कल्याण

समय समृद्धि: कुशलता की कुंजी

डॉ एडवर्ड हॉफमैन

सकारात्मक के क्षेत्र में काम रहे मनोवैज्ञानिक हमारी भावनात्मक कुशलता को प्रभावित करने वाले विभिन्न लक्षणों को उजागर कर रहे हैं - और उन सबसे आकर्षक है समय के साथ हमारा रिश्ता। विशेष रूप से, जिस हद तक हम समय के निरंतर प्रवाह के साथ सहज महसूस करते हैं- या इसके अभाव के चलते व्यस्तता और दबाव महसूस करते हैं। यह एक महत्वपूर्ण मुद्दा लगता है, जो हमारे मानसिक और शायद हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है। चूंकि भौगोलिक दृष्टि से दूर देशों को अस्थायी रूप से जोड़ा जाता है, और हम में से कई लोग विभिन्न समय क्षेत्रों में बसे लोगों के साथ नियमित रूप से बातचीत करते हैं, "समय समृद्धि" का विषय निश्चित रूप से अधिक प्रमुखता प्राप्त करेगा।

एक तरह से यह मुद्दा शायद नया नहीं है। उदाहरण के लिए, पचास साल पहले, अमेरिकी राष्ट्रपति फ्रैंकलिन डी रूजवेल्ट की पत्नी और एक लोकप्रिय व्यक्तित्व, एलेनोर रूजवेल्ट ने अपने पति की 1945 में मृत्यु के बाद - युवा लोगों के लिए सलाह की एक लोकप्रिय पुस्तक लिखी थी। "यू लर्न बाई लिविंग" - इस किताब क़े द्वारा उन्होंने महत्वाकांक्षा और उपलब्धि, अध्ययन और आत्म-अनुशासन, और सच्चे सामाजिक संबंधों को विकसित करने जैसे मामलों पर अपने विचारों को प्रस्तुत किया। समय प्रबंधन के बारे में विशेष रूप से अंतर्दृष्टिपूर्ण चर्चा में, श्रीमती रूजवेल्ट ने जोर देकर कहा, "हम सभी के पास पूरा समय है। कोई भी आपको नहीं बता सकता है कि अपना समय का कैसे उपयोग करें। समय आपका है।"

1960 में प्रकाशित, श्रीमती रूजवेल्ट की पुस्तक ने उस युग को चिह्नित किया जब एक सामान्य कार्यदिवस में दो घंटे के मध्यांतर आम थे - और भविष्यवादी इस बात से चिंतित थे कि आने वाले दशकों में अमरीकी लोग अपने विशाल और अनुमानित अवकाश का उपयोग कैसे करेंगे। कार्यस्थल और घरों में तेजी से बढ़ते स्वचालन क़े कारण अधिकांश सामाजिक वैज्ञानिकों को यकीन हो गया था कि रोजगार का दबाव और कठोर घरेलू श्रम काफी हद तक कम हो जाएगा। उनके विचार में, यह स्थिति लगभग सभी को मनोरंजन क़े अवसर देगी। दरअसल, 1970 के मध्य तक, कई सामाजिक वैज्ञानिक चिंता व्यक्त कर रहे थे कि क्या अमरीकी लोग (और अन्य देशों में भी लोग) उनके पास उपलब्ध अवकाश क़े लम्बे समय का उपयोग अपने और अपने समाज के लिए उत्पादक ढंग से करेंगे - या इसे टेलीविजन देखने जैसे उद्देश्यहीन कार्यों या उन से भी बुरा, शराब पिने या जुआ खेलने पर खर्च करेंगे।

