डॉ एडवर्ड हॉफमैन

सकारात्मक जीवन

संचेतना - डॉ एडवर्ड हॉफमैन

"दुनिया कई ऐसी प्रकट चीजों से भरी पड़ी है, जिन्हें कभी भी किसी ने नहीं देखा है," आर्थर कॉनन डॉयल ने अपनी सबसे प्रसिद्ध साहित्यिक रचना शेरलॉक होम्स के माध्यम से यह घोषणा की थी।  बेशक, विक्टोरियन इंग्लैंड के महानतम अपराध जासूस के रूप में शेरलॉक अपने परिप्रेक्ष्य से बहुत ही गंभीर टिप्पणी कर रहा था। फिर भी, ये शब्द आज के दौर में मनोवैज्ञानिक कल्याण के एक महत्वपूर्ण पहलू के रूप में संचेतना की ओर बढ़ते रुझान को देखते हुए बेहद प्रासंगिक हैं। वास्तव में, संचेतना, कार्य उत्पादकता, रोमांस और दोस्ती बढ़ाने और यहां तक कि शारीरिक स्वास्थ्य बेहतर करने के लिए भी प्रासंगिक साबित हो रही है।

हमारी कहानी 1970 के शुरुआती दशक से शुरू होती है, जब हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में कार्डियोलॉजिस्ट हरबर्ट बेन्सन ने स्वास्थ्य सेवा में ध्यान के मूल्य की स्थापना के लिए अनुसंधान की शुरुआत की। इस विषय पर उनका पहला लेख साइंटिफिक अमेरिकन  और अमेरिकन जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में प्रकाशित हुआ। अतींद्रिय ध्यान (बीटल्स और भारत में उनके गुरु द्वारा लोकप्रिय) के अनुभव में शामिल किए प्रतिभागियों में बेन्सन ने पाया कि, इस अभ्यास में हृदय की धड़कन कम होने, रक्तचाप एवं तनाव में कमी के साथ ही स्वास्थ्य लाभ के कई फायदे सामने आए। उन्होंने इस ध्यान प्रभाव को "विश्राम प्रतिक्रिया" कहा- और 1975 में इसी शीर्षक पर सर्वाधिक बिक्री होने वाली एक किताब लिखी।

हालांकि बेन्सन ने ध्यान के वैज्ञानिक अध्ययन की नींव जरूर रखी, लेकिन अपने काम में संचेतना पर ध्यान केंद्रित नहीं किया। जिन लोगों को उन्होंने प्रभावित किया उनमें से एक थे मनोवैज्ञानिक डॉ. जॉन कबाट-ज़िन, जो द्वितीय विश्व युद्ध काल में न्यूयॉर्क शहर में बड़े हुए थे। 1960 के दशक के अंत में कई युवा अमेरिकियों की तरह, उन्होंने पूर्वी दर्शन और अभ्यास - विशेषकर बौद्ध धर्म में मजबूत दिलचस्पी दिखाई। बाद में, मैसाचुसेट्स मेडिकल स्कूल में मांसपेशियों के विकास और शिक्षण के बारे में पोस्ट-डॉक्टोरल रिसर्च का आयोजन करते हुए, उन्होंने मरीजों के लाभ के लिए ध्यान का प्रशिक्षण देने का फैसला किया, शुरू में चिरकालिक दर्द से पीड़ित लोगों को। कबाट-ज़िन ने एक साक्षात्कार में बताया कि, "इस पूरे विचार में यह देखना था कि क्या हम सचेतन हठ योग सहित- [उन्हें] सीखने, बढ़ते रहने, उपचार लेने और परिवर्तन के लिए स्वयं के आंतरिक संसाधनों को जुटाने के लिए ध्यान संबंधी इन विधियों का इस्तेमाल कर सकते हैं।... जब हमने आठ हफ्तों के इस कार्यक्रम के अंत में सवाल किया कि, 'आपने इस समय के दौरान सबसे महत्वपूर्ण बात क्या सीखी थी?' उन्होंने दो बातें बताईं: एक 'श्वास' (उनके श्वास के बारे में जागरूकता) और दूसरा , कि 'मैं अपने विचार नहीं हूं।'

1979 में शुरू किया गया मूलभूत कार्यक्रम- आज के दौर में माइंडफुलनेस-बेस्ड स्ट्रेस रिडक्शन (एमबीएसआर) के रूप में जाना जाता है, जो दुनिया भर में 700 से अधिक अस्पतालों में सचेतन व्यवहार का आधार है। 1990 के दशक की शुरुआत में, कबाट-ज़िन ने संचेतना एवं स्वास्थ्य पर अपनी पहली लोकप्रिय पुस्तक लिखी, इसके बाद इस विशेषता की प्रासंगिकता पर रोजमर्रा की खुशहाली एवं स्वास्थ्य पर काम किया। और अवसाद पर काबू पाने एवं प्रभावी पेरेंटिंग( बाद में अपनी पत्नी के साथ सह-लेखक) जैसे विषयों पर साथ मिलकर काम किया। इस पुस्तक पर एक संवाददाता के साथ हुई बातचीत के दौरान कबाट-ज़िन ने कहा, "सभी आध्यात्मिक [रास्तों] में से, चाहे मठ कितना गंभीर हो और इसकी साधनाएं कितनी ही दुष्कर हों, बच्चों के साथ रहना शायद सबसे शक्तिशाली आध्यात्मिक साधना है, जिसमें कोई भी, किसी भी समय शामिल हो सकता है, यदि आप खुद को इसके लिए आगे बढ़ाते हैं।"

कबाट-ज़िन के विचार में, संचेतना का अर्थ है अपने विचारों, भौतिक संवेदनाओं और परिवेश के बारे में जागरूक होना, ताकि हम पूरी तरह वर्तमान में उपस्थित रहें- चाहे हम रात के खाने की तैयारी कर रहे हों, कार चला रहे हों, एक पार्क में टहल रहे हों, या अपने बच्चों के साथ खेल रहे हों। यह दुनिया भर की विविध आध्यात्मिक परंपराओं में ध्यान की मुख्य अवधारणा है। हालांकि यह जानना महत्वपूर्ण है कि काबट-ज़िन ने धार्मिक रीति-रिवाजों एवं आस्थाओं को संचेतना प्रशिक्षण से दूर ही रखा। इसी तरह ईटिंग बिहैवियर्स, नेचर एंड साइंस ऑफ स्लीप, इंटरनेशनल जर्नल ऑफ साईकोफिजियोलॉजी एवं क्वालिटेटिव हेल्थ रिसर्च जैसी वैज्ञानिक पत्रिकाओं ने विभिन्न बीमारियों के लिए संचेतना की प्रभावशीलता पर लेख प्रकाशित किए हैं। इनमें चिंता, चिरकालिक दर्द, पाचन विकार, उच्च रक्तचाप, अनिद्रा, और विभिन्न प्रकार के व्यसन शामिल हैं।

उदाहरण के लिए, कनाडा में ग्रांट मैकएवान कॉलेज में डॉ एंड्रयू हॉवेल के नेतृत्व में एक टीम ने पाया कि संचेतना, युवा वयस्कों में बेहतर नींद और सुबह की गतिविधि की प्राथमिकता से जुड़ी हुई थी। इमोशन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, आठ सप्ताह के मनोविज्ञान प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में भाग लेने वाले सैन्य कर्मियों ने एक नियंत्रण दल की तुलना में बेहतर स्मृति कौशल और कम नकारात्मक भावनाओं को दिखाया। इस बीच, शोधकर्ता सक्रिय रूप से उजागर करने की कोशिश में लगे हैं कि संचेतना वास्तव में न्यूरोलॉजिकल स्तर पर कैसे काम करती है।

हमारी दैनिक भलाई बढ़ाने के साथ ही कुछ विशिष्ट स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करने में लागू होने वाली धारणाओं में मूल रूप से एक समानता है: हम जितना ज्यादा वर्तमान में जीने में सक्षम हैं- और भूत या भविष्य के बारे में कम से कम सोचते हैं, उतना ही ज्यादा स्वस्थ बन जाते हैं। श्वास पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक साथ विचारों को बिना किसी बाधा के दूर करने जैसे तरीकों का उद्देश्य, लक्ष्य को प्राप्त करना है। इस प्रकार, संचेतना प्रशिक्षण के बारे में एक रिपोर्टर को बताते हुए, कबाट-ज़िन ने समझाया कि, " इसके लिए किसी जगह (मानसिक रूप से) नहीं जाना है। करने के लिए कुछ भी नहीं है। हम आपको सिर्फ बैठने के लिए कह रहे हैं और यह जानने के लिए कि आप बैठे हैं...[यह आसान नहीं है।] दिमाग का अपना जीवन है। यह यहाँ और वहां जाता है। "

एक अन्य प्रमुख मनोचिकित्सक जिन्होंने दशकों तक संचेतना पर अध्ययन किया, वह हैं हार्वर्ड विश्वविद्यालय के डॉ. एलेन लैंगर। 1970 के दशक की शुरुआत में, लैंगर जब इसका अध्ययन कर रहे थे कि अनजाने में भी लोग सूचनाओं को कैसे संग्रहित करते हैं, तब उनका रुझान संचेतना विषय की ओर हुआ। लैंगर ने एक साक्षात्कार में याद दिलाया कि " इस क्षेत्र के विशेषज्ञ, लोगों के अलग-अलग तरीकों से सोचने के बारे में चर्चा कर रहे थे" "और मैंने सवाल किया कि कहां और कौनसे अवसरों पर हम निर्विचार हो सकते हैं।" बाद में लैंगर ने खुद के शोध विचारहीनता के लिए प्रभावशाली दृष्टिकोण के जरिए इस बात को सिद्ध किया –जिसमें वह बताती हैं- " इसमें मूर्खता जैसी कोई बात नहीं है...आपके अतीत में बनाई गई श्रेणियों एवं भेदभाव पर भरोसा करते हुए आप स्वचालित पायलट मोड में हैं...अत: अतीत में ही हाल के दिनों का निर्धारण हो रहा है। आप एक ही परिप्रेक्ष्य में फंस गए हैं। "

विभिन्न अध्ययनों के माध्यम से, लैंगर और उनके सहयोगियों ने पाया कि ज्ञान संबंधी सर्वोत्तम कार्यशीलता संचेतना पर निर्भर करती है- अर्थात, खुद को एकल-विचार या रूढ़ीवादी सोच से मुक्त  करना। संचेतना को वे वास्तव में विशेष विश्राम या श्वास लेने की तकनीक के बजाय जीवन के प्रति एक दृष्टिकोण के रूप में देखते हैं-और हमारे चारों ओर क्या हो रहा है, इस बारे में क्षण-प्रति-क्षण जागरूकता बढ़ाने के तरीके, हमारी वर्तमान अंत:क्रिया पर ध्यान केंद्रित करने की तुलना में कम महत्वपूर्ण हैं, बजाय इसके कि हम परिवार के सदस्यों, दोस्तों, सहकर्मियों और अन्य के साथ अतीत के संबंधों पर चिपके रहें। 

लैंगर की नजर में, हम सभी अक्सर दूसरों को उस नजर से नहीं देखते हैं, जैसे कि वे वर्तमान में हमारे जीवन में हैं, लेकिन हम उन्हें उस ही नजर से देखते हैं, जैसे अतीत में किसी समय वह थे। अपने कई सार्वजनिक व्याख्यानों में से एक में लैंगर ने कहा कि "वस्तुतः हम में से हर कोई, लगभग हर वक्त, एक जैसा नहीं रहता। (और यह मायने रखता है) क्योंकि हमारी व्यक्तिगत, पारस्परिक, सामाजिक पीड़ा- प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप अवचेत मन की एक क्रिया है।"

लैंगर के नेतृत्व में शोध के अनुसार,  दैनिक जीवन में संचेतना में चार अलग-अलग पहलू शामिल हैं: नवीनता की खोज,  नवीनता का उत्पादन, लचीलापन  और वचनबद्धता। इसी प्रकार,  हार्वर्ड विश्वविद्यालय में डॉ. लेस्ली बर्पी के नेतृत्व में किए गए एक अध्ययन में,  पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए वैवाहिक संतुष्टि उल्लेखनीय रूप से संचेतना से जुड़ी हुई थी- और आपसी खुशी के लिए किसी अन्य माध्यम की तुलना में यह विशेषता अधिक महत्वपूर्ण थी,  यहां तक कि पति-पत्नी के व्यक्तित्वों में समानता से भी ज्यादा। दूसरे शब्दों में, जो लोग मानसिक रूप से जुड़े हुए थे,  नए अनुभवों के लिए तैयार थे, और नई परिस्थितियों के बारे में जागरूक थे, उन्होंने अधिक प्रसन्नतादायक एवं संतोषप्रद सम्बन्धों का आनंद लिया। जब रोमांस की बात आती है, तो ऐसा लगता है कि हमें कभी भी ऑटो पायलट का विकल्प नहीं रखना चाहिए।

यद्यपि लैंगर ने अपनी पद्धति में उसी संचेतना शब्द का प्रयोग किया है,  जैसा डॉ. जॉन कबाट-ज़िन ने किया, जिनके खुद के दृष्टिकोण बहुतायत में बौद्ध धर्म से लिए हुए हैं- उन्होंने शुरू से ही तर्क दिया है कि, "संचेतना की दृष्टि से मेरा काम पूरी तरह से पश्चिमी वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में संचालित है । प्रारंभ में,  मेरा ध्यान विचारहीनता और रोज़मर्रा की जिंदगी में इसकी व्यापकता पर था...[फिर भी], संचेतना को लेकर पूर्व की अवधारणाओं और [मेरे काम] के कई गुण बहुत ही समान हैं।"

निर्देशित गतिविधि

सचेतन होना कुछ ऐसा नहीं है जिसे आप रातोंरात पूरा कर सकते हैं। जेस्टाल्ट थेरेपी के दो काफी आसान उत्कृष्ट तरीके हैं। पहले तरीके में, प्रतिदिन एक निश्चित समय के लिए टाइमर सेट करें- मान लीजिए 10 मिनट -और फिर चुपचाप बैठकर अपनी आँखें बंद कर पूरी तरह अपने शरीर पर अपना ध्यान केंद्रित करें, विचारों सहित हर चीज को अनसुना कर दें। दूसरी विधि के लिए,  इसी तरह प्रक्रिया का पालन करें,  लेकिन इसमें ध्यान पूरी तरह से अपने बाहरी वातावरण पर लगाएं- जैसे आवाज या गंध। दोनों गतिविधियों के लिए,  जैसे-जैसे आपका कौशल बढ़ता है तो आप अपने आवंटित समय में वृद्धि कर सकते हैं। कुछ हफ्तों के भीतर,  आप में कल्याण की भावना के लाभ पूरी तरह से स्पष्ट होने लगेंगे।

डॉ. एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर की येशिवा यूनिवर्सिटी में मनोविज्ञान के सहयोगी सहायक प्रोफेसर हैं। निजी प्रैक्टिस में एक लाइसेंस प्राप्त नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक, उन्होंने मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में25से ज्यादा पुस्तकों का लेखन/संपादन किया है। डॉ. हॉफमैन, हाल ही में डॉ. विल्यम कॉम्प्टन के साथ पॉजीटिव साइकोलॉजीः द साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग के सह-लेखक हैं, और द इंडियन जर्नल ऑफ पॉजीटिव साइकोलॉजी एवं द जर्नल ऑफ ह्यूमैनिस्टिक साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्डों में कार्य करते हैं। आप उन्हेंcolumns@whiteswanfoundation.org  पर लिख सकते हैं।