घरेलू हिंसा के मूल्यांकन का क्या मतलब है?
मन की सेहत

घरेलू हिंसा के मूल्यांकन का क्या मतलब है?

घरेलू हिंसा के मूल्यांकन में जागरूक रहना और पीड़ित में शारीरिक, भावनात्मक, वित्तीय और यौन हिंसा के संकेतों को तलाशना शामिल है

दुनिया भर में महिलाओं पर होने वाली हिंसा के सबसे आम रूपों में से एक है घरेलू हिंसा। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (2015-2016) के अनुसार, भारत में तीन विवाहित महिलाओं में से एक अंतरंग साथी द्वारा हिंसा (आईपीवी) का शिकार होती है।

हिंसा का शिकार होने के तुरंत बाद महिलाओं के स्वास्थ्य पर दीर्घकालिक प्रभाव दिखाई देते हैं, जो हिंसा रुकने के बाद भी लंबे समय तक बने रहते हैं। शारीरिक प्रभावों में घाव और चोटों से लेकर दीर्घकालिक विकलांगता और लंबे समय तक दर्द के लक्षण हो सकते हैं। इनसे किसी महिला का यौन और प्रजनन स्वास्थ्य गंभीर रूप से प्रभावित हो सकता है, जिसमें अनअपेक्षित और अवांछित गर्भधारण, गर्भस्राव और असुरक्षित गर्भपात और यौन संचारित संक्रमण शामिल हैं।

घरेलू हिंसा के उत्तरजीवी लोगों के मानसिक स्वास्थ्य खराब होने की आशंका अधिक रहती है । जब वे मानसिक स्वास्थ्य उपचार ले रहे होते हैं, फिर भी उनसे सामान्य तौर पर घरेलू हिंसा या दुर्व्यवहार के बारे में नहीं पूछा जाता है। इसी के कारण उन्हें उपयुक्त रेफरल या सहायता प्रदान नहीं की जा पाती है। एक मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के रूप में, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने क्लाएंट्स के साथ बातचीत के दौरान दुर्व्यवहार के संकेत देखें।

Q

घरेलू हिंसा के शिकार क्लाइंट्स की जांच या आकलन के दौरान मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर को किन संकेतों पर ध्यान देना चाहिए?

A

जो महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार होती हैं, वे अक्सर हिंसा से जुड़ी भावनात्मक या शारीरिक स्थितियों के उपचार के लिए स्वास्थ्य सेवा की तलाश करती हैं, लेकिन वे अपने बारे में किसी के द्वारा राय बना लिए जाने के डर या शर्म के कारण उस हिंसा के बारे में बात नहीं कर सकती, या क्योंकि उन्हें अपने साथी या उसके परिवार का डर रहता है।

घरेलू हिंसा का मूल्यांकलन करने के लिए जागरूक रहना, और पीड़ित में शारीरिक, भावनात्मक, वित्तीय और यौन हिंसा के संकेतों को तलाशना शामिल है।

मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के रूप में, आप कुछ संकेतों को भांपकर अंदाजा लगा सकती हैं कि महिला हिंसा का शिकार रही है। इनमें से संकेत निम्न में से कोई भी हो सकते हैं:

- तनाव, चिंता, या अवसाद जैसी भावनात्मक स्वास्थ्य समस्याओं का जारी रहना।

- हानिकारक आदतें, जैसे शराब या ड्रग्स का सेवन।

- आत्महत्या का प्रयास या आत्मघाती विचार, खुदकुशी की योजना बनाना या ऐसा कार्य करना।

- उस चोट के बारे में नहीं बताना जो बार-बार हो रही है या जलन, काटने के निशान जैसी चोटें; पीठ पर या हथियारों से अंदर की चोटें, चेहरे को ढंकने का रक्षात्मक प्रयास, चेहरे, गर्दन, छाती, पेट, प्रजनन भागों के आसपास चोटें इस ओर इशारा करती हैं।

- यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) का दोहराव।

- अनचाहा गर्भधारण या गर्भपात।

- दीर्घकालिक दर्द या स्थिति जो स्पष्ट नहीं है (पेड़ू दर्द या यौन समस्याएं, पाचनतंत्र संबंधी समस्याएं, गुर्दे या मूत्राशय का संक्रमण, सिरदर्द)।

- बिना किसी स्पष्ट निदान के बार-बार स्वास्थ्य परामर्श के लिए पहुंचना।

आपका सहज ज्ञान भी आपको यह बता सकता है कि आपका क्लाइंट खतरे में है।

आपके क्लाइंट के व्यवहार में अन्य संकेत भी दिख सकते हैं जो दुर्व्यवहार की ओर इशारा करते हैं:

- क्या वह अपने शरीर को ढक रही है, या निशान छिपाने के लिए लंबी आस्तीन के कपड़े और स्कार्फ पहन रही है?

- क्या वह आपसे मिलने देरी से पहुंचती है, या समय लेने के बाद भी नहीं आ पाती है?

- क्या वह अनिश्चित शिकायतों या अलग-अलग लक्षणों को लेकर अक्सर अस्पताल / क्लिनिक पर आया करती है?

