मातृत्व

यदि आपको गर्भपात हुआ है तो अपने मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल कैसे करें

वाइट स्वान फ़ाउंडेशन

कुछ साल पहले, टाइम पत्रिका ने बताया कि 30 प्रतिशत गर्भधारण में गर्भपात हो जाता है। अन्य अनुमानों का कहना है कि संयुक्त राज्य अमेरिका में कम से कम चार महिलाओं में से एक किसी भी क्षण गर्भपात का अनुभव करेंगी। भारत में, 2400 महिलाओं पर किए गए एक अध्ययन से पता चला कि इनमें से 32 प्रतिशत महिलाएं गर्भपात के दौर से गुजरी हैं

गर्भपात को सार्वजनिक रूप से जिस तरह बताया जाता है यह उसकी तुलना में अधिक सामान्य बात है, और एक महिला जिसे गर्भपात होता है वह शारीरिक और भावनात्मक रूप से प्रभावित होती है। व्हाइट स्वान फाउंडेशन ने इसके भावनात्मक प्रभाव को समझने के लिए स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ शैब्श सल्दाना, डॉ अरुणा मुरलीधर, और मनोचिकित्सक डॉ अश्लेषा बागड़िया से बात की।

गर्भपात किसी महिला के जीवन में एक महत्वपूर्ण नुकसान हो सकता है

कई मायनों में, गर्भपात एक बच्चे को खोने के समान है। मां को तीव्र दुःख और उदासी महसूस हो सकती है, और उसे अपने नुकसान से उबरने के लिए कुछ समय चाहिए होता है। गर्भपात की वर्जना यह भी है कि अक्सर, मां के पास उसके दुःख या उसके दर्द को दूर करने के लिए बहुत कम जगह या अवसर होता है। यह उसके नुकसान के मामले में आने के लिए कठिन बना सकता है।

गर्भावस्था की अवधि जितनी ज्यादा होती है, नुकसान से निपटने में उतनी ही मुश्किल हो सकती है

जैसे-जैसे गर्भावस्था की अवधि बढ़ती है, मां कई स्कैनों से गुजरती है, वह उनमें बच्चे की छवि को 'देखती' है और बच्चे के साथ उसकी पहचान और एक कनेक्शन बन जाता है। यही कारण है कि दूसरी या तीसरी तिमाही में हुए गर्भपात का मां पर अधिक भावनात्मक प्रभाव हो सकता है।

ज्यादातर महिलाओं को लगता है कि उन्होंने कुछ गलत किया है, लेकिन यह सच नहीं है

एक महिला जिसका गर्भपात हुआ है, उसे अपराध और अफसोस का अनुभव हो सकता है, और यह महसूस करती है कि वह कुछ महत्वपूर्ण करने में विफल रही है। वह इस बारे में सोचने लग सकती है कि उसे ऐसा क्या नहीं करना चाहिये था और खुद को दोष देने लगती है। आम प्रचलित मिथक यह बताते हैं कि गर्भपात किसी गतिविधि, यात्रा, या उनके पपीता खाने से होता है। जब अनियोजित गर्भधारण में गर्भपात होता है, तो महिला सोच सकती है कि उसे गर्भपात इसलिए हुआ है क्योंकि वह बच्चा नहीं चाहती थी। हालांकि, शुरुआती दौर में होने वाला गर्भपात गुणसूत्रों की असामान्यताओं के कारण होता है।

कुछ गर्भपात विशेष रूप से स्वीकार करना मुश्किल होता है

जबकि कुछ गर्भपात रक्तस्राव, क्रैम्पिंग और पीठ के निचले हिस्से के साथ एक स्पष्ट तरीके से होते हैं, वहीं कुछ महिलाओं को स्पष्ट शारीरिक लक्षणों के बिना गर्भपात हो जाता है। यह महिला को स्वीकार करना कठिन बना सकता है- वह सबूत देखने के लिए अतिरिक्त स्कैन, या दिल की धड़कन की जांच करा सकती है।

