कल्याण

खुश रहने के लिए अपने लक्ष्य निर्धारित करें

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

व्यवसाय की शुरुआत कैसे करें? इस विषय पर लिखी गई किताबों में वित्तीय सफलता के लिए जो सबसे बड़ा उपाय बताया जाता है, वह है लक्ष्य-निर्धारण। हालांकि यह पूरी तरह से सच हो सकता है, लेकिन इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण बात यह है कि सकारात्मक मनोविज्ञान ने पाया है कि लक्ष्य हमारी रोजमर्रा की खुशी को प्रभावित करते हैं। यदि आप इस मजेदार कड़ी को समझ जाते हैं, तो इसमें आपके हित की अधिक संभावना है। ऐसा कैसे होता है?  जब हम भविष्य के लिए अपनी उम्मीदों और सपनों के बारे में चर्चा करते हैं, तो हम वास्तव में अपने लक्ष्यों का वर्णन कर रहे हैं। इससे हमें यह निर्धारित करने में मदद मिलती है कि हम अपनी ऊर्जा और वचनबद्धताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं। शीर्ष के अनुभवों पर मेरा शोध, जो अक्सर व्यक्तिगत लक्ष्य प्राप्त करने में लोगों को आनंद का अनुभव होता है - चाहे उसमें शिक्षा, कार्य या सामाजिक संबंध शामिल हों। यदि आप ऐसे व्यक्ति हैं, जो अपने लक्ष्य के बारे में नहीं सोचता है या आपको इस बात का भी अंदाजा नहीं है कि वे लक्ष्य क्या हैं, तो संभावना यह है कि आप खुद को मिलने वाली अपार खुशी का सुअवसर खो दें।

मनोवैज्ञानिकों ने इस बात को खोज लिया है कि ख़ुशी पैदा करने में कुछ लक्ष्य, अन्य प्रकार के लक्ष्यों के मुकाबले ज्यादा प्रभावी होते हैं: विशेष रूप से, वे जो व्यक्तिगत रूप से मूल्यवान,  उचित और स्वतंत्र रूप से चुने गए हैं। यह स्पष्ट है कि दूसरों द्वारा थोपे गए या जो लक्ष्य वास्तव में हमारी नजर में कोई मूल्य नहीं रखते हैं उनके मुकाबले उन लक्ष्यों को पाना हमारे लिए ज्यादा सार्थक साबित होता है, जिन्हें खुद हमने ही निश्चित किया है।

सिनसिनाटी यूनिवर्सिटी के डॉ. रयान नीमिएक के नेतृत्व में एक प्रभावशाली अध्ययन में पता चला कि आंतरिक या व्यक्तिगत रूप से निर्धारित किए गए लक्ष्यों को प्राप्त करना ज्यादा हितकर था, जबकि बाहर से मिले लक्ष्यों को प्राप्त करना वास्तव में इसके विपरीत था। अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि जब किसी व्यक्ति के मूल्यों और लक्ष्यों के बीच एक अच्छा सामंजस्य होता है, तो उसमें प्रेरित होने की ज्यादा संभावना रहती है, उसमें उच्च वचनबद्धता होती है और वह ज्यादा से ज्याद खुशहाली का अनुभव करता है।

दूसरा महत्वपूर्ण मसला है लक्ष्य तक पहुंचने का दृष्टिकोण बनाम इसे पाने में टाल-मटोल करना। लक्ष्य तक पहुंचने का दृष्टिकोण लक्ष्य हमें कुछ आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है (जैसे, "मैं परामर्श में डिग्री प्राप्त करना चाहता हूं"),  दूसरी ओर, लक्ष्य के लिए टाल-मटोल हमें इससे जुड़ी कठिनाइयों, खतरों या डर से बचने के लिए प्रेरित करता है (जैसे, "मैं  सार्वजनिक रूप से बोलने में बचने की कोशिश करता हूं क्योंकि इससे मुझे घबराहट होती है")। कई अलग-अलग सांस्कृतिक परिवेश में रह रहे लोगों पर किए गए शोध से पता चलता है कि लक्ष्य पाने में टाल-मटोल की तुलना में लक्ष्य पाने के दृष्टिकोण से खुशी जुड़ी होने की ज्यादा संभावना है। इसका मतलब, लोग तब ज्यादा खुश होते हैं जब वे खुद को किसी ऐसी चीज की ओर बढ़ते हुए देखते हैं जिसकी वे कद्र करते हैं, बजाय इसके कि वे किसी मुश्किल या दर्द से बचने के लिए इसे टालने की कोशिश करें। लेकिन प्रेरणा पाना एक जटिल प्रक्रिया है। किसी चीज को पाने का प्रयास और इसे टालने की कोशिश दोनों में स्थिति के आधार पर ही संतुष्टि या असंतुष्टि का अहसास किया जा सकता है।

