We use cookies to help you find the right information on mental health on our website. If you continue to use this site, you consent to our use of cookies.
डॉ एडवर्ड हॉफमैन

सकारात्मक जीवन

आपकी हास्य शैली क्या है? - डॉ एडवर्ड हॉफमैन

क्या आप हाल ही में खुल के हँसे हैं? क्या इस सप्ताह आपके साथ कुछ मजाकिया हुआ है? किस प्रकार के चुटकुले आपको सबसे अधिक हँसाते हैं? इस तरह के प्रश्न वैज्ञानिक अनुसंधान का ध्यान केंद्रित कर रहे हैं - क्योंकि साक्ष्य अब यह बता रहें है कि हमारे मजाक करने की आदत सीधे हमारी कुशलता को प्रभावित करती है।

गंभीर शक्ल वाले मानसिक स्वास्थ्य चिकित्सकों के लोकप्रिय रूढ़िवाद के बावजूद, मनोवैज्ञानिकों ने इस विषय में एक शताब्दी से अधिक समय तक रुचि रखी है। सिगमंड फ्राईड की 1905 की उत्कृष्ट किताब विट एंड इट्स रिलेशन टू द अनकोंशियस एक ऐतिहासिक उपलब्धि थी। फ्राईड के इस प्रभावशाली सूत्रीकरण में लोग अक्सर भावनाओं को अप्रत्यक्ष तरीके से व्यक्त करने के लिए हास्य का उपयोग करते हैं जिसे अन्यथा उनका अचेत दिमाग रोक देता है। एक अच्छा उदाहरण है कटाक्ष - जिसे फ्राईड ने सही मायने में छिपी हुई शत्रुता के रूप में देखा है। उनके विचार में चुटकुले हमारी दबी हुयी भावनाओं (जैसे कि असंतोष या ईर्ष्या) को उभारता है और बाहर लाता है - जिससे हम आंतरिक तनाव से खुद को मुक्त कर पाते है। हम सब शायद ऐसे लोगों को जानते हैं जो अपनी शिकायतों को खुलकर बताने के बजाए दूसरों को छोटा दिखाने के लिए कटाक्ष का उपयोग करते हैं।

यह अच्छी तरह से ज्ञात है कि फ्राईड को मजाक करने की आदत थी, हालांकि उनका हास्य संवेदनपूर्ण या नम्र होने के बजाय व्यंग्यात्मक होता था। भौतिक प्रतीक जैसे गिरजाघर का घंटाघर या मीनार, जो की रोजमर्रा की जिंदगी का एक आम हिस्सा होते हैं, इन के बारे में फ्राईड ने विस्तृत रूप से लिखा है। एक बार उन्हें अपनी सिगार धूम्रपान को प्राथमिकता देने के कारण लोगों का सामना करना पड़ा था। जैसा की बाद में एक सहयोगी ने बताया, फ्राईड की प्रसिद्ध कूफ थी: "कभी-कभी सिगार सिर्फ एक सिगार होता है।"

फ्राईड के दीर्घकालिक सहयोगी ऑस्ट्रियाई चिकित्सक अल्फ्रेड एडलर थे जिन्हे अक्सर व्यक्तिगत मनोविज्ञान का निर्माता भी कहा जाता है। इस क्षेत्र के अनुयायियों की मात्रा बढ़ती जा रही है, खास कर एशिया में। ऐसा शायद इसलिए है क्योंकि एडलर ने सामंजस्यपूर्ण जीवन के लिए अत्यधिक व्यक्तित्व के बजाय सामाजिक जुड़ाव और दोस्ती को केंद्र माना है। एडलर ने मनोवैज्ञानिक कल्याण के लिए हास्य के महत्व पर जोर दिया - और चेतावनी दी कि खुद को ज्यादा गंभीरता से लेना कभी फायदेमंद नहीं होता है। "मैं इनकार नहीं कर सकता कि मैं अपने मरीजों को चिढ़ाता हूँ," एडलर ने एक बार ट्रेनिंग सेमिनार में डॉक्टरों के एक समूह से बात करते हुए कहा, "लेकिन मैं एक दोस्ताना तरीके से ऐसा करता हूँ और मैं हमेशा एक मजाक के माध्यम से ये दिखाना पसंद करता हूँ की वाकई में क्या हो रहा है (नैदानिक मामलों में)। चुटकुलों का एक अच्छा संग्रह होना सार्थक होता है। कभी-कभी एक मजाक रोगी को यह दिखा पाता है कि उसका न्यूरोसिस कितना हास्यास्पद है। "

