डॉ एडवर्ड हॉफमैन

सकारात्मक जीवन

उम्मीद की किरण तलाशना आपकी भलाई को बेहतर बनाता है - डॉ एडवर्ड हॉफमैन

1919 में जेरोम केर्न और जॉर्ज डीसिल्वा के लोकप्रिय अमेरिकी गीत लुक फॉर द सिल्वर लाइनिंग,  में उम्मीद की किरणें तलाशने पर जोर दिया गया है। विदेशी प्रवासी नागरिकों के न्यूयॉर्क में जन्मे बेटों के सफल होने के दौरान,  दोनों ने जीवन के बारे में उत्साहित आशावाद को साझा किया और संगीत के माध्यम से इसे शक्तिशाली रूप से व्यक्त किया। तीन करोड़ से अधिक लोगों के हताहत होने के साथ ही इतिहास में दुनिया का सबसे भयानक युद्ध अब समाप्त हो गया था। फिर भी,  गीत की उत्साहित करने वाली धुन और गीत के बोलों ने 'हमेशा जीवन के उजले पक्ष को ढूंढने' और बादलों के पीछे सुनहरी किरणों की तलाश की सलाह दी है। आज के दौर में सकारात्मक मनोविज्ञान द्वारा इसे मजबूत समर्थन मिलता है। वैज्ञानिक कार्यों के महत्वपूर्ण अंग से पता चलता है कि हमारी व्याख्यात्मक शैली (हम कैसे अपने साथ हुई बुरी घटनाओं की व्याख्या करते हैं) हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गहरा प्रभाव डालती है।

इस अवधारणा पर जोर देने में अग्रणी व्यक्ति,  पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के डॉ. मार्टिन सेलिगमन हैं। 1980 के दशक के मध्य में, उन्होंने पेशेवर अमेरिकी बेसबॉल खिलाड़ियों और प्रबंधकों की व्याख्यात्मक शैली के अध्ययन को लेकर शोध शुरू किया। समाचार पत्रों को दिए उनके सार्वजनिक बयानों का विश्लेषण करके, सेलिगमन ने पाया कि 'आशावादी टीमों' ने (जिनके बयान उनके भविष्य के प्रदर्शन के बारे में उम्मीद से भरे थे) पिछले जीत-हार रिकॉर्ड से बेहतर प्रदर्शन किया। इसके ठीक विपरीत, 'निराशावादी टीमों' (जिनके बयान उनके भविष्य के प्रदर्शन के बारे में उदास थे) ने वास्तव में बदतर प्रदर्शन किया।

इसी अवधि में, अमेरिका के नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन द्वारा किए गए एक अध्ययन में भी इसी तरह के निष्कर्ष पाये गएः टीमों और इनके प्रत्येक खिलाड़ी में एक व्याख्यात्मक शैली मौजूद थी जिसे पहचान और मापा जा सकता है। और,  सेलिगमैन के विचारों में महत्वपूर्ण यह था कि,  इन शैलियों ने खिलाड़ियों की एथलेटिक क्षमता से परे और इससे बढ़कर जीत की भविष्यवाणी की। ऐसा कैसे?  क्योंकि खेल के मैदान में सफलता आशावाद से संबंधित थी, जबकि विफलता निराशावाद से संबंधित थी। दूसरे शब्दों में,  उम्मीदों से भरे होने का वास्तविक प्रभाव एथलेटिक प्रदर्शन पर पड़ा।