तीसरा, यह भी महत्वपूर्ण है कि लोग अपने लिए मूल्य रखने वाले लक्ष्यों को किस दर से हासिल करते हैं। पर्याप्त या अपेक्षा से बेहतर बनाना - महत्वपूर्ण लक्ष्यों की दिशा में आगे बढ़ना खुशी की भावना जगाता है। लक्ष्य की ओर आगे बढ़ने की रफ्तार जो किसी व्यक्ति ने निर्धारित की है या इसे पाने की उम्मीद इसे पूरी तरह हासिल कर लेने से भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो सकती है;  स्वयं द्वारा निर्धारित की गई प्रगति की दर में अधिक सकारात्मक भावनाएं जुड़ी होती हैं।

चौथा, हमारे लक्ष्यों का हमारी खुशी की भावना पर पड़ने वाला प्रभाव उनकी विशिष्टता पर निर्भर करता है। अत्यधिक काल्पनिक लक्ष्य खुशी बढ़ाने में बाधक हो सकते हैं क्योंकि इनमें यह जानना मुश्किल हो जाता है कि उन्हें कब तक हासिल किया जा सकेगा। उदाहरण के लिए,  यदि आपका लक्ष्य "एक दयालु और  देखभाल करने वाला व्यक्ति बनना है", तो यह पता लग पाना कठिन है कि आपने अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कितनी करुणा के साथ लोगों से कैसा व्यवहार किया है. लेकिन ठोस लक्ष्य निर्धारित करने से, यदि आप उसमें सफल रहते हैं, तो इसका आपको लगभग तुरंत ही पता चल जाएगा। इस तरह के एक लक्ष्य का एक उदाहरण है "जानबूझकर दिखाई गई दया और करुणा के साथ हर दिन कम से कम एक व्यक्ति का इलाज करना।" दिन के आखिर तक,  आप निश्चित रूप से यह जान पाते हैं कि क्या आपने इस विशेष लक्ष्य को हासिल कर लिया है या नहीं।

आखिर में, एक महत्वपूर्ण पहलू जो हमारे लक्ष्यों के बीच संबंध रखता है। विशेष रूप से, हासिल योग्य  बनाम हासिल करने में परेशानी का उनका स्तर। अलग-अलग लक्ष्यों में अनुरूपता का ज्यादा होना और प्रतिस्पर्धी लक्ष्यों में कम परेशानी, खुशी की भावना को बढ़ाता है। उदाहरण के लिए, जिन लोगों के जीवन में आठ या दस बेहतर लक्ष्य हैं, जो सभी "बहुत महत्वपूर्ण" लगते हैं। इन सभी को पूरी तरह हासिल करने में समय की कमी के कारण इन लक्ष्यों के बीच संघर्ष की स्थिति पैदा हो सकती है। संक्षेप में, कैरियर, पैसा, परिवार, सामाजिक भागीदारी और फुर्सत के लम्हे निकालने को लेकर "यह सब करना" एक साथ इन सबकी इच्छा विभिन्न लक्ष्यों के बीच आंतरिक संघर्ष को बढ़ा सकती है, जो वास्तव में हमारी रोजमर्रा की खुशी को कम कर देती है।

इन वैज्ञानिक निष्कर्षों के आधार पर, आपके लिए खुद से यह पूछना उपयोगी हो सकता है कि: अगले छह महीनों के लिए मेरे लक्ष्य क्या हैं? अगले साल और अगले तीन वर्षों में क्या होना चाहिए? इससे आपको एक लिखित सूची बनाने में मदद मिलेगी और याद रखें कि यथार्थवादी,  हासिल कर पाने योग्य और औसत दर्जे के लक्ष्य बनाना सबसे अच्छा रहता है। तो अब, शुरू कर दें!

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org