मन की सेहत

मनोवैज्ञानिक पुनर्वास क्या है?

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मानसिक बीमारियों के इलाज में आमतौर पर दो पहलू शामिल होते हैं: वास्तविक इलाज और पुनर्वास। इलाज, रोगी में मौजूद बीमारी के लक्षणों को कम करने पर केंद्रित है। बुखार वाले व्यक्ति के मामले में, उपचार का लक्ष्य बीमार व्यक्ति के शरीर के तापमान को कम करना है।

शारीरिक बीमारियों के मामले में जहां दवा या सर्जरी पूरी तरह से उपचार प्रदान कर सकती है, वहीं मानसिक बीमारी में दवा के साथ उपचार के अन्य रूपों की आवश्यकता होती है। रोगी को दिए जाने वाले उपचार का प्रकार बीमारी की पहचान, बीमारी की गंभीरता, इसके साथ ही उनकी शारीरिक और भावनात्मक अवस्था पर निर्भर करता है। एक व्यक्ति को उपचार के इन रूपों में से दवा, चिकित्सा, परामर्श, अस्पताल में भर्ती करना, मस्तिष्क उत्तेजना उपचार और मनोवैज्ञानिक पुनर्वास के संयोजन की आवश्यकता हो सकती है। अक्सर, उपचार और पुनर्वास की सीमा रेखाएं अस्पष्ट हो सकती हैं।

मनोवैज्ञानिक पुनर्वास उपचार का एक पहलू है जो इस पर केंद्रित होता है कि व्यक्ति को कार्य करने के सर्वोत्तम स्तर पर लौटाया जाए और उसके जीवन लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद की जा सके। यह चिकित्सा, मनोवैज्ञानिक और सामाजिक सहयोग से लाया जाता है। उपचार और पुनर्वास के बीच कोई कठोर सीमा नहीं है।

यह जरूरी नहीं कि सभी मानसिक रोगियों को पुनर्वास की आवश्यकता हो। कई रोगियों के लिए, केवल दवा या दवा एवं चिकित्सा का संयोजन उन्हें एक कार्यात्मक जीवन में वापस आने में मदद करने के लिए पर्याप्त है। कुछ अन्य लोगों के लिए, पुनर्वास उपचार चक्र का आवश्यक अंतिम भाग हो सकता है।

पुनर्वास क्यों जरूरी है?

द्विध्रुवीय विकार और सिज़ोफ्रेनिया जैसी गंभीर और चिरकालिक मानसिक बीमारियां रोगी को मानसिक रूप से उनकी स्थिति से अक्षम कर सकती हैं और उन्हें बुनियादी कौशल सीखने के लिए पुनर्वास की आवश्यकता होती है। मंदबुद्धि जैसे विकारों के मामले में, दैनिक कार्य करने के लिए आवश्यक कौशल सीखने में रोगियों की सहायता के लिए आवासीय प्रक्रिया का पालन किया जाता है।

(मानसिक बीमारी के बाद कौशल को फिर से सीखने के लिए एक व्यक्ति को पुनर्वास प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। जो व्यक्ति मानसिक बीमारी के कारण कुछ कौशल नहीं सीख सके हैं, उन्हें पहली बार उन कौशल को सीखना है। विशेषज्ञों इस प्रक्रिया को हैबिलिटेशन के रूप में संदर्भित करते हैं।)

पुनर्वास की प्रक्रिया का उद्देश्य रोगी को सामाजिक और बौद्धिक कौशल विकसित करने में मदद करना है जो उन्हें मुख्यधारा के समाज के साथ एकीकृत करने के लिए आवश्यकता होगी। इससे व्यक्ति को घर पर और कार्यस्थली पर, अपने लिए सार्थक भूमिका खोजने में मदद मिलती है। पुनर्वास, मस्तिष्क को अवसर प्रदान कर, बदनामी और भेदभाव को रोकने में सहायता करता है।

वे मरीज, जो अपने मानसिक स्वास्थ्य विकारों के लिए इलाज करा चुके हैं, उन्हें व्यापक रूप से निम्नलिखित श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

• जो लोग इलाज के बाद बेहतर महसूस करते हैं, लेकिन उनकी बीमारी उनके कामकाज पर कुछ प्रभाव डालती है (उदाहरण के लिए संज्ञानात्मक कौशल में कमी आना)

• वे लोग जो स्वतंत्र रूप से काम करने में सक्षम हैं, लेकिन अपनी परिस्थितियों के कारण वे निराश हैं या उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया है, और / या वे बदनामी का सामना कर रहे हैं