आज के दिन, यह भविष्यवाणी हास्यास्पद लगती है। यद्यपि लम्बे अवकाश वाले समाज में विश्वास कुछ ही दशकों के लिए महत्वपूर्ण रहा, विशेषज्ञों ने अंततः अपने विचार को बदलना शुरू कर दिया। 1981 की शुरुआत में अमेरिकी मनोवैज्ञानिक डेविड एलकिंड ने 'द हरिड चाइल्ड' में चेतावनी दी थी कि बच्चों पर उनके दैनिक जीवन में जल्दबाजी का अभूतपूर्व दबाव डाला जायेगा। नतीजतन, वे रचनात्मक और कल्पनाशील होने की क्षमता खो देंगे। एक दशक बाद, भविष्य इतना अलग दिख रहा था कि समाजशास्त्रज्ञ जूलियट स्कोर की "द ओवरवर्कड अमेरिकन: द अनएक्सपेक्टेड डिक्लाइन ऑफ़ लेसर"  जैसे खिताब वाली किताबें आम थी - लेकिन अनुभवजन्य आंकड़े दुर्लभ रहे।

समस्या का आकलन करने वाले पहले सामाजिक वैज्ञानिकों में से हार्वर्ड बिजनेस स्कूल की डॉ लेस्ली पर्लो थी - और 1999 में उनके वर्णनकर्ता समय क़े अकाल ने पेशावर रूप लिया। सॉफ़्टवेयर इंजीनियरों की एक टीम के अध्ययन क़े दौरान, जो लगातार महसूस करते थे कि उन्हें बहुत कुछ करना था परन्तु उनके पास पर्याप्त समय नहीं था, डॉ पर्लो ने जोर देकर कहा कि निगम वास्तव में उन्हें "तेजी से विकसित हो रहे, उच्च दबावपूर्ण और संकटजनक" परिस्तिथि में रखकर अपने कर्मचारियों की उत्पादकता को नुकसान पहुँचा रहे थे। उनकी निराशाजनक देखा कि, "कॉर्पोरेट वकील, निवेश बैंकर, कंप्यूटर प्रोग्रामर, और कई अन्य प्रकार के कर्मचारी नियमित रूप से सत्तर या अस्सी घंटे प्रति सप्ताह काम करते हैं, और विशेष रूप से व्यस्त समय के दौरान अतिरिक्त प्रयास करते हैं। ऐसे पुरुष और महिलाएं, विवाहित हो या एकल, भयानक कार्यक्रमों के परिणामस्वरूप तनावग्रस्त और थक गए हैं और यहां तक ​​की मर भी रहे हैं। उनके पास काम और उनके जीवन की सभी मांगों को पूरा करने के लिए अपर्याप्त समय है।" डॉ पर्लो ने जोर देकर कहा की यदि कॉर्पोरेट अधिकारी वास्तव में मशीनी मानव की बजाय रचनात्मक कर्मियों को चाहते हैं, तो अधिक अवकाश आवश्यक है। हाल ही में, अमेरिकी मनोवैज्ञानिक टिम कैसर और केनेथ शेल्डन ने समय समृद्धि की अवधारणा विकसित की है: एक समझ कि हर किसी को नियमित रूप से पर्याप्त समय उपलब्ध हो। चार वैज्ञानिक अध्ययनों क़े निष्कर्षों क़े मुताबिक भौतिक संपदा को संभावित कारक के रूप में नियंत्रित करने के बाद भी, एक व्यक्ति क़े समय समृद्धि की भावना बृहद् खुशी से जुड़ी हुई थी। दिलचस्प बात यह है कि, जो लोग घनिष्ठ संबंधों में थे, वे आम तौर पर दूसरों की तुलना में अधिक समय समृद्धि का अनुभव करते थे। ऐसे निष्कर्षों के आधार पर, शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि समय समृद्धि की भावना हमारे मानसिक स्वास्थ्य, शारीरिक स्वास्थ्य और परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ संबंधों के लिए फायदेमंद है।

इस शोध पर विस्तार करते हुए, व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनेस की डॉ कैसी मोगिलेनर और उनके सहयोगियों ने प्रयोगात्मक रूप से पाया कि -विरोधाभासी रूप से-समय समृद्धि का बोध तब बढ़ जाता है जब हम दूसरों क़े साथ उदारता से समय बिताते हैं। यह कैसे संभव है? उनके विचार में, ऐसा इसलिए है क्योंकि इस तरह के परोपकारी व्यवहार से हमारे आत्म-सम्मान और आत्मविश्वास को बढ़ावा मिलता है- और यह बदले में, हमारे दिमाग में समय फैला देता है। आखिरकार, हमारे व्यस्त कार्यक्रमों के बावजूद, हमारे भावी गतिविधियों में प्रतिबद्ध होने की संभावना बढ़ जाती है। हार्वर्ड बिजनेस रिव्यू में एक फॉलो-अप आलेख के रूप में शीर्षक दिया गया है, "यदि आप समय निकालते हैं, तो आपको कम हड़बड़ महसूस होगी।"

विशेषज्ञ वास्तव में समय समृद्धि के लिए कैसे प्रयास करते हैं? घर पर दो किशोर लड़कों के साथ एक विवाहित पिता के रूप में, डॉ कैसर ने मेरी पूछताछ का जवाब दिया, "लगभग हर साल, मैंने लगातार अपने कॉलेज के साथ 2/3 या 3/4 समय काम करने की व्यवस्था की है, और वे तदनुसार भुगतान करते हैं। बारह वर्षों तक, मेरी पत्नी ने सालाना 30 सप्ताह, आधे दिन से अधिक समय तक काम नहीं किया। हमने यह निर्णय किये ताकि हम हमारे बेटों, हमारी सामुदायिक भागीदारी, एक-दूसरे और खुद के लिए अधिक समय निकाल सके।"

यह एक सराहनीय जीवनशैली का निर्णय है। वयस्कता में प्रवेश करते हुए और अपने खुद क़े परिवार बनाने की योजना करते हुए, उनके बेटे निश्चित रूप से ऐसे निर्णय से प्रसन्न होंगे।

निर्देशित गतिविधि

यदि आप दुनिया के किसी भी देश क़े शहर में रहते हैं, तो संभव है कि आपने पिछले वर्ष में समय क़े अकाल का अनुभव किया हो। क्या करें? समय समृद्धि और परिणामी मनोवैज्ञानिक कुशलता की भावना को बढ़ाने के लिए, मैं आपको अपने साप्ताहिक अवकाश को बढ़ाने की सलाह देता हूं। अपने साप्ताहिक दिनचर्या में दूसरों को लाभ पहुंचाने की गतिविधियों को शामिल करें, चाहे वो परिवार के सदस्य हो, मित्र हो या आपके समुदाय क़े लोग। यदि आप किसी भी तरह के स्वयंसेवक काम में संलग्न हैं, तो आपको महसूस होगा की आपके पास काफी समय उपलब्ध है -इसलिए इसे तलाशें। तेज दौड़ने क़े बजाय टहलें और सैर करें। ब्रिटिश लेखक जेआरआर टॉकियन ने लार्ड ऑफ़ द रिंग्स की उपन्यास-त्रयी में ध्यान दिया कि, "हर वो जो घूमते हैं, वे सभी नहीं खोते हैं।" याद रखें, जितना कम आप अपना समय जमा करेंगे, उतना ही अधिक यह आपके दैनिक जीवन में भरपूर लगेगा।

डॉ एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के यशेश विश्वविद्यालय में एक सहायक सहयोगी मनोविज्ञान प्रोफेसर हैं। निजी अभ्यास में लाइसेंस प्राप्त नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक होने क़े साथ, वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में 25 से अधिक किताबों के लेखक / संपादक रह चुके हैं। डॉ हॉफमैन और डॉ विलियम कॉम्प्टन "पॉजिटिव साइकोलॉजी: द साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग" क़े सह-लेखक हैं, और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजिटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमनिस्ट साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्ड क़े सदस्य हैं। आप उन्हें column@whiteswanfoundationorg पर लिख सकते हैं।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org