We use cookies to help you find the right information on mental health on our website. If you continue to use this site, you consent to our use of cookies.

मानसिक रोग

मनोविकार के क्षेत्र में पिछले 100 साल में उल्लेखनीय और महत्त्वपूर्ण तरक्की हुई है. कई वैज्ञानिक शोध और व्यवहारों से जुड़े अध्ययन, मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े विभिन्न विकारों को समझने के लिए किए गए हैं. ये ऐसे विकार हैं जिन पर ध्यान देने की और इलाज की ज़रूरत है. एक व्यक्ति में कौन कौन से लक्षण नज़र आते हैं इस आधार पर डॉक्टर ये पहचान कर सकता है कि वह किस तरह के विकार से जूझ रहा है. हम अब ये भी जानते हैं कि प्रत्येक किस्म के विकार के लिए मस्तिष्क का कौनसा हिस्सा ज़िम्मेदार है.

दुनिया भर में, मानसिक विकारों को पहचानने और उनका वर्गीकरण के लिए दो मुख्य पद्धतियाँ हैं- विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा प्रकाशित इंटरनेशनल क्लासिफ़िकेशन ऑफ़ डिज़ीज का अध्याय पाँच और मनोविकारों का डॉयगनोस्टिक और स्टैटिसटिकल मैनुअल (डीएसएम-5). इसे अमेरिकन साइकिएट्रिक एसोसिएशन ने प्रकाशित किया है. 250 से ज़्यादा मनोविकार हैं जिनकी पहचान कर ली गई है और जिन्हें नाम दे दिया गया है.

मानसिक और विकास संबंधी विकारों को समझने के लिए इस खंड को मोटे तौर पर दो हिस्सों में बाँटा गया है- कॉमन डिसऑर्डर यानि सामान्य मनोरोग और लाइफ़-स्टेज डिसऑर्डर यानि जीवन अवस्था मनोरोग. कॉमन मनोरोगों के अंतर्गत अवसाद संबंधी और घबराहट संबंधी मनोरोग रखे गए हैं. जीवन अवस्था के मनोरोगों में बचपन के विकार और गिरियाट्रिक मनोरोग शामिल हैं.

अन्य मनोरोगों का भी एक खंड है जिसके तहत अन्य विकार जैसे शिज़ोफ्रेनिया या संक्षिप्त मनोविकृतियों का विवरण दिया गया है.

इस खंड में दी गई सूचना व्हाइट स्वान फ़ाउंडेशन की टीम ने व्यापक शोध और क्षेत्र विशेष के विशेषज्ञों के साक्षात्कारों की मदद से तैयार की है. ये एक बढ़ता हुआ कोष है जिसके तहत यथासंभव सरलतम तरीक़े से मनोरोगों पर आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश की गई है.

बीमारियों की चिकित्सीय व्याख्या के साथ निजी दास्तानें, केस स्टडी और विशेषज्ञों के आलेख भी जोड़े गए हैं, जिनसे बीमारियों को समझने में आपको और मदद मिल सके. ये जानना महत्त्वपूर्ण है कि इस पोर्टल का मक़सद, आपको अपने लक्षण ख़ुद ही परखने में मदद कराने का नहीं है, बल्कि इसका उद्देश्य आपको मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मामलों और उनकी व्यापकता या फैलाव के प्रति जागरुक करने का है.

किसी अन्य शारीरिक बीमारी की तरह, शुरुआती पहचान और समय पर हस्तक्षेप यानि इलाज की प्रक्रिया शुरु कर देने से ही किसी बीमारी के सही उपचार में मदद मिलती है. मानसिक स्वास्थ्य या ज़ेहनी सेहत की समझ पर केंद्रित खंड में जाएँ और वहाँ विभिन्न विशेषज्ञों की भूमिकाओं के बारे में पढ़ें. जब भी आपको मदद की ज़रूरत होगी, ये सूचना काम आएगी.