कल्याण

क्या फोटोग्राफी आपकी सेहत सुधार सकती है?

डॉ. एडवर्ड हॉफमैन

क्या आप अपने कैमरे या अपने स्मार्टफोन से फोटो लेने पर आनंद महसूस करते हैं? यदि हां, तो क्या आपने कभी सोचा है कि फोटोग्राफी एक शौक से अधिक हो सकती है : कुछ ऐसा, जो अपनी भलाई के लिए जरूरी है, जो शायद आत्म-साक्षात्कार की ओर ले जाने का एक रास्ता भी है?

सकारात्मक मनोविज्ञान द्वारा आजकल उठाए जा रहे इस पेचीदा सवाल ने हॉलीवुड का ध्यान भी आकर्षित किया है। जैसा कि द सीक्रेट लाइफ ऑफ वॉल्टर मिटी, सीयेन ओ'कॉनेल(अभिनेता सीयेन पेन द्वारा अभिनीत) में बताया गया है। वॉल्टर, जो एक प्रसिद्ध साहसी फोटो-पत्रकार और अपने बुजदिल ऑफिस सहायक के नायक हैं। वर्षों तक पत्राचार के जरिए मुलाकात करने के बाद वे आखिर में वे हिमालय की एक पर्वत चोटी पर मिलते हैं। लगातार कल्पना में खोए रहने वाले वॉल्टर के सामने वहां सीयेन का संदेश तब पूरी तरह साकार हो जाता है, जब वह एक प्रेतरूपी हिम तेंदुए का फोटो खींचते हैं।

लोकप्रिय रूप से जानी जाने वाली स्मरणीय फोटोग्राफी की यह अवधारणा, माइनर ह्वाईट की देन है, जिन्होंने 1940 के दशक में कलात्मक फोटोग्राफी के दिग्गजों अल्फ्रेड स्टीगलिट्ज़, एन्सल एडम्स और एडवर्ड वेस्टन के साथ अध्ययन किया था। ह्वाइट विशेष रूप से स्टीगलिट्ज़ की "समतुल्य" की धारणा से प्रभावित थे, जिसमें होने वाली स्थिति के लिए, एक फोटो छवि एक दृश्य में रूपांतरित हो जाती है। बाद में, एमआईटी में एक संकाय सदस्य के रूप में, ह्वाइट ने फोटोग्राफी और जीवन जीने के तरीके के रूप में ध्यान और सचेतन के महत्व को समझाया। ह्वाइट ने सलाह दी कि, "तब तक अपने ही साथ रहो, जब तक ध्यान की वस्तु आपकी उपस्थिति स्वीकार नहीं कर लेती"। ह्वाइट ने और विस्तार से बताया कि  "आंख की अज्ञानता इसका अपना एक गुण है। इसका अर्थ है उस तरह देखना जैसे एक बच्चा किसी आश्चर्य को नवीनता और स्वीकृति के साथ देखता है। "

हालांकि इस बारे में अनुसंधान फिलहाल अपर्याप्त हैं, लेकिन स्वास्थ्य पेशेवर इसके भावनात्मक लाभों के लिए फोटोग्राफी का उपयोग कर रहे हैं। नॉर्वे में, 2008 में फोटोग्राफी और चिकित्सीय फोटोग्राफी का पहला अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन हुआ, जिसमें कला चिकित्सकों, मनोवैज्ञानिकों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने प्रस्तुतीकरण दिया। इसके नेतृत्वकर्ताओं में से जुडी वीजर, की पुस्तक फोटोग्राफी टेक्नीक्स  में निजी स्नैपशॉट्स, फैमिली एलबम्स और दूसरों द्वारा ली गई तस्वीरों का इस्तेमाल स्वयं की आभा को प्रोत्साहित करने और चिकित्सीय संचार में सुधार की तकनीक प्रस्तुत की गई थी। सेहत सुधारने के लिए फोटोग्राफी का उपयोग करने वाली कला चिकित्सा की शाखा, वयस्कों और कार्यशालाओं के बीच लोकप्रियता हासिल कर रही है। इस तरह के कार्यक्रम पुरजोर तरीके से बताते हैं कि किस तरह फोटो, आत्म-अंतर्दृष्टि के लिए दृश्य डायरी के रूप में काम आ सकते हैं, सकारात्मक यादें बढ़ा सकते हैं, रचनात्मकता में सुधार कर सकते हैं और दूसरों के साथ हमारे बंधन को मजबूत कर सकते हैं।