शुरुआती गर्भपात का मतलब निजी दुःख हो सकता है

यदि गर्भपात पहली तिमाही के दौरान होता है, तो महिला ने यह खबर सिर्फ करीबी दोस्तों और परिवार को छोड़कर किसी अन्य के साथ साझा नहीं की हो सकती है। एक तरफ, इससे चीजें उसके लिए आसान बन  सकती हैं क्योंकि उसे हर किसी को 'बुरी खबर' बतानी नहीं है। दूसरी तरफ, यह उसे निजी तौर पर और अधिक दुखी कर सकता है, वह अपनी हानि के बारे में बात करने में असमर्थ महसूस कर सकती है और अगर वह चाहती तो इसका खुले तौर पर शोक मना सकती थी।

गर्भपात के बारे में कैसे बात की जाती है, यह माँ की मानसिक भलाई को प्रभावित कर सकती है

इस घटना पर परिवार कैसे प्रतिक्रिया करता है, इस बात का मां के मन पर असर पड़ सकता है। अगर परिवार गर्भपात के लिए मां को दोषी ठहराता है, या संकेत देता है कि उसने इससे छेड़छाड़ करने के लिए कुछ किया होगा, तो माँ के लिए ठीक होना मुश्किल है। महिला को जो कुछ हुआ, और वह इसके बारे में कैसा महसूस करती है, इसे बताने में एक प्रेमपूर्ण, सहायक वातावरण मददगार हो सकता है ।

गर्भपात से निपटने के लिए मैं क्या कर सकती हूं?

यदि आपको गर्भपात हुआ है, तो आपको अपने शारीरिक और भावनात्मक स्वास्थ्य का ख्याल रखना महत्वपूर्ण है। यहां कुछ चीजें हैं जो आप कर सकती हैं :

1. पर्याप्त आराम करें। आप एक नुकसान (और शायद एक चिकित्सा प्रक्रिया) के माध्यम से गुजरी हैं और जब आपको एक या दो सप्ताह आराम मिलता है तो आपका शरीर बेहतर हो जाएगा।

 2. अपनी पसंद को चुनें कि आप अपने नुकसान के बारे में किससे बात करना चाहती हैं। यदि आप किसी व्यक्ति से वार्तालाप शुरू करने के साथ इस पर चर्चा करने में सहज नहीं है, तो आप स्पष्ट रूप से और सहजता से उन्हें बता सकती हैं कि आप इस विषय पर चर्चा नहीं करेंगी।

3. किसी ऐसे व्यक्ति से बात करें जिस पर आप भरोसा करती हैं - यह आपका साथी, परिवार का सदस्य या मित्र हो सकता है। इस बातचीत में अपने साथी को शामिल करना सहायक हो सकता है, क्योंकि उन्होंने भी नुकसान का अनुभव किया है।

4. अपनी भावनाओं को उन गतिविधियों से जिनमें आप सबसे ज्यादा सहज हों जैसे- लेखन, कला या अन्य रचनात्मक गतिविधियों के माध्यम से, व्यक्त करें।

5. वे धार्मिक क्रियाएं चुनें जो आपको अपने नुकसान को स्वीकार करने और चिन्हित करने में मदद करती हों, और आपके दुःख के माध्यम से काम करने का एक तरीका ढूंढने में मदद करती हों।

यह 'सिर्फ उदासी' से कहीं अधिक, कब होता है?

मां को बच्चे के नुकसान के बाद तीव्र भावनाओं का अनुभव करना पड़ता है, लेकिन अक्सर, दुःख की तीव्रता दो सप्ताह में धीमी पड़ जाती है, और मां शारीरिक और भावनात्मक रूप से बेहतर महसूस करती है। हालांकि, कुछ महिलाओं को उनके नुकसान के मामले में मदद की आवश्यकता हो सकती है, अगर वे महसूस करती हैं :

- नींद का स्वरूप बिगडनाः बहुत कम या अत्यधिक नींद

- अपराधबोध की भावनाएं निरंतर आना ('मैंने कुछ गलत किया होगा' या 'मैं इसके लिए दोषी हूं')

- दोहराव वाले विचार ('मुझे अब कभी बच्चा नहीं हो पाएगा')

- किसी के साथ नुकसान के बारे में बात करने में असमर्थता

- उदासीनता के अन्य लक्षण, दुख की घड़ियां, निराशा और अस्पष्ट शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं शामिल हैं

- मृत्यु या मरने के विचार

यदि आपको ये संकेत दो सप्ताह से अधिक नजर आएं तो, किसी हेल्पलाईन तक पहुंचें या परामर्शदाता से संपर्क करें।

वाइट स्वान फाउंडेशन
hindi.whiteswanfoundation.org