निस्संदेह, पेशेवर खेलों में सफलता केवल मानव उपलब्धि या कल्याण का एक छोटा सा पहलू है। इसलिए, सेलिगमन और उनके सहयोगियों ने जीवन के एक और महत्वपूर्ण क्षेत्र, शारीरिक स्वास्थ्य में व्याख्यात्मक शैली की भूमिका की जांच की। जर्नल ऑफ पर्सनैलिटी एंड सोशियल साइकोलॉजी में वर्णित एक ऐतिहासिक अध्ययन में, उन्होंने पाया कि निराशावादी व्याख्यात्मक शैली, शारीरिक बीमारी के लिए जोखिम का एक प्रमुख कारक है। दशकों पहले द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हार्वर्ड विश्वविद्यालय के सहपाठियों के एकत्र किए गए व्यक्तित्व और स्वास्थ्य संबंधी डेटा के उपयोग से सेलीगमन की टीम ने यह निर्धारण किया कि व्याख्यात्मक शैली ने छात्रों में बाद के समय 30 से 60 साल की उम्र में स्वास्थ्य को प्रभावित किया था। अर्थात, जो लोग कॉलेज छात्र रहने के समय में निराशावादी थे, बाद के वर्षों में उनके स्वास्थ्य में काफी खराबी की संभावना थी, उन छात्रों के मुकाबले जो जीवन का उजला पक्ष देखते थे। दिलचस्प है कि, यह प्रभाव तुरंत प्रकट नहीं हुआ- लेकिन सांख्यिकीय रूप से 40 वर्ष की उम्र में महत्वपूर्ण हो गया और 45 वर्ष की उम्र के आसपास यह चरम पर था। संभवत:,  यह अनुसंधान इस तथ्य को दर्शाता है कि स्वास्थ्य समस्याएं वयस्क जीवन की शुरुआत के बजाय मध्य जीवन में शुरू होती हैं।

 

जो लोग अपने जीवन की व्याख्या निराशावादी तरीके से करते हैं, उनमें आशावादी लोगों के मुकाबले स्वास्थ्य समस्याएं ज्यादा क्यों पैदा होती हैं? इसके कई स्पष्टीकरण संभव हैं। यह हो सकता है कि निराशावादी अधिक भाग्यवादी होते हैं - जिनमें आहार, व्यायाम और पर्याप्त नींद के माध्यम से अच्छे स्वास्थ्य की रक्षा के लिए काम करने की कम संभावना है, और अस्वास्थ्यकर व्यवहारों, जैसे धूम्रपान और जंक फूड का इस्तेमाल करने की ज्यादा संभावना है। इसके साथ ही, निराशावादी लोगों में, कष्टप्रद दर्द या रोग के लिए चिकित्सक को दिखाने की संभावना कम हो सकती है, क्योंकि उनमें अधिक निराशाजनक दृष्टिकोण होता है: चिकित्सकीय सहायता में देरी या इसे टालने से, वे अपनी स्वास्थ्य संबंधी कठिनाई को बढ़ा सकते हैं।

वैज्ञानिक अनुसंधान से पता चलता है कि हमारी व्याख्यात्मक शैली का प्रभाव काम की उपलब्धि और यहां तक कि प्रारंभिक विद्यालय कौशल पर भी पड़ता है। उदाहरण के लिए, यूनिवर्सिटी ऑफ लन्दन के डॉ. फिलिप कोर और जेफ्री ग्रे ने पाया कि एक आशावादी स्पष्टीकरण शैली ने ब्रिटिश इंश्योरेंस कंपनी के विक्रेताओं में धन संबंधी बिक्री और उनके प्रदर्शन की रेटिंग दोनों कार्यों की सफलता सुनिश्चित कर दी थी। बाद में एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के डॉ. ब्लैक ऐशफोर्थ के नेतृत्व में किये गए एक अध्ययन में, फार्मास्युटिकल कंपनी के प्रबंधकों के बीच सफल कार्य समायोजन उनकी व्याख्यात्मक शैली से जुड़ा था। और शैक्षिक क्षेत्र में, ऑस्ट्रेलिया के फ्लिंडर्स विश्वविद्यालय की डॉ. शर्ली येट्स ने पाया कि आशावादी प्राथमिक और निम्न माध्यमिक कक्षाओं के छात्रों की गणित की उपलब्धि उनके निराशावादी सहकर्मियों की तुलना में बेहतर थी। तो ऐसा लगता है कि शैली का प्रभाव हमारे जीवन में शुरुआत से ही होता है! 

