कल्याण

अपनी क्षमताओं को पहचानने वाले लोगों की दोस्ती और प्रेम संबंध

डॉ एडवर्ड हॉफमैन

आधिकारिक तौर पर सकारात्मक मनोविज्ञान को 1998 में लॉन्च किया गया था, लेकिन डॉ. अब्राहम मास्लो के काम में इसकी जड़ें गहरी नजर आती हैं। संगठनात्मक सफलता में सकारात्मक मनोविज्ञान की प्रासंगिकता के लिए डॉ. मास्लो को भारत में आज मानवीय प्रेरणा के गुरू के रूप में जाना जाता है। मास्लो की सबसे प्रसिद्ध अवधारणाओं में से सबसे जानी पहचानी अवधारणा है सेल्‍फ-एक्‍चूलाइजेशन यानि अपनी क्षमताओं  को पहचानने की प्रवृत्ति - सभी में अपनी जन्मजात क्षमता को पूरा करने की योग्यता होती है, और कुछ लोग इसे प्राप्त कर पाते हैं। मास्लो की परिभाषा से, इस तरह के पुरुष और महिलाएं अपनी सुरक्षा, निरंतरता, आदर और सम्मान के लिए अपनी बुनियादी जरूरतों को पूरा कर लेते है, और मुख्य रूप से अपनी उच्च आवश्यकताओं से प्रेरित होते हैं - जो रचनात्मकता, न्याय, और बेहतर दुनिया बनाने में मदद करने जैसे पारम्परिक मूल्यों से जुड़ी हैं।

मास्लो के विचार में, आत्म-साकार व्यक्तियों का अध्ययन मानवता को "उचित दिशा में आगे बढ़ने के लिए मार्गदर्शन" के लिए महत्वपूर्ण है। इस कारण से, सामाजिक जीवन के चार आयामों, दोस्ती, रोमांटिक प्रेम, विवाह और बच्चों के लालन-पालन पर उनके विचारों को जानना महत्वपूर्ण है। इस कॉलम में शुरुआती दो आयामों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा, और अगला कॉलम बाद के दो पर ध्यान केंद्रित करेगा।

1. क्या आत्म-साकार व्यक्ति दोस्त रखते हैं? यह एक निर्विवाद रूप से कठिन प्रश्न है और इसके लिए एक सूक्ष्म, त्रिकोणीय प्रतिक्रिया की आवश्यकता होती है। सबसे पहले, मास्लो ने मनोवैज्ञानिक रूप से स्वस्थ व्यक्तियों के बीच दोस्ती के गुनगुने आनंद का गुणगान किया। उदाहरण के लिए, उन्होंने प्यार को - "एक तरह की श्रेष्ठता" के रूप में परिभाषित किया। जो अपने बच्चे या प्यारे दोस्त के लिए होता है। उन्होंने यह भी कहा, ”परिवार के सदस्यों और दोस्तों से प्यार करना सौभाग्य की बात है, भले ही ऐसा करने का मतलब है कि अपने स्वयं के अलावा उनके सभी पीड़ाओं को झेलना।” दूसरा, मास्लो के अनुसार सच्ची दोस्ती में उपस्थित प्रामाणिकता और स्व-प्रकटीकरण इसे सतही स्तर के दिखावे की मित्रता से अलग बनाती है। तीसरा, हालांकि मास्लो ने आत्म-साकार व्यक्तियों को विशिष्ट रूप से ही गहरी दोस्ती का आनंद लेते देखा, मगर ऐसे संबंधों को उनके भावनात्मक हित के लिए न्यूनतम स्तर पर आवश्यक माना, क्योंकि उनकी अपनेपन और सम्मान की आवश्यकता पहले ही पूरी हो चुकी थी। दूसरे शब्दों में, उन्हें चापलूसी के लिए दोस्तों की आवश्यकता नहीं है।