- क्या वह चिंता से भरी, डरी-सहमी या दूसरों की उपस्थिति में धैर्यवान प्रतीत होती है?

- क्या वह अपनी स्थिति को लेकर घर पर संपर्क नहीं करना चाहती है?

- क्या वह अपने साथी द्वारा की जाने वाली हिंसा के लिए खुद को दोषी ठहराती है और रिश्ते के लिए स्वयं के ही जिम्मेदार रहने की बातें बढ़ा-चढ़ाकर बताती है?

- क्या अपने साथी के मौजूद होने पर वह बोलने से हिचकिचाती है?

साथी के या उसके परिवार के व्यवहार या हावभाव पर नजर रखने से भी आपको हिंसा के संकेतों की पहचान करने में मदद मिल सकती है:

- क्लाइंट की ओर से टाइम लिए जाने के बाद भी नियुक्तियों को रद्द करना।

- हमेशा सत्र में भाग लेने पहुंचता है, महिला को अपने पास रहने पर जोर देता है, उसकी ओर से खुद बोलता है, या अत्यधिक सुरक्षात्मक व्यवहार दर्शाता है।

- धमकाना या आक्रामक होना; क्लाइंट की आलोचना करता है, उसके प्रति निर्णयात्मक या अपमानजनक व्यवहार करता है।

- साथी द्वारा तर्कहीन ईर्ष्या या अधिकार जताया जाना, या क्लाइंट द्वारा इस संबंध में जानकारी दिया जाना।

- हिंसा की बात को प्रबल तरीके से अस्वीकार्य करता है या इसकी गंभीरता को कम करता है।

- क्लाइंट की इच्छाओं, आवश्यकताओं या भावनाओं को नजरअंदाज करता है।

- क्लाइंट के बच्चों में चिंतातुर व्यवहार दिखाई देता है।

Q

ऐसे कौनसे कारण हैं जिनके चलते क्लाइंट खुलकर बात नहीं कर पाती हैं?

A

ऐसी कई बाधाएं हैं जो क्लाइंट को अपने साथ हुए दुर्व्यवहार के बारे में खुलकर बताने से हतोत्साहित कर सकती हैं। इनमें से कुछ हैं:

- क्लाइंट को पता ही नहीं चल पाता है कि उसके साथ दुर्व्यवहार हो रहा है। यह विशेष रूप से भावनात्मक हिंसा के मामले में देखा जाता है।

- दोषी व्यक्ति द्वारा धमकाया जाना या धमकी मिलने की आशंका और भविष्य में होने वाली हिंसा का डर

- घर में ही बंद कर दिए जाने की आशंका / आगे स्वास्थ्य जांच के लिए आने की अनुमति नहीं मिल पाने का डर

- रिश्ते में बने रहने के लिए परिवार और सामाजिक, दोनों ओर का दबाव

- हिंसा करने वाले व्यक्ति का सत्र के लिए क्लाइंट के साथ आना

- मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के साथ लिंग या सांस्कृतिक भिन्नता

- शर्म और उलझन, या स्वयं को दोषी मानना

- इस बात का डर कि मेरी बात पर कोई विश्वास नहीं करेगा

- मित्रों और परिवार के लोगों से अलगाव

- एलजीबीटीक्यूआईए - बाहर कर दिए जाने का डर, समलैंगिकों के प्रति होने वाली नफरत और दुर्व्यवहार का आंतरिक भय, अपराधबोध

- फिर से आघात पहुंचाए जाने का डर

- खुलासा हो जाने के बाद भी स्थिति बेहतर हो पाने को लेकर नाउम्मीदी

- मनोरोग से जुड़ी बदनामी - मानसिक बीमारी से पीड़ित कई महिलाओं को लगता है कि उनकी

बीमारी के कारण स्वास्थ्य सेवा प्रदाता की नजर में उनकी विश्वसनीयता कम हो जाएगी

- गोपनीयता की कमी

हिंसा संबंधी आघात को थेरेपी में संभालना शक्ति के साथ संयुक्त तौर पर व्हाइट स्वान फाउंडेशन की एक सिरीज है। यह सिरीज मानसिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के लिए एक गाइड है जो थेरेपी के माध्यम से हिंसा के उत्तरजीवी पीड़िताओं की मदद के लिए है।

यह श्रृंखला उत्तरजीवी महिलाओं के संदर्भ में है, हालांकि, हम स्वीकार करते हैं कि उत्तरजीवी लोग किसी भी पहचान के हो सकते हैं। "महिलाओं" शब्द का उपयोग उन कानूनों को दर्शाने के लिए किया गया है जो महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा पर बने हुए हैं और अन्य दिशानिर्देश जो महिलाओं को ध्यान में रखते हुए तैयार किए गए हैं।

पूरी श्रृंखला देखने के लिए यहां क्लिक करें

पत्रकार और प्रशिक्षण से सामाजिक कार्यकर्ता एवं शक्ति की सलाहकार भूमिका साहनी और निम्हान्स के मनोचिकित्सा विभाग की रेजिडेंट डॉक्टर डॉ. पारूल माथुर द्वारा संकलित।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org