डॉ एडवर्ड हॉफमैन

सकारात्मक जीवन

सरल लम्हों का आनंद लेना सीखें - डॉ एडवर्ड हॉफमैन

क्या आपको पसंदीदा रात्रिभोज और खर्चीली छुट्टियों पर गए लंबा समय हो गया है? यह मानवीय स्वभाव है, शायद, असाधारण चीजों के बारे में सपने देखना- और निश्चित रूप से वैश्विक उपभोक्ता-उत्पाद उद्योग, इन डिजाइनर लेबल्स और विदेश घूमने की छुट्टियों के लिए हमारी इच्छाओं की आग को हवा देने में मदद करता है। पूरे विश्व में, बड़े पैमाने पर जनसंपर्क माध्यम बड़ी लॉटरियों के विज्ञापनों से भरे हुए हैं और बड़े पुरस्कारों का वादा करने वाली प्रतियोगिताएं आयोजित कराते हैं । लुभाना सरल हैः यह अवसर जीवन में एक बार आता है, इसलिए इसे खोना नहीं है।

लेकिन क्या जीवन में एक बार, फिजूलखर्ची वाले ये आयोजन हमारी खुशी के लिए महत्वपूर्ण-या-प्रासंगिक हैं? इस प्रकार के विज्ञापनों द्वारा उत्पन्न प्रचार के बावजूद, बढ़ते वैज्ञानिक प्रमाण इसके विपरीत स्थिति दर्शाते हैं। यह कि, सकारात्मक मनोविज्ञान ने तेजी से इस बारे में खोज की है कि रोजमर्रा की जिंदगी के छोटे आनंददायक पल हमें संपूर्ण खुशी देते हैं- और इसलिए हमें उनके प्रति जागरूकता बढ़ाना चाहिए।

बेशक, यह विचार पूरी तरह से नया नहीं है लगभग अस्सी साल पहले, मशहूर ब्रिटिश उपन्यासकार डब्ल्यू सोमरसेट मौघम ने अपने संस्मरण द समिंग अपः में लिखा है कि ”गुजरने वाले पल हम सभी के लिए सुनिश्चित हो सकते हैं। इनमें से उनके परम मूल्य को निकालना, यह केवल व्यवहारिक समझ की बात है। एक दिन आने वाला कल, वर्तमान होगा और उसी तरह महत्वहीन होगा जैसा कि, आज का वर्तमान है”। मौघम अपना मध्यकालीन जीवन भलीभांति गुजार चुके थे, जब उन्होंने 1938 में उन उद्बोधक शब्दों को लिखा, और उनकी कड़ी मेहनत से जीत वाली अंतर्दृष्टि, सकारात्मक मनोविज्ञान की अवधारणा के लिए महत्वपूर्ण है, जिसे कि जीवन में आनंद लेना कहते हैं- पहचान करना, प्रशंसा करना और रोजमर्रा के अपने छोटे-छोटे अनुभवों को बढ़ाना।

इस क्षेत्र में आज के उभरते शोधकर्ताओं में शिकागो के लोयोला विश्वविद्यालय के डॉ. फ्रेड ब्रायंट प्रमुख हैं। अपनी बढती उम्र में, डॉ. ब्रायंट, छोटे-छोटे खुशहाल क्षणों का आनंद लेने के लिए, अपने माता के ”प्राकृतिक उपहार “(उनके शब्दों में) से और बाद में, वैज्ञानिक अनुसंधान की व्यवस्थित रूप से समीक्षा करते हुए प्रभावित हुए, उन्होंने देखा कि व्यक्तिगत कल्याण में तनाव को कम करने से, ज्यादा कुछ शामिल है। पिछले दशक में, डॉ ब्रायंट में इस प्रकार की एक अंतरराष्ट्रीय टीम का नेतृत्व किया, जो अध्ययन कर रही थी कि क्या चीज आनन्द को बढ़ाती है और समान रूप से महत्वपूर्ण- क्या इसे कमजोर या अशक्त करता है। उनकी आश्चर्यजनक, आवश्यक खोज रही कि हम अक्सर हमारे जीवन में होने वाली अच्छी चीजों को उच्चतम सीमा तक बढ़ाने में असफल रहते हैं क्योंकि -ऐसा करने के लिए हमारे अंदर सही रणनीतियों की कमी होती है-या इससे भी बदतर है, क्योंकि हम गलत रणनीति चुनते हैं।