मास्लो ने भरोसेमंद रिश्तों के लिए प्रामाणिकता और स्व-प्रकटीकरण दोनों के महत्व पर जोर दिया। प्रामाणिकता के तहत पहचानने की क्षमता और जीवन के अनुभवों की जिम्मेदारी लेने और इन अनुभवों के आधार पर काम करना दोनों शामिल हैं। स्व-प्रकटीकरण में अपनी भावनाओं और विचारों को ईमानदारी और खुले तौर पर जाहिर करना शामिल है। गर्मजोशी और समान रूचि के अलावा मास्लो इन दोनों गुणों को आत्म-साकार व्यक्तियों की मित्रता की खासियत बताते हैं।

2. क्या आत्म-साकार लोगों को प्यार हो जाता है? किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसका रोमांटिक अनुभव कॉलेज में किसी एक विशेष साथी तक सीमित था, और जिससे उसने जल्द ही शादी कर ली, मास्लो की इस विषय में आश्चर्यजनक रूप से बहुत ज्यादा रुचि थी। उन्होंने बताया कि क्योंकि आत्म-साकार व्यक्ति तारीफ, प्रशंसा या प्रभुत्व पाने की अस्थायी जरूरतों से मुक्त थे, उनके रोमांटिक रिश्ते अधिक समानुभूतिपूर्ण और देखभाल करने वाले थे। बाद में जीवन में, मास्लो ने यह भी पाया कि मनोवैज्ञानिक रूप से स्वस्थ व्यक्ति अपनी अंदर की बातों का खुलासा करने में औरों से बेहतर होता है। शायद मास्लो के लिए और अधिक खास यह रहा कि, क्योंकि आत्म-साकार व्यक्तियों ने आदर और सम्मान के लिए अपनी आवश्यकताओं को पूरा कर लिया था, इसलिए वे अपने प्रियजन पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करने में सक्षम थे। आज के शब्दों में बात की जाए तो, हम कह सकते हैं कि वे अपने रोमांटिक प्रेम में अधिक से अधिक सचेतनता (माइंडफुलनेस) दिखाने में सक्षम हैं।

1960 के दशक में पूर्वी विचारों से प्रभावित होकर, मास्लो ने इस मानसिकता का वर्णन 'ताओवादी ग्रहणशीलता' के रूप में किया, जिसमें प्रेमियों का आपस में एक-दूसरे की आंखों में खुशी से झांकना या एक मां का अपने नवजात शिशु को आश्चर्यभरी खुशी से एकटक देखना शामिल है। उनके विचार में, प्रेम में होने की मनोवैज्ञानिक स्थिति में अपने रोमांटिक पार्टनर को न केवल अद्भुत और असाधारण, बल्कि उसे परिपूर्ण रूप में देखा जाता है। हालांकि इस तरह की मानसिकता निश्चित रूप से दैनिक जीवन के दृष्टिकोण से अवास्तविक थी, मास्लो ने इसे रोमांस पैदा होने और पनपने के लिए आवश्यक माना।

मास्लो के इस विचार जिसमें रोमांटिक पार्टनर को आदर्श या देवता जैसा समझकर ध्यान देना या प्रेम में सकारात्मक भ्रम पर हाल ही में रिसर्च हुई। इसमें पाया गया है कि अपने साथी को आदर्श बनाने वाले नवविवाहित वरवधू को अन्य जोड़ों की तुलना में तीन साल बाद अधिक वैवाहिक संतुष्टि मिली। एक अन्य अध्ययन में, जांचकर्ताओं ने पाया कि एक दूसरे को आदर्श बनाने वाले नवविवाहित जोड़ों में एक-दूसरे के प्रति प्यार ज्यादा था और शादी के तेरह साल बाद भी उनके प्यार में कमी की संभावना कम थी। संक्षेप में, विवाहित जीवन में प्रेम बनाए रखने के लिए अपने साथी को आदर्श या देवतुल्य बनाना महत्वपूर्ण लगता है।

डॉ एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के एशिवा विश्वविद्यालय में एक सहायक सहयोगी मनोविज्ञान प्रोफेसर हैं। निजी अभ्यास में एक लाइसेंस प्राप्त नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक, वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में 25 से अधिक किताबों के लेखक / संपादक हैं। डॉ हॉफमैन ने डॉ विलियम कॉम्प्टन के साथ 'पॉजिटिव साइकोलॉजी: साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग' नामक किताब लिखी हैं, और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजिटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमनिस्ट साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्डों में कार्य करते हैं। आप उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org