समकालीन शोधकर्ताओं की नजर में व्याख्यात्मक शैली में तीन विशिष्ट विशेषताएं शामिल हैं। ये संबंधित हैं (1) स्थायित्व : वह यह कि, क्या आप मानते हैं कि संकटग्रस्त स्थिति हमेशा मौजूद रहती है या केवल अस्थायी होगी? उदाहरण के लिए, नौकरी से हटाए जाने या तलाक पाने वाले एक व्यक्ति, निश्चित रूप से यह महसूस कर सकता है कि तनाव कभी खत्म नहीं होगा, जबकि उसका दोस्त वैसी ही स्थिति को थोड़े समय के लिए देख सकता है। (2) व्यापकता: वह यह कि, क्या आप अप्रिय स्थिति को प्रकृति में चारों ओर मौजूद या विशिष्ट रूप से देखते हैं? कॉलेज का एक छात्र, जो एक पसंद के विषय को पाने में विफल रहता है, वह पूरी तरह हार मान सकता है। क्या आप अपनी व्याख्यात्मक शैली को बदलना सीख सकते हैं? जैसा कि हमने देखा है, मनोवैज्ञानिक मानते हैं कि सबसे खराब नजरिया एक दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति को हमेशा-स्थायी, सर्वव्यापी और अपनी अक्षमता से पैदा होने वाली स्थिति के रूप में देखना है। इसलिए जितना अधिक आप इस तरह की सोच को कम कर पाएंगे, उतना ही आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के बेहतर होने की संभावना है। विशेष रूप से, आप इसे कैसे कर सकते हैं?

यहां एक उपयोगी टिप है: एक पिछले अनुभव को याद करें जो आपके लिए बुरा था- शायद एक छुट्टी, एक कॉलेज कोर्स या नौकरी, एक दोस्ती या रोमांटिक अलगाव- और जिसके लिए आपने अक्सर खुद को दोषी ठहराया है। असफलता के वर्णन के बाद, अब होशोहवास में अपनी खुद से बात करने की आदत को बदल दें। सबसे पहले, पुष्टि करें कि वह घटना हुई और खत्म हो गई है; यह अब यह मौजूद नहीं है। दूसरा, यह मानना है कि यह केवल आपके जीवन के छोटे से हिस्से तक सीमित रही। आखिर में, यह निर्धारित करें कि किसी व्यक्ति  या परिस्थिति जो खुद भी इसके लिए जिम्मेदार थी, उसकी पहचान करने में 100% आपकी गलती नहीं थी। जबकि दूसरा निर्धारण यह हो सकता है कि एक बार फिर से मूल्यांकन करें कि अन्य शैक्षणिक विशिष्टता में बदलाव किया जाए या नहीं।

(3) निजीकरण: वह यह कि, किसी बुरी घटना के लिए क्या आप पूरी तरह से खुद को दोषी ठहराते हैं, या इसके बदले में दूसरों पर आरोप मढ़ते हैं? आपको इस बात पर संदेह हो सकता है कि, जब भी कुछ गलत हो जाता है, तो खुद की निंदा में लगे रहना मनोवैज्ञानिक रूप से स्वास्थ्यकर नहीं होता है। जैसा कि मूर्तिकार ऑगस्टे रॉडिन ने अपने प्रतिभाशाली छात्र माल्विना हॉफमैन (इस स्तंभकार के साथ कोई संबंध नहीं) को सिखाते वक्त गौर किया, "कुछ भी समय की बर्बादी नहीं है यदि आप अनुभव का समझदारी से उपयोग करते हैं।" अब इसे छोड़िए,  इसके परिणामस्वरूप संभवत: आप बेहतर महसूस करेंगे।

डॉ. एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के येशिवा विश्वविद्यालय में सहयोगी मनोविज्ञान के सहायक प्रोफेसर हैं। निजी प्रैक्टिस में एक लाइसेंस प्राप्त नैदानिक मनोवैज्ञानिक,वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में25से अधिक पुस्तकों के लेखक/संपादक हैं। साथ डॉ. हॉफमैन,हाल ही में पॉजीटिव साइकोलॉजी के डॉ. विलियम कॉम्प्टन के साथ लिखी गई किताब : द साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग के सह-लेखक हैं: और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजीटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमैनिस्टिक साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्डों में कार्य करते हैं। आप उन्हें columns@whiteswanfoundation.org पर लिख सकते हैं।