• जो लोग कार्य कर रहे हैं, लेकिन उन्हें पर्याप्त अवसर प्रदान नहीं किया जा रहा है

• जो लोग बीमारी की गंभीरता के कारण अक्षम होते हैं (मानसिक बीमारी का निदान होने वालों में से ऐसे लोगों की संख्या काफी कम है)

मनोचिकित्सक या पुनर्वास पेशेवर मूल्यांकन करता है कि उपरोक्त श्रेणियों में से कौन सी श्रेणी उस रोगी से संबंधित है।

दीर्घकालिक मानसिक बीमारियों की शुरुआत सबसे ज्यादा 18 से 25 वर्ष की आयु के बीच होती है। यह वह समय है जब अधिकांश लोग जीवन का अपना मुख्य लक्ष्य निर्धारित करते हैं और उन्हें प्राप्त करने की दिशा में काम करते हैं। जब किसी व्यक्ति में गंभीर मानसिक बीमारी का निदान होता है, तो उन्हें उपचार में महीनों या वर्षों लग जाते हैं, जिस दौरान वे अध्ययन या काम करने में असमर्थ होते हैं। हालात तब और खराब हो जाते हैं यदि उन्हें इलाज के बाद अवसरों से वंचित कर दिया जाता है। कभी-कभी, उनके मित्र और परिवार अत्यधिक आलोचनात्मक या सुरक्षात्मक हो सकते हैं। यह उनकी बीमारी के कारण उन्हें पंगु बना देता है।

पुनर्वास प्रक्रिया इस पर केंद्रित है:


 • यह आकलन करना कि व्यक्ति कितना सक्षम है (उसके कौशल, ताकत और क्षमताओं को देखते हुए)

• बीमारी के कारण पैदा हुई सीमाओं को स्वीकार करना

इन पहलुओं की पूरी तरह से जानने के बाद,  एक प्रशिक्षित पेशेवर यह पहचान लेता है कि एक क्रियात्मक जीवन में वापस आने के लिए रोगी को किस तरह के सहारे की आवश्यकता होती है।

पांच साल तक सिजोफ्रेनिया से पीड़ित रहे 30 वर्षीय एक व्यक्ति का मामला लें। उसकी बीमारी का निदान किया गया और इस बीमारी की शुरुआत के कई साल बाद उसका उपचार हो गया। इलाज के बाद, वह अपने घर वापस चला गया उसे पता चला कि उसके सहपाठी और दोस्त अब अपना करियर सेट कर चुके हैं और, अच्छी तरह से काम कर रहे हैं। उनके अपने परिवार बस चुके हैं। उसका परिवार भी चाहता है कि वह किसी काम में लग जाए और परिवार के लोग उसे शारीरिक श्रम करने वाला छोटा-मोटा काम ढूंढने का सुझाव देते हैं। इससे उसे निराशा होती है; वह भ्रमित और खोया-खोया रहने लगता है। साथ ही, उसे अपने कौशल और क्षमताओं की याद आती है। इस मामले में, अपनी मानसिक परिस्थितियों का आकलन करने के लिए उसे मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के सहारे की आवश्यकता होती है, जो यह तय करे कि वह किस कौशल का उपयोग करने में सक्षम हो सकता है, या उसे कौन सा करियर चुनना ठीक रहेगा। उसके परिवार को उसे एक व्यक्ति के रूप में भी देखना चाहिए, न कि एक बीमार के रूप में - इससे उन्हें उसकी ताकत और आकांक्षाओं को स्वीकार करने में मदद मिलेगी।

एक अन्य मामले में, 20 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र के सिजोफ्रेनिया का निदान किया जाता है। तीन साल तक उसका इलाज चलता है। उपचार के बाद, उसे कॉलेज और पढ़ाई फिर से शुरू करना बेहद चुनौतीपूर्ण लगता है, और वह इसकी जगह कुछ और करना चाहता है। उसके परिवार के सदस्य मददगार नहीं हैं। चूंकि वह एक इंजीनियरिंग का छात्र था, इसलिए वे जोर देते हैं कि उसे आईटी कंपनी में काम करने के लिए अपनी डिग्री पूरी करनी चाहिए, और उससे कम कुछ भी करने से उनका स्टेटस नीचा होगा। इस मामले में, परिवार को यह तथ्य समझने की जरूरत है कि उस स्थिति के हिसाब से उस व्यक्ति के हित और क्षमताएं पहले जैसी नहीं रहीं, उनमें बदलाव आया है।