दूसरे शब्दों में, हमें स्वयं को लगातार थोड़े-थोड़े समय में, अनजाने में अपनी खुशियों को संक्षिप्त और अस्थाई रखते हुए बदलते रहना हैः यानी, उनकी वृद्धि को रोकना या अनजाने में इन्हें आंतरिक रूप से दबा देना है।

उदाहरण के लिए, न्यूजीलैंड के विक्टोरिया विश्वविद्यालय के डॉ पॉल जोस के नेतृत्व में एक अध्ययन में 101 पुरुषों और महिलाओं को 30 दिन के लिए एक डायरी रखने के लिए कहा गया। प्रतिभागियों ने सुखद घटनाओं को दर्ज किया और यह नोट किया कि उन्होंने या तो इन घटनाओं में कितनी दिलचस्पी ली या इन घटनाओं को दबाया। दिलचस्पी पसंद लोगों ने सकारात्मक घटनाओं पर रूक कर ध्यान केन्द्रित किया, किसी को इस बारे में बताया, या हंसे, या यहां तक कि इस खुशी में चिल्लाए भी। दूसरी ओर, गैर दिलचस्प लोगों ने जोर देकर कहा कि वे अनुभव के लायक नहीं हैं, या फिर यह शिकायत करते हैं कि इससे भी बेहतर हो सकता था या यह लंबे समय तक पर्याप्त नहीं था। एक और अध्ययन में, वाशिंगटन स्टेट यूनिवर्सिटी में डॉ. डैनियल हर्ली और पॉल क्वोन ने पाया कि कठिन समय से गुजरने वाले लोगों को उन लोगों की तुलना में बहुत अधिक उत्साह मिला, जिनका जीवन सकारात्मकता से तो भरपूर था, लेकिन दिलचस्प अनुभवों की कमी थी। शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला कि जब हम लगातार आनंददायक घटनाओं की कमी महसूस कर रहे हों, तो अपने कल्याण के लिए आनंद लेना बहुत महत्वपूर्ण है।

क्या आनंद लेना एक ही प्रकार का अनुभव है? डॉ. ब्रायंट और उनके सहयोगियों ने पाया कि आनंद लेना चार विभिन्न प्रकार से होता है- और हम जानते हुए उन सभी को दैनिक जीवन में बढ़ा सकते हैं। इनमें शामिल हैः

1. आनंदित होना या प्रशंसा और बधाई, खासकर उन लोगों की राय जिनका हम मान करते हैं।

2. एक पल के लिए मोहित होना या चकित होकर खो जाना। कभी-कभी, यात्रा में ऐसे अनुभवों का उदाहरण मिलता है।

3 शानो शौकत या उत्तेजना में लिप्त होना। यह उतना ही आसान हो सकता है जितना धीरे धीरे अच्छी कॉफी की चुस्की लेना या खुशबूदार फूलों को सूँघना।

4. धन्यवाद देना या कृतज्ञता व्यक्त करना। बेशक, आभार को ईमानदारी से और दिल की गहराई से होना चाहिए-बेहतर फायदे के लिए।

