घरेलू हिंसा से पीड़ित क्लाइंट का आकलन करते समय मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

घरेलू हिंसा से पीड़ित क्लाइंट का आकलन करते समय मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

थेरेपी में मानसिक आघात पर परामर्श देते समय क्लाइंट की गोपनीयता और नैतिकता को बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

घरेलू हिंसा, वो चाहे शारीरिक हो, मनोवैज्ञानिक हो, या दोनों - यह किसी क्लाइंट के मानसिक स्वास्थ्य पर अप्रत्यक्ष प्रभाव डाल सकते हैं। अंतरंग साथी द्वारा की गई हिंसा या यौन दुर्व्यवहार के उत्तरजीवी लोगों के लिए संपर्क का पहला बिंदु स्वास्थ्य सेवा प्रदाता ही होता है। ऐसे में क्लाइंट की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए आचार संहिता का पालन करना और गोपनीयता बनाए रखना बेहद जरूरी है।

Q

हिंसा का खुलकर सामना करने के लिए मैं अपनी क्लाइंट को कैसे सक्षम बना सकती हूं?

A

याद रखिए कि बातचीत के दौरान आपके साथ जब तक महिला अकेली न हो , तब तक घरेलू हिंसा का मुद्दा न उठाएं। उसके साथी, परिवार के सदस्य की अनुपस्थिति में किसी निजी, सुरक्षित, सहायक और गोपनीय वातावरण में दुर्व्यवहार के बारे में बात करना मददगार साबित हो सकता है। महिला को खुद ही अपनी बात कहने दें, उसके परिवार के सदस्यों को अनुवादक की भूमिका निभाने के लिए न कहें।

चूंकि कुछ महिलाएं शुरू में यह जान ही नहीं पाती हैं कि वे घरेलू हिंसा का शिकार हो रही हैं, ऐसे में मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर को परामर्श के लिए आई सभी महिलाओं से दुर्व्यवहार के बारे में प्रत्यक्ष और अलग तरह से प्रश्न पूछना चाहिए। उसके सामाजिक इतिहास, पिछला चिकित्सा इतिहास या हालिया बीमारी के इतिहास के बारे में जानकारी इकट्ठा करते समय पूछताछ के दौरान ऐसे प्रश्नों को शामिल किया जा सकता है।

हालांकि महिलाएं बातचीत के दौरान खुद से अपने साथ हो रहे दुर्व्यवहार के विषय को नहीं उठा सकती हैं, लेकिन गोपनीय माहौल में सरल और सीधे सवाल पूछे जाने पर कई महिलाएं इस पर चर्चा करेंगी।

पेशेवर को बातचीत की शुरुआत ही इस प्रकार से करना चाहिए जो सहायक है, जैसे यह कहना "महिलाओं के जीवन में दुर्व्यवहार और हिंसा के मामले बहुत आम हैं, इसलिए मैंने इसके बारे में आमतौर पर सभी से पूछना शुरू कर दिया है।" दुर्व्यवहार के बारे में बातचीत करने से क्लाइंट की भावनाओं को बल मिलता है और इस पर बात करने के लिए खुद को तैयार करने लगती है। इस तरह के वक्तव्य महिला को उसके साथ वर्तमान में हुई हिंसा या पिछले अनुभवों के बारे में बात करने के लिए एक शुरुआत दे सकते हैं।

घरेलू हिंसा के बारे में पूछते वक्त आप उनसे सहानुभूतिपूर्ण और गैर-न्यायिक तरीके से बात करें। भाषा भी ऐसी रहे जो उस संस्कृति और समाज के लिए उपयुक्त और प्रासंगिक है, जिसमें आप काम कर रहे हैं। कुछ महिलाएं 'हिंसा' और 'दुर्व्यवहार' जैसे शब्दों का उपयोग किए जाने को पसंद नहीं कर सकती हैं।

हिंसा का शिकार महिलाएं डरी-सहमी, टालमटोल करने वाली या शर्मिंदा दिखाई दे सकती हैं। उन्हें लग सकता है कि कि वे दुर्व्यवहार के लायक ही हैं, क्योंकि जो व्यक्ति उनसे दुर्व्यवहार कर रहा है, वह उनसे यही बोलता है। ऐसे में स्थिति पर नियंत्रण के लिए ये महिलाएं उस व्यक्ति द्वारा की जा रही हिंसा की जिम्मेदारी अपने पर ले सकती हैं।