एडलर के अंतर्दृष्टिपूर्ण नज़रिये में, हमारा अहंकार आम तौर पर व्यक्तिगत परिवर्तन का विरोध करने के लिए आंतरिक दीवारों को खड़ा कर देता है - खासकर अगर हमें यह लगता है कि हमारी आलोचना की जा रही है। हालांकि, एक मजाक हमारे सतर्क अहंकार के सामने से गुजर सकता है - और इससे कई प्रकार के व्यक्तिगत विकास उत्प्रेरित होते है। एडलर ने सिखाया कि मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों को हमेशा परामर्श स्थितियों में हास्य शामिल करना चाहिए क्योंकि इससे कुछ हद्द तक भावनात्मक दुःख से जुंझ रहे लोगों की परेशानी और निराशा की भावना को कम करने में मदद मिलती है। इस संबंध में उनका स्नेही और विनम्र तरीका अत्यधिक आश्वस्त था।

एडलर के प्रसिद्ध उपजीवियों में मानवतावादी मनोविज्ञान के सह-संस्थापक अब्राहम मस्लो भी शामिल थे जो व्यवसाय के प्रेरक सिद्धांत के "गुरु" के रूप में जाने जाते हैं। उन्होंने अत्यधिक सफल और रचनात्मक लोगों में हास्य के बारे में बड़े पैमाने पर लिखा - जिन्हें उनके अनुसार आत्म-वास्तविकता प्राप्त हो गयी थी। मास्लो ने पाया कि ऐसे लोग हास्य का खूब आंनद लेते थे - लेकिन सिर्फ कुछ विशेष प्रकार के हास्य। वे सभी जीवन के बेतुकापन की सराहना करते हैं और बड़ी आसानी से मजाक कर लेते हैं, और साथ ही अपनी कमजोरियां की खिल्ली उड़ाने की क्षमता रखते हैं। आत्म-वास्तविकता प्राप्त करने वाले लोग ऐसे मजाक न ही करते है और न ही अपनी इच्छा से सुनते जो बेइज़्ज़तीपूर्ण, दुर्भावनापूर्ण, या क्रूर हैं: ऐसे जो किसी और के दुर्भाग्य पर हँसते हैं।

आज सकारात्मक मनोविज्ञान हास्य पर काफी ध्यान दे रहा है। वैज्ञानिक अनुसंधान के एक बढ़ते समूह से पता चलता है कि हंसने की क्षमता व्यक्तिगत कल्याण का एक महत्वपूर्ण पहलू है। इस क्षेत्र के मार्ग दर्शको में से एक है कनाडा के पश्चिमी ओन्टारियो विश्वविद्यालय के डॉ रॉड मार्टिन। पच्चीस वर्षों से डॉ मार्टिन और उनके सहयोगियों ने हास्य शैलियों का अध्ययन किया है (उनके उत्थान वाक्यांश में) और पर्याप्त सबूत इकट्ठा किए हैं कि दैनिक जिंदगी में हास्य की भिन्न भूमिकाओं से लोगों पर भिन्न असर हुआ है। मार्टिन के अनुसार हास्य के चार अलग-अलग प्रकार होते है:

1। संबंधक: इसमें हास्य को एक प्रभावी "सामाजिक स्नेहक" के रूप में माना गया है, जो पार्टियों और अन्य अंतर-व्यक्तिगत सभाओं को और बेहतर बनाता है;

2। स्व-वृद्धि: जिससे तनाव से प्रभावी ढंग से सामना करने में मदद मिलती है और जो अनुकूलनशीलता का एक रूप है;

3। आक्रामक: जिसमें व्यक्तिगत श्रेष्ठता या हकदारता की भावना बनाए रखने के लिए कटाक्ष और दूसरे शत्रुतापूर्ण शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है।

4। आत्म-पराजय: इसमें खुद को छोटा दिखाया जाता है, और यही दशकों से अनगिनत कॉमेड्यन की तलवार है।