5.  डॉ. ब्रायंट और उनके सहयोगियों ने जिसे वे “किल-ज्वाय थिंकिंग” कहते थे, के द्वारा उनको गंभीर चेतावनी दी है-जो जानबूझकर ठोकर खाकर गिरने की कोशिश करते हैं या यहां तक कि अपने छोटे-छोटे सुखद क्षणों को भी कमतर आंक रहे हैं। कुछ लोग वास्तव में इस तरह से स्वयं के सबसे बड़े दुश्मन बन जाते हैं। आखिर क्यूं? सबसे अधिक संभावना है क्योंकि उनके माता-पिता इस संबंध में मुख्य भूमिका में थे; आखिरकार, हम आम तौर पर उनसे बड़े पैमाने पर मूल्यों और व्यवहारों को सीखते हैं। इसलिए, कभी भी अपने आप में इस तरह के विचारों को आश्रय न दें ”कि ये खुशी के क्षण अंतिम नहीं हैं“ अफसोस की बात है! या इस समय में खुश हूं, पर इसके बाद मुझे बहुत काम है! या ”मैं अपने आप को बहुत खुश होने नहीं देना चाहता, क्योंकि बाद में मुझे बुरा ही महसूस होगा।“ व्यावहारिक रूप से, आनंद के लिए क्या प्रयास करने पड़ते हैं? आनंद पाने के लिए डॉ ब्रायंट की सिफारिशों में शामिल हैः

 

1) अपने दोस्तों को अपने खुशी के अनुभव के बारे में बताएं-चाहे यह एक मनोरंजक फिल्म हो, एक बढ़िया रेस्तरां, या रमणीय छुट्टी का स्थान। घटना को याद करके, आप इसे मजबूत करते हैं।

2) अनुभव का चित्र अपने मन में उतार लें। यह कि, इस बात से सजग रहें कि क्या आपको खुशी देता है और संपूर्ण करता है, जैसे कि किसी का प्यार भरा स्पर्श या किसी मित्र की हंसी।

3) अपनी उपलब्धि या उचित परिणाम के लिए खुद को बधाई दें। यह आपकी खुशी बढ़ाएगा।

4) अपनी ग्राह्य अनुभूतियों को तेज करें। ध्वनियों, रंगों, सुगंध, स्वाद और स्पर्श संवेदनाओं पर अधिक ध्यान दें। इस बात का सबूत है कि आनंद की प्राप्ति करना, हमारी इंद्रियों से काफी प्रभावित है, इसलिए उन्हें बंद न करें।

निर्देशित गतिविधि

अपने आनंद को बढ़ाने के लिए, दो गतिविधियां चुनें जो आप रोज करते हैं-एक घर के भीतर और दूसरी घर के बाहर। उदाहरण के लिए, इनमें फुहारे में स्नान करना, रात्रिभोज करना, साइकिल चलाना, या एक पार्क में घूमना शामिल सकते हैं। कम से कम शुरूआत में, इन प्रयासों को अकेले करें और अपने ध्यान के खिंचाव को कम करें-मतलब कोई स्मार्ट फोन नहीं!

अब अपने आप को शांत कर लें। आप क्या अनुभव कर रहे हैं इस पर ध्यान पूरी तरह से केंद्रित करें। अपने आप को सभी पांच इंद्रियों में खोलें, फिर अपने जागरूकता के मार्गदर्शन के लिए एक इंद्री को चुनें। आपने क्या देखा? क्या नया या अलग सा दिखता है? अपने आप को यह महसूस करने दें कि समय आपके कल्याण के लिए बढ़ रहा है और आपको ऊंचा उठा रहा है। यह भी कि जानबूझकर एक दोस्त या प्रियतम के साथ आनंद अनुभव करना उपयुक्त है। बेशक, बीस मिनट का एक फिजूलखर्ची के मकसद का समय या एक दूसरे को धन्यवाद देना आसान है, जो कि आनंदित या अचंभित होने से जुड़ा है, लेकिन ऐसी संभावनाओं के लिए भी खुला होना चाहिए।

डॉ. एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के येशिवा विश्वविद्यालय में सहयोगी मनोविज्ञान के सहायक प्रोफेसर हैं। निजी प्रैक्टिस में एक लाइसेंस प्राप्त नैदानिक मनोवैज्ञानिक,वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में25से अधिक पुस्तकों के लेखक/संपादक हैं। साथ डॉ. हॉफमैन,हाल ही में पॉजीटिव साइकोलॉजी के डॉ. विलियम कॉम्प्टन के साथ लिखी गई किताब : द साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग के सह-लेखक हैं: और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजीटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमैनिस्टिक साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्डों में कार्य करते हैं। आप उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं।