कार्यस्थल में धौंस के संकेत और इसका मुकाबला कैसे करें
कार्यक्षेत्र

कार्यस्थल में धौंस के संकेत और इसका मुकाबला कैसे करें

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

मेरी बॉस मुझे बहुत ही नीचा दिखाने वाले ईमेल भेजती थी, वह अपना काम मुझ पर थोप देती और मैं जो काम करती उसका श्रेय खुद ले लेती। वह बिना किसी कारण मुझ पर चिल्लाती और अपना गुस्सा मुझ पर निकालती। मेरे लिए वह बहुत बुरे दिन थे। मैं नाराज थी। दिनभर काम के बाद जब मैं घर पहुंच जाती, तो भी मुझे काम करने के लिए कहा जाता था। जल्द ही मेरी हालत ऐसी हो गई कि करने का मन नहीं कर रहा था। मैं गुस्से में थी, भ्रमित थी और उसके साथ बातचीत करने से भी बचने की कोशिश करती थी। आमतौर पर मैं शांत रहती थी, इसलिए वह मेरा मजाक भी बनाया करती थी। ”

- जैसा कि एक युवा मीडिया पेशेवर निकिता ने बताया

स्टोरी तैयार करने के लिए मैं वास्तव में कड़ी मेहनत करता था। मेरा बॉस मेरी स्टोरी लेकर अपने नाम कर लेता था। कार्यस्थल पर कोई भी ऐसा नहीं था जिस पर मैं भरोसा कर सकूं। यह मेरा पहला जॉब था और मेरा बॉस मुझ पर लगातार चिल्लाता रहता था कि..उन्होंने तुम्हें कुछ नहीं सिखाया क्या? ’जो कुछ भी मैं कहता या करता था, उस पर ताने मारे जाते थे। जब भी मैंने कोई अच्छी स्टोरी लिखी, तो मुझे धमकाया गया, आगे नहीं बढ़ने दिया गया, और भावनात्मक रूप से दुर्व्यवहार किया गया। मुझे हर छोटी-बड़ी चीज के लिए उसकी इजाजत लेनी पड़ती थी। यह सब मुझ पर इस हद तक किया गया कि मुझे जॉब छोड़ना पड़ा। इसने मेरे आत्मसम्मान को ठेस पहुंचाई और मैंने खुद से पूछा, क्या मैं वास्तव में बेवकूफ हूं?"

- जैसा कि एक युवा समाचार रिपोर्टर ने बताया (अनुरोध पर नाम नहीं दिया गया)

कार्यस्थल पर धौंस का शिकार बनना किसी व्यक्ति के आत्मसम्मान के लिए बहुत बड़ा झटका हो सकता है। कार्यस्थल वह जगह है जहां हम अपने दिन का एक बड़ा हिस्सा खर्च करते हैं; यह वह जगह है जहां हम अपनी बहुत सी ऊर्जा और विचार व्यय करते हैं। ऐसी जगह पर बुरा व्यवहार किया जाना व्यक्ति के लिए कार्यालय के वातावरण में एक गंभीर बदलाव का कारण बनता है, इससे उनके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ता है। इसे खत्म करने के लिए महत्वपूर्ण है कि हम इस तरह के व्यवहार के प्रति सतर्क रहें।

कार्यस्थल पर धौंस के प्रकरण कई अलग-अलग तरीकों से दिखाई दे सकते हैं। कुछ प्रमुख संकेतों की पहचान के लिए नीचे दी गई सूची पढ़ें।

कार्यस्थल पर धौंसियाने के कुछ संकेत हैं:

  • काम पर आपको अपमानित किया जाता है, और आपकी आलोचना की जाती है।

  • आपको बताया जाता है कि जो कुछ भी काम आप करते हैं वह कभी भी अच्छा नहीं होता।

  • आपको नाकारा साबित किया जाता है, और कभी-कभी किसी ऐसे व्यक्ति द्वारा जिसे आप या आपकी भूमिका के बारे में कुछ नहीं पता है।

  • आपके काम में लगातार दखल दिया जाता है।

  • दूसरों से कहा जाता है कि वे आपसे दूर रहें, आपके साथ बातचीत न करें या आपके साथ काम न करें।

  • हर चीज धौंस जमाने वाले के मूड पर आधारित होती है। यह संगठन के हित के बजाय निजी स्वार्थ के लिए होता है।

  • आप हमेशा चिंतित रहते हैं, जैसे कुछ भी सही नहीं हो रहा।

  • आप एचआर या सहकर्मियों के सहारे के बिना काम पर खुद को अकेला महसूस करते हैं।

  • दूसरों को आपसे कुछ भी कहने या करने की अनुमति है, लेकिन आपको अपने लिए लड़ने या खड़े होने की अनुमति नहीं है।

  • जब आप अपनी सुरक्षा के लिए खड़े होते हैं और बोलते हैं, तो आप पर उस धौंस जमाने वाले व्यक्ति को परेशान करने का आरोप लगाया जाता है।

  • आपकी किसी भी बात जैसे कोई अलग काम दिए जाने, कहीं और ट्रांसफर करने, या किसी अन्य बॉस को सीधे रिपोर्ट करने की मांग पर ध्यान नहीं दिया जाता है।

  • आपका बॉस आपको किसी भी चीज़ का श्रेय नहीं देता है, इसके विपरीत आपके द्वारा किए गए हर काम का श्रेय वह खुद ले लेता है।

  • धौंस जमाने वाला व्यक्ति आपसे अपने व्यक्तिगत कार्य, या व्यक्तिगत संतुष्टि के लिए कार्य करने की उम्मीद रखता है, और यदि आप उन्हें नहीं करते हैं या मना करते हैं तो वह आपके करियर के लिए नकारात्मक परिणामों का उल्लेख कर आपको धमकाता है।

कार्यस्थल पर होने वाले इस तरह उत्पीड़न का मुकाबला करने की दिशा में पहला कदम यह है कि धौंस के संकेत क्या हैं इस बारे में अच्छी तरह से जानकारी रखी जाए। इसके बाद, यह आवश्यक है कि आप इसका मुकाबला करने के लिए कुछ कदम उठाएँ। याद रखें कि शुरुआती संकेतों को नहीं पहचान पाने में कुछ भी गलत नहीं है; यह आपकी गलती नहीं है। आपके लिए महत्वपूर्ण बात यह है कि अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें और यदि आवश्यक हो तो जवाबी हमला करें।

कार्यस्थल पर धौंस के सामान्य उदाहरण

व्यक्तिगत काम कराना या संदेशवाहक की तरह काम लेना, या व्यक्तिगत उपहार मांगना और एहसान जताना। उदाहरण के लिए, "मेरे पिता जब जयपुर जा रहे थे तो उनके बॉस ने अपनी पत्नी के लिए उनसे एक आभूषण खरीदकर लाने को कहा, और फिर उसका पैसा उन्हें कभी नहीं दिया!"

किसी महत्वपूर्ण या प्रतिष्ठित काम के लिए किसी को नजर अंदाज करना, भले ही वह व्यक्ति इसके लिए सबसे उपयुक्त हो।

किसी और के द्वारा किए गए योगदान या उपलब्धि का श्रेय खुद ले लेना। किसी की योजना और और ज्ञान संपदा की चोरी।

परिवार / समुदाय / धर्म / योग्यता को लेकर में या अपमानजनक व्यक्तिगत टिप्पणियां करना।

एक महिला सहकर्मी से ऐसी भूमिकाएं निभाने की अपेक्षा करना, जिन पर महिला कार्य का ठप्पा लगा हो, जैसे कि मेहमानों की सेवा करना, या कार्यस्थल पर आए मेहमानों की देखभाल करना।

क्या कार्यस्थल में धौंस का मुकाबला करना संभव है? और कैसे?

रीच क्लिनिक और वर्कप्लेस ऑप्शंस की काउंसलर मौलिका शर्मा कहती हैं, "कार्यस्थल पर घटने वाले धौंस के मामले उत्पादकता पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। यह किसी भी व्यक्ति की रचनात्मकता, उत्साह, प्रेरणा, काम करने की खुशी, आत्मसम्मान और आत्म-मूल्यों की हत्या कर सकता है।"

कार्यस्थल में धौंस का मुकाबला करने के लिए, वह बताती हैं, “अगर संगठन में ऐसी दादागिरी के लिए शून्य सहनशीलता (जीरो टोलरेंस) की नीति है, तो कई चीजें हैं जो एक कर्मचारी कर सकता है - जैसे कि औपचारिक शिकायत करना या स्किप मैनेजर (जो आपके बॉस की तुलना में एक या दो लेवल ऊपर है) को अनौपचारिक शिकायत करना, लेकिन संगठन अगर कर्मचारियों को इस तरह के व्यवहार को बोलने और रिपोर्ट करने की स्वतंत्रता नहीं देता है, तो एक कर्मचारी इस मामले में बहुत कुछ नहीं कर सकता है। यदि धौंस जमाने वाले बॉस का गठबंधन मैनेजर, सीईओ और एचआर के साथ गहरा है, तो कर्मचारी के पास नौकरी बदलने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचता है।"

ऐसे समय अपने स्वयं के स्वास्थ्य का खयाल रखना और इस दौरान आपको क्या चाहिए, इस पर ध्यान देना बहुत महत्वपूर्ण है।

 कार्यस्थल पर धौंस से निपटने के लिए सामान्य सुझाव

अपनी सीमाओं के प्रति सचेत रहें। दूसरों को (चाहे वे कोई भी हों) अपनी सीमाओं पर अतिक्रमण की अनुमति न दें।

यदि आप किसी विशेष स्थिति में असहज महसूस करते हैं, तो इसका उपयोग एक संकेतक के रूप में करें कि कुछ गलत है और यह समझने की कोशिश करें कि क्या हो रहा है।

तारीख, समय और डराए या धमकाए जाने वाली घटनाओं के विवरण के साथ पूरा ब्योरा लिखकर रखें। अगर औपचारिक शिकायत दर्ज कराने की जरूरत पड़ती है तो ये तथ्य घटनाओं को क्रम से पंजीकृत करने में आपके काम आयेंगी।

यदि संभव हो तो अपने स्किप मैनेजर (जो आपके बॉस की तुलना में एक या दो लेवल ऊपर है) को इस कड़ी में शामिल रखने की कोशिश करें।

उत्पीड़न को लेकर संगठन के रुख का पता लगाने की कोशिश करें। इस तरह आपको पता चल जाएगा कि आपके पास क्या विकल्प हैं। 

वर्कप्लेस ऑप्शन्स की निदेशक मौलिका शर्मा से मिले इनपुट्स के साथ।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org