स्मरणीय फोटोग्राफी का उपयोग कक्षा में भी किया जा रहा है उदाहरण के लिए, बच्चों को भलाई की अवधारणा सिखाने के लिए डिजाइन किए गए एक प्रोजेक्ट में, नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ आयरलैंड में डॉ. साओईर्स गब्हैन और डॉ. जेन सिक्सस्मिथ ने 8 से 12 साल के बच्चों के एक समूह को उन चीजों की तस्वीरें लेने के निर्देश दिए, जिन्हें वे पसंद करते थे, जबकि इसके बाद के समूह ने इसे श्रेणियों को तहत आयोजित किया जैसे "लोग, जिन्हें मैं सबसे ज्यादा प्यार करता हूं", "भोजन और पेय" और "जानवर या पालतू जानवर"। शोधकर्ताओं के मुताबिक, भलाई की अवधारणा को समझाने के लिए फोटोग्राफी एक प्रभावी शिक्षण संबंधी साधन साबित हुई। इंग्लैंड की शेफील्ड हॉलम यूनिवर्सिटी के डॉ. ऐनी केलॉक ने पाया कि न्यूजीलैंड के माओरी में 8 से 10 साल के बच्चों के बीच फोटोग्राफी की सहभागिता से उनके जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं की पहचान करने में मदद मिली। इस क्षेत्र में सक्रिय मनोवैज्ञानिक पुराने छात्रों के साथ भी फोटोग्राफी का उपयोग कर रहे हैं।

कॉलेज के प्रशिक्षकों के लिए हाल ही की एक पुस्तिका में, जेम्स मैडिसन यूनिवर्सिटी के डॉ. जेमी कर्ट्ज और रिवरसाइड की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की डॉ. सोनिया ल्यूबोमर्स्की ने सिफारिश की थी कि छात्र, रोजमर्रा की चीजों के फोटो खींचते हैं, जो उन्हें खुशी देती हैं और फिर उनके कुल किए गए कार्य पर सामूहिक रूप से चर्चा करते हैं। 

क्या स्मार्टफोन कैमरों की व्यापक उपलब्धता हमारी मनोवैज्ञानिक कुशलता को बढ़ा सकती है? इस प्रश्न पर इरविन में कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के डॉ. यू चेन के नेतृत्व में किए गए हालिया अध्ययन में उत्साहजनक निष्कर्ष मिलते हैं। कॉलेज के छात्रों को एक महीने तक प्रतिदिन एक तस्वीर लेने के लिए कहा गया, इन तीन परिस्थितियों में से किसी एक की : मुस्कुराते हुए अभिव्यक्ति  के साथ एक सेल्फी, कुछ ऐसा फोटो जो उन्हें खुशी महसूस कराता है, या ऐसी चीज की एक तस्वीर जिसके बारे में वे मानते हैं कि इसे देख किसी अन्य व्यक्ति  को खुशी होगी, और फिर इसे भेजें। महीने के अंत तक, तीनों समूहों के प्रतिभागियों की दैनिक मनोदशा में काफी सुधार देखा गया। इसके साथ ही, जिन लोगों ने दैनिक रूप से किसी अन्य व्यक्ति  को खुश करने वाले फोटो भेजे थे, वह काफी शांत हो गए थे, जबकि अन्य दो परिस्थितियों में ऐसा नहीं था। बाद वाला निष्कर्ष आश्चर्य पैदा नहीं करता है, क्योंकि चिरकालिक चिंता और अवसाद दोनों में स्वयं पर ही अधिक ध्यान केंद्रित किया जाता है। जैसा कि मानवतावादी मनोविज्ञान के प्रमुख प्रवर्तक अब्राहम मॉस्लो ने यकीनी तौर पर इसे माना कि, दुनिया में अकेले महसूस करना, सबसे दर्दनाक मानसिक स्थितियों में से एक है। 

