मामले में - एक डॉक्टर के लिए सटीक निदान पर पहुंचने के लिए आपके लक्षणों और सामान्य शारीरिक स्वास्थ्य के संबंध में रक्त परीक्षण रिपोर्ट के अंकों को पढ़ना आवश्यक है।

इसी तरह, यह ध्यान रखना भी जरूरी है कि भले ही ये सभी मनोवैज्ञानिक परीक्षण इंटरनेट पर आसानी से उपलब्ध हों, लेकिन मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर की सलाह के बिना उन्हें लेने से आपके व्यक्तित्व, योग्यता या व्यवहार का वास्तविक विश्लेषण नहीं हो सकता है। इसके उलट, मतलब यह निकल सकता है कि जिस मदद की आपको जरूरत है, वह आपको नहीं मिल पा रही है।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org