(ये कथाएं मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मदद से ये बनाई गई हैं, जिनमें मरीजों के लक्षणों और विवरणों को ध्यान में रखा गया है।)

पुनर्वास प्रक्रिया

पुनर्वास प्रक्रिया आमतौर पर रोगी की शक्तियों और हितों को जानने के लिए मनोचिकित्सक या अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर द्वारा रोगी और परिवार के लोगों से बात करने से शुरू होती है। इस बिंदु पर, परिवार के लिए जो सबसे अधिक आवश्यक है वह उस व्यक्ति की क्षमताओं की वास्तविक समझ रखने और उनकी यथार्थवादी अपेक्षाओं को निर्धारित करना है। उदाहरण के लिए, गंभीर मानसिक बीमारी वाला व्यक्ति सामाजिकीकरण या कुछ प्रकार के कार्यों को करने में सक्षम नहीं हो सकता है। परिवार को अपनी अपेक्षाओं के अनुरूप दबाव डालने की बजाय, उन्हें समझने की जरूरत है।

एक बार जब परिवार के लोग व्यक्ति के कौशल और सीमाओं को समझ लेते हैं, तो वे यह पहचान सकते हैं कि व्यक्ति अपनी पसंद के हिसाब से एक सुखी और संतोषजनक जीवन गुजार सकता है, जो उनकी परिस्थितियों और अपेक्षाओं के लिए उपयुक्त हो सकता है।

कुछ मामलों में, मनोचिकित्सक या अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर को व्यक्ति के साथ तालमेल बनाने, रोगी के सामने आने वाली समस्या को समझने और बीमारी को लेकर परिवार का रुख जानने  बार-बार मिलना पड़ सकता है। तब मनोचिकित्सक उनकी मानसिक बीमारी से उत्पन्न सीमाओं के बावजूद उनके बेहतर जीवन की कल्पना करने में सक्षम होता है।

कौशल का प्रशिक्षण और विकास

इलाज के बाद, कुछ रोगी अपने मूल कौशल का उपयोग करने और अपने काम पर वापस जाने में सक्षम हैं। यदि एक रोगी के सामने महत्वपूर्ण चुनौतियां छूट जाती हैं, तो उन्हें अपने नए लक्ष्यों, प्राथमिकताओं या मूल्यों के साथ तालमेल बैठाने आवश्यक कौशल विकसित करने में मदद करने के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है। एक बार जब व्यक्ति नया कौशल सीखने या नई रुचि खोजने में सफल हो जाता है – तो यह प्रक्रिया के लिए आकांक्षा से भरा होता है। विशेषज्ञ इसे एक सकारात्मक चक्र कहते हैं जिसमें व्यक्ति के जीवन की गुणवत्ता में सुधार होता है।

पुनर्वास में परिवार की भागीदारी क्या है?

जब किसी व्यक्ति में मानसिक स्वास्थ्य विकार का पता चलता है, तो परिवार या देखभाल करने वाले को भी निदान का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही, ऐसे अन्य कारक भी हैं जो इसका सामना करना मुश्किल बनाते हैं: रोगी कौन है,  वे क्या करने में सक्षम हैं  और परिवार में उनकी भूमिका क्या होगी इसके बारे में बदली हुई धारण। देखभालकर्ता और परिवार को निदान में मदद के लिए अतिरिक्त सहायता की भी आवश्यकता है। पुनर्वास से परिवार को निदान, बदली हुई परिस्थितियों और रोगी से उनकी अपेक्षाओं के संबंध में मदद मिलती है। यह परिवार के लिए उस व्यक्ति की ताकत को समझने और घर पर या समाज में सार्थक योगदान करने के अवसर बनाने में भी मदद करता है।

पुनर्वास प्रक्रिया का एक अत्यंत महत्वपूर्ण पहलू परिवार की भागीदारी है। मनोचिकित्सकों का कहना है कि परिवार के सदस्यों का सकारात्मक और सक्रिय सहारा पुनर्वास प्रक्रिया को सबसे प्रभावी हिस्सा बनता है। जब कोई परिवार अपने प्रियजन की सहायता के लिए काफी समय और प्रयास करता है, तो यह व्यक्ति में नए कौशल को चुनने या नए लक्ष्यों को स्थापित करने की संभावनाओं को बढ़ाता है। इसके बदले में, परिवार को भी मदद मिलेगी।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org