यद्यपि अपने स्मार्टफोन से लगातार तस्वीरें खींचना आसान और आकर्षक दोनों ही है, लेकिन इसे लेकर मेरे पास कुछ सचेत करने वाली सलाह हैं। फेयरफील्ड विश्वविद्यालय, कनेक्टिकट की डॉ. लिंडा हेन्कल द्वारा एक महत्वपूर्ण प्रयोगात्मक अध्ययन में पाया गया कि जिन युवा वयस्कों ने एक संग्रहालय में गहने, पेंटिंग, मिट्टी के बर्तनों और मूर्तियों जैसी वस्तुओं की तस्वीरें लीं, उन्होंने अगले दिन एक याददाश्त पहचान परीक्षण के दौरान उन लोगों के मुकाबले खराब प्रदर्शन किया, जिन्होंने सिर्फ उन वस्तुओं को टकटकी लगाकर देखा था।  हालांकि, एक संबंधित अध्ययन में दिलचस्प रूप से पाया गया कि जब इसी तरह के प्रतिभागियों को सादे तौर पर इन वस्तुओं के फोटोग्राफ न लेकर विशिष्ट भागों पर जूम करने के लिए भी कहा गया, तो उन्होंने उस पूरी वस्तु को याद रखा, उसी तरह जैसी फोटोग्राफ नहीं लेने वाले लोगों को याद रही थीं। 

इन निष्कर्षों को कैसे समझाया जा सकता है? डॉ. हेन्कल के विचार में, बस किसी ऑब्जेक्ट या दृश्य की तस्वीर लेना - कोई फर्क नहीं पड़ता कि यह कितना खूबसूरत है, उस पल में हमारा ध्यान आकर्षित करने का कोई अन्य विकल्प नहीं है। वह यह भी बताती हैं कि डिजिटल फोटोग्राफी के आगमन ने छपने वाली तस्वीरों, उन्हें स्क्रैपबुक में व्यवस्थित करना और परिवार के लोगों से साथ देखने की परंपरा को बड़े पैमाने पर बदल दिया है। "अगर हम खुद को याद करने कैमरे पर भरोसा कर रहे हैं, तो हमें उसके लिए अतिरिक्त  कदम उठाना होगा, इसे देखना होगा (लक्ष्य पर बहुत ध्यान से)।"

निर्देशित गतिविधि

एक विशिष्ट विषय चुनें - जैसे पशु, लोग, या यादगार वास्तुकला, और फोटो लेने के दौरान अद्वितीय छवियों के लिए प्रयत्न करते रहें। अपने दिमाग को पूरी तरह सचेत करने के लिए, इन सुझावों का पालन करें:

1. रंगीन फिल्म उतारना आपकी आंख और दिमाग को सीध में रखेगा, इसलिए रंगीन कुछ देखें, फिर करीब आएं।

2. संरचनाओं की तस्वीरें लें, जो कि प्रकाशीय गुणवत्ता से हमेशा प्रभावित होती हैं। कल्पना कीजिए कि आप जो देखते हैं उसे छू रहे हैं।

3. लोगों की तस्वीर लेने के लिए, दोस्तों या परिवार के सदस्यों के साथ इसकी शुरुआत करें। धैर्य रखें। आखिरकार वे "अच्छा दिखने" के दबाव में रुकेंगे- और आपको इस पल में उनकी असली उपस्थिति की बेहतर तस्वीर मिलेगी।

डॉ. एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के येशिवा विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान के एक सहयोगी सहायक प्रोफेसर हैं। निजी प्रैक्टिस में एक लाइसेंस प्राप्त क्लीनिकल मनोवैज्ञानिक हैं, वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में 25 से अधिक पुस्तकों के लेखक/संपादक हैं। डॉ. हॉफमैन, हाल ही में डॉ. विलियम कॉम्प्टन के साथ पॉजिटिव साइकोलॉजी: हैप्पिनेस एंड फ्लोरिशिंग के सह-लेखक हैं, और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजिटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमैनिस्टिक साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्डों में कार्य करते हैं। आप उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं। 

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org