जैसा कि आपको संदेह हो सकता है, पहले दो प्रकार की हास्य शैली अच्छे मानसिक स्वास्थ्य और सामाजिक समायोजन से जुड़े हुए हैं। इसी के विपरीत, बाकि दो प्रकार क्षीण हुए भावनात्मक कार्यकलाप जैसे अत्यधिक क्रोध, अयोग्यता की भावना, सामाजिक परिहार, और अवसाद से जुड़े होते हैं। इस बात का भी सबूत है कि हास्य शैली का रोमांस से जुड़े सुख पर असर पड़ता है। उदाहरण के लिए, रोमांटिक सम्बन्ध वाले जोड़ों के बीच संघर्ष समाधान के एक अवलोकन अध्ययन में वेस्टर्न ओन्टारियो विश्वविद्यालय के डॉ लोर्न कैंपबेल और उनके सहयोगियों ने पाया कि एक दूसरे के साथ संघर्ष का सामना करते समय संबंधक हास्य की वृद्धि और आक्रामक हास्य की कमी से जोड़ों के निकटता में वृद्धि होती है।

क्या आप अपनी हास्य शैली की आदत को एक ऐसी शैली में बदल सकते हैं जो ज्यादा स्वस्थ और परीपूर्ण हो? हालाँकि इस प्रश्न पर ज्यादा शोध नहीं हुआ है, लेकिन इसका जवाब हाँ ही नज़र आता है। एक विधि जिसकी मैं अनुशंसा करता हूँ वह है किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सोचें जो मुश्किल परिस्थितियों में भी हास्य को देखने की क्षमता रखता है। फिर उस घटना का वर्णन करें जिसमें इस व्यक्ति ने यह क्षमता दिखायी है। इसके बाद अपने बारे में सोचें: क्या आप ज़रा भी इस व्यक्ति की तरह हैं ? यदि ऐसा है तो एक ऐसे तनावपूर्ण घटना का वर्णन करें जिसमें आपने प्रभावी रूप से कुछ हास्य देखा: आपका मजाक या मसखरा क्या था?

पार सांस्कृतिक रूढ़िवादों के बारे में अगर बात करे- जैसे कि जर्मन बेमज़ा हैं या अंग्रेज़ो की हास्य की शैली सूखी है? यह फिल्म बनाने वाले अधिकारियों के बीच अच्छी तरह से जाना जाता है कि एक्शन-थ्रिलर्स या रोमांस की तुलना में कॉमेडी को राष्ट्रीय सीमाओं के परे सफलतापूर्वक प्रचलित करना ज्यादा मुश्किल होता है, क्योंकि हास्य सांस्कृतिक संदर्भ पर निर्भर करता है, जिसमें परंपरागत अमान्य बातें और मूल्यवान मान्यताएँ भी शामिल हैं।

किसी भी घटना में, हास्य आज स्पष्ट रूप से कोई हंसी की बात नहीं है।

विश्वव्यापी औषधीय उद्योग इस बात को निश्चित रूप से दबाएगी लेकिन वो दिन जल्द ही आ सकता है जब आपका डॉक्टर आपको सलाह देगा, "सोने से पहले दो बार पेट भर के हँसे और मुझे सुबह कॉल करें।"

डॉ एडवर्ड हॉफमैन न्यूयॉर्क शहर के यशेश विश्वविद्यालय में एक सहायक सहयोगी मनोविज्ञान प्रोफेसर हैं। निजी अभ्यास में लाइसेंस प्राप्त नैदानिक ​​मनोवैज्ञानिक होने क़े साथ,वह मनोविज्ञान और संबंधित क्षेत्रों में25से अधिक किताबों के लेखक / संपादक रह चुके हैं। डॉ हॉफमैन और डॉ विलियम कॉम्प्टन "पॉजिटिव साइकोलॉजी: द साइंस ऑफ हैप्पीनेस एंड फ्लोरिशिंग" क़े सह-लेखक हैं,और इंडियन जर्नल ऑफ पॉजिटिव साइकोलॉजी और जर्नल ऑफ ह्यूमनिस्ट साइकोलॉजी के संपादकीय बोर्ड क़े सदस्य हैं। आप उन्हेंcolumn@whiteswanfoundationorgपर लिख सकते हैं।