क्लाइंट के साथ एक विश्वसनीय रिश्ता बनाने के दौरान सांस्कृतिक कारकों के प्रति सचेत रहें - हिंसा के उत्तरजीवी ज्यादातर लोग अपनी गुप्त बातों को बताने में किसी महिला मानसिक स्वास्थ्य पेशेवर के साथ सहज महसूस कर सकते हैं, जबकि कुछ लोगों को पुरुष पेशेवर से बात करने में आत्मविश्वास महसूस हो सकता है। क्लाएंट्स को यह विकल्प देना कि वे किससे बात करना चाहते हैं, उनमें नियंत्रण की अधिक भावना पैदा हो सकती है।

Q

यदि मेरी क्लाइंट घरेलू हिंसा का सामना कर रहा है, तो मुझे परामर्श संबंधों की किन नीतियों को ध्यान में रखना चाहिए?

A

गोपनीयता - अपने क्लाइंट की गोपनीयता की रक्षा करना जरूरी है। नियमित नैदानिक प्रक्रिया हो या दूरसंचार से होने वाला परामर्श, दोनों ही स्थितियों में आपको गोपनीयता बनाए रखनी है। पीड़ित की देखभाल में शामिल अन्य पेशेवरों के साथ उसके मामले पर चर्चा करने से पहले आपको उसकी सहमति लेना चाहिए, और यदि वह सहमति प्रदान करे, तभी आगे बढ़ें।

स्वायत्तता - क्लाइंट के साथ सम्मान और गरिमापूर्ण व्यवहार करना, लेकिन उनकी स्वायत्तता से ज्यादा प्राथमिकता उनकी सुरक्षा को दें।

भविष्य में हिंसा का खतरा कम करें - उसे किसी भी परेशानी का सामना करने के लिए तैयार करें, एक सुरक्षा योजना विकसित करने में उसकी मदद करें, ताकि वह खुद को और अपने बच्चों को सुरक्षित रख सके।

अधिकारों के बारे में जागरूक करना -उसे समझाएं कि उसके क्या अधिकार हैं और इन्हें हासिल करने के लिए सशक्त बनाएं।

Q

किन परिस्थितियों में क्लाइंट की गोपनीयता का अधिकार भंग करना आवश्यक बन सकता है?

A

गोपनीयता को विशेष परिस्थितियों में तोड़ा जा सकता है। बातचीत के दौरान विशेष जानकारी मिलने पर, उदाहरण के लिए अगर हिंसा करने वाले व्यक्ति से क्लाइंट, उसके बच्चों या पालतू जानवरों की हत्या कर देने का खतरा है; यदि क्लाइंट में आत्मघाती विचार पैदा हो रहे है; या क्लाइंट एचआईवी, हेपेटाइटिस-बी जैसी संचारी बीमारी से पीड़ित है, तो इन परिस्थितियों में गोपनीयता भंग की जा सकती है।

ऐसे मामलों में स्थिति को देखते हुए पुलिस या स्वास्थ्य कर्मियों के समक्ष इस जानकारी का खुलासा करना जरूरी हो सकता है।

हिंसा संबंधी आघात को थेरेपी में संभालना शक्ति के साथ संयुक्त तौर पर व्हाइट स्वान फाउंडेशन की एक सिरीज है। यह सिरीज मानसिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों के लिए एक गाइड है जो थेरेपी के माध्यम से हिंसा के उत्तरजीवी पीड़िताओं की मदद के लिए है।

यह श्रृंखला उत्तरजीवी महिलाओं के संदर्भ में है, हालांकि, हम स्वीकार करते हैं कि उत्तरजीवी लोग किसी भी पहचान के हो सकते हैं। "महिलाओं" शब्द का उपयोग उन कानूनों को दर्शाने के लिए किया गया है जो महिलाओं के खिलाफ घरेलू हिंसा पर बने हुए हैं और अन्य दिशानिर्देश जो महिलाओं को ध्यान में रखते हुए तैयार किए गए हैं।

पूरी श्रृंखला देखने के लिए यहां क्लिक करें

पत्रकार और प्रशिक्षण से सामाजिक कार्यकर्ता एवं शक्ति की सलाहकार भूमिका साहनी और निम्हान्स के मनोचिकित्सा विभाग की रेजिडेंट डॉक्टर डॉ. पारूल माथुर द्वारा संकलित।

Related Stories

No